बैंक KYC प्रोसेस को करने जा रहे सख्त, एक से ज्यादा अकाउंट्स वाले कस्टमर्स का होगा मल्टीलेवल वेरिफिकेशन!

 0
बैंक KYC प्रोसेस को करने जा रहे सख्त, एक से ज्यादा अकाउंट्स वाले कस्टमर्स का होगा मल्टीलेवल वेरिफिकेशन!
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT

बैंक KYC प्रोसेस को करने जा रहे सख्त, एक से ज्यादा अकाउंट्स वाले कस्टमर्स का होगा मल्टीलेवल वेरिफिकेशन!

केवाईसी प्रक्रिया को बैंक और मजबूत करने की तैयारी में हैं. केवाईसी स्टैंडर्ड को सख्त बनाने के लिए बैंक अकाउंट्स और अकाउंट्स होल्डर्स की पहचान करने के लिए और भी वेरिफिकेशन लेयर्स को जोड़ने जा रहे हैं. योजना के मुताबिक एक फोन नंबर से जुड़े एक या उससे ज्यादा अकाउंट्स या फिर ज्वाइंट अकाउंट्स में केवाईसी को अपडेट किया जाएगा. एक से ज्यादा अकाउंट रखने वाले कस्टमर्स जिन्होंने अलग अलग डॉक्यूमेंट्स से खाता खोला है उनका बैंक और भी वेरिफिकेशन कर सकते हैं. 

मल्टीपल अकाउंट्स वाले कस्टमर्स का होगा वेरिफिकेशन!
इकोनॉमिक टाइम्स के हवाले से ये रिपोर्ट सामने आई है. बैंक के अधिकारी ने बताया कि ज्वाइंट अकाउंट्स के लिए पैन, आधार और यूनिक मोबाइल नंबर के तौर पर मल्टी लेवल सेकेंडरी आईडेंटीफायर्स पर गौर किया जा रहा है. आने वाले दिनों में मल्टीपल्स बैंक अकाउंट्स रखने वाले कस्टमर्स का ज्यादा वेरिफिकेशन किया जा सकता है और ऐसे खाताधारकों से बैंक केवाईसी के लिए ज्यादा डॉक्यूमेंट्स का डिमांड कर सकते हैं.  

केवाईसी नियमों की हो रही अनदेखी 
सरकार ने वित्त सचिव टीवी सोमानाथान की अध्यक्षता में कमिटी बनाया हुआ है जो पूरे फाइनेंशियल सेक्टर में केवाईसी नॉर्म्स को इंटरऑपरेबल सुनिश्चित करने पर गौर कर रहा है. इंडियन बैंक एसोसिएशन (IBA) ने फिटनेक कंपनियों की ओर से केवाईसी नियमों की अनदेखी करने का आरोप लगता रहा है. रेग्यूलेटरी और केवाईसी नियमों का पालन नहीं करने के चलते ही आरबीआई ने पेटीएम पेंमेंट्स बैंक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है. 

यूनिफॉर्म केवाईसी की तैयारी 
मौजूदा समय में बैंक खाता खोलने के लिए कस्टमर्स से पासपोर्ट, आधार, वोटर आईकार्ड, नरेगा कार्ड, पैन कार्ड, ड्राविंग लाइसेंस प्रूफ के तौर पर स्वीकार करते हैं. पर ज्वाइंट अकाउंट्स के मामले में बैंक मल्टी-लेवल आईडेंटिफायर्स के तौर पर पैन, आधार और यूनिक मोबाइल नंबर्स एक साथ डिमांड कर सकते हैं. हाल ही में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में हुई फाइनेंशियल स्टैबलिटी एंड डेवलपमेंट काउंसिल (FSDC) की बैठक में यूनिफॉर्म केवाईसी पर चर्चा की गई है.  

Banks are going to make KYC process stricter, customers with more than one account will have multilevel verification!

Banks are preparing to further strengthen the KYC process. To make KYC standards stricter, banks are going to add more verification layers to identify accounts and account holders. According to the plan, KYC will be updated in one or more accounts or joint accounts linked to one phone number. The bank can further verify the customers who have more than one account and have opened the account with different documents.

Customers with multiple accounts will be verified!
This report has come out quoting the Economic Times. The bank official said that multi-level secondary identifiers such as PAN, Aadhaar and unique mobile number are being considered for joint accounts. In the coming days, more verification can be done for customers having multiple bank accounts and banks can demand more documents for KYC from such account holders.

KYC rules are being ignored
The government has formed a committee under the chairmanship of Finance Secretary TV Somanathan which is looking into ensuring interoperable KYC norms across the financial sector. The Indian Banks Association (IBA) has been accusing fitness companies of ignoring KYC rules. Due to non-compliance of regulatory and KYC rules, RBI has taken strict action against Paytm Payments Bank.

Preparation for uniform KYC
At present, banks accept passport, Aadhaar, voter ID card, NREGA card, PAN card, driving license as proof from customers for opening an account. But in case of joint accounts, banks can demand PAN, Aadhaar and unique mobile numbers together as multi-level identifiers. Uniform KYC was discussed in the recent meeting of the Financial Stability and Development Council (FSDC) chaired by Finance Minister Nirmala Sitharaman.

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT