Home राजस्थान नागौर: जून 2021 तक जिले में 1100 से अधिक ढाणियां पेयजल सुविधा...

नागौर: जून 2021 तक जिले में 1100 से अधिक ढाणियां पेयजल सुविधा से जुड़ेंगी

0
नागौर: जून 2021 तक जिले में 1100 से अधिक ढाणियां पेयजल सुविधा से जुड़ेंगी

कुल 2538 करोड़ रुपये का व्यय किया जा चुका है।

राजस्थान में नागौर जिला क्षेत्रफल की दृष्टि से द्वितीय स्थान पर है। यह जिला प्रारंभ से ही फ्लोराइड की गंभीर समस्या से जूझ रहा था। इस समस्या से निजात दिलाने और नागौर की जनता को इन्दिरा गांधी नहर के शुद्ध पेयजल उप्लब्ध कराने के लिए नागौर लिफ्ट परियोजना के द्वितीय चरण स्वीकृत कराई गई थी। इसके तहत वर्ष 2012 में 2938 करोड़ की योजना और आवश्यक धन राशि की व्यवस्था हेतु जापान सरकार की एजेन्सी ‘जायका’ (जापान इंटरनेशनल कापोरेशन एजेन्सी) से अनुबंध किया गया।

इस योजना के तहत विभिन्न पैकेजों के अन्तर्गत 986 ग्रामों व 7 कस्बों को नहरी मीठे जल उपलब्ध कराने के लक्ष्य के विरूद्ध 490 ग्राम व 7 कस्बों को नहरी मीठा जल उपलब्ध करवाया जा चुका है। इसमें कुल 2538 करोड़ रुपये का व्यय किया जा चुका है। शेष ग्रामों को नहरी पेयजल उपलब्ध कराए जाने हेतु युद्ध स्तर पर कार्य किया जा रहा है। जिन्हें जून 2021 तक लाभान्वित किया जाना संभावित है।

परियोजना के मुख्य अभियंता ने बताया कि केन्द्र सरकार की जल जीवन मिशन योजना से पहले ही राज्य सरकार द्वारा नहरी योजना में नागौर जिले के 575 गांवों मे घर घर कनेक्शन (लगभग 1.60 लाख ) की योजना प्रारम्भ की जा चुकी है। वर्तमान तक 100 गांवों में लगभग 27000 घर-घर कनेक्शन दिए। 1.50 लाख जनता को मीठे पानी की आपूर्ति प्रारंभ कर दी गई है। इसके अतिरिक्त लगभग 70 ढाणियों को भी सार्वजनिक नल के द्वारा नहरी जल उपलब्ध करवाकर योजना से जोड़ा जा चुका है। जून 2021 तक लगभग 1178 ढाणियों को जोड़े जाने के लिए कार्य युद्ध स्तर पर प्रगतिरत है।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here