बेटी ने रोशन कर दिया सब्जी वाले का नाम, गांव में पढ़कर किया UPSC क्रैक

 0
बेटी ने रोशन कर दिया सब्जी वाले का नाम, गांव में पढ़कर किया UPSC क्रैक

बेटी ने रोशन कर दिया सब्जी वाले का नाम, गांव में पढ़कर किया UPSC क्रैक

नागौर.  राजस्थान में एक बेटी ने बगैर कोचिंग के वह कर दिखाया है। जो अच्छे अच्छे के बस की बात नहीं है। उन्हें कोचिंग करने के बाद भी ये एग्जाम क्लियर करने में पसीने छूट जाते हैं। अच्छी बात यह है कि यह महज एक सब्जी बेचने वाले की बेटी ने कर दिखाया है। उसने यूपीएससी क्रैक कर अपने माता पिता का नाम रोशन किया है।

गांव में की आठवीं तक पढ़ाई
हाल ही में यूपीएससी परीक्षाओं का परिणाम आया है। इन परीक्षाओं में सफल होने वाले कई ऐसे युवा हैं जो अभाव में पढ़ाई करने के बावजूद भी टॉप रैंकिंग में रहे हैं। इनमें से ही एक राजस्थान के नागौर जिले के मोडीकला गांव में रहने वाली मृणालिका राठौर है। मृणालिका के पिता सब्जी बेचते हैं और मां भी गांव में रहती है।‌ बेटी ने 125 वी रैंक हासिल की है । यह उनका चौथा अटेम्प्ट था। शुरुआत के तीन अटेम्प्ट में तो मृणालिका ने प्री परीक्षा भी पास नहीं कर सकी थी।

गांव में रहकर की पढ़ाई
प्रणालीका ने बताया कि आठवीं तक गांव में रहकर पढ़ाई की। उसके बाद कक्षा 9 से 12 तक जयपुर में सीबीएसई स्कूल में पढ़ाई की। 12वीं की परीक्षा में जिला टॉप किया। उसके बाद दिल्ली के श्री राम कॉलेज से पढ़ाई की। कोचिंग किए बिना यूपीएससी पास करने की जिद्दी थी , लेकिन यह जिद तीन बार में भी पूरी नहीं हो सकी।


बगैर कोचिंग मिली सफलता
परिवार ने कहा कि वह कोचिंग ज्वाइन कर लें, लेकिन मृणालिका ने कहा कि वह बिना कोचिंग किए ही एग्जाम पास करेगी। आखिर उसने यूपीएससी परीक्षा पास कर ली है और उसके 125 भी रैंक बनी है। जयपुर जिले में और नागौर जिले में परिवार के लोग खुशी में डूबे हुए हैं मृणालिका ने कहा माता-पिता गांव के रहने वाले हैं। कम पढ़े लिखे हैं लेकिन उन्होंने मेरी पढ़ाई में कभी कोई कसर नहीं छोड़ी। मेरा दायित्व था कि मैं उनका विश्वास कायम रखूं..…..।

यह खबर भी पढ़ें:-



Daughter made the vegetable seller famous, cracked UPSC after studying in the village

Nagaur. A daughter in Rajasthan has done that without any coaching. Which is not just a matter of the good ones. Even after coaching them, they still struggle to clear these exams. The good thing is that this has been done by just a vegetable seller's daughter. He has made his parents proud by cracking UPSC.

Studied till eighth standard in village
Recently the results of UPSC examinations have come. There are many youth who are successful in these examinations and have remained in the top ranking despite studying poorly. One of them is Mrinalika Rathore, living in Modikala village of Nagaur district of Rajasthan. Mrinalika's father sells vegetables and mother also lives in the village. The daughter has secured 125th rank. This was his fourth attempt. Mrinalika could not even pass the pre-examination in her first three attempts.

study while living in village
Pranalika told that she studied in the village till eighth standard. After that studied in CBSE school in Jaipur from class 9 to 12. Topped the district in 12th examination. After that he studied from Shri Ram College, Delhi. She was adamant to pass UPSC without coaching, but this insistence could not be fulfilled even in three attempts.


Success without coaching
The family suggested that she join coaching, but Mrinalika said that she would pass the exam without coaching. After all, he has passed the UPSC exam and has got 125 rank. Family members in Jaipur district and Nagaur district are immersed in happiness. Mrinalika said that the parents are residents of the village. He is less educated but he never left any stone unturned in my studies. It was my responsibility to maintain his trust…..