इस राज्य में दाढ़ी रखने वाले दूल्हे को नहीं मिलेगी दुल्हन, शादी से पहले पढ़ लें यह खबर

 0
इस राज्य में दाढ़ी रखने वाले दूल्हे को नहीं मिलेगी दुल्हन, शादी से पहले पढ़ लें यह खबर
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT

इस राज्य में दाढ़ी रखने वाले दूल्हे को नहीं मिलेगी दुल्हन, शादी से पहले पढ़ लें यह खबर

 राजस्थान को आप हमेशा शाही शादियों के लिए तो जानते ही होंगे। लेकिन शादियों में होने वाली फिजूलखर्ची को रोकने के लिए भी यहां के हमेशा आगे रहते हैं। ऐसा ही कुछ किया है उदयपुर के मेनारिया समाज के लोगों ने। जिन्होंने निर्णय किया है कि शादी के दौरान दूल्हे को अपनी दाढ़ी पूरी साफ यानि क्लीन शेव रखनी होगी। इतना ही नहीं शादी के दौरान डीजे नहीं बजेगा और न ही शादी के पहले कोई प्री वेडिंग शूट होगा।

शादी में 11 पग और इतनी साड़ियां मिलेंगी...
दरअसल समाज की ओर से एक बैठक बुलाई गई जिसमें यह निर्णय किया गया। वही शादी या फिर मुकलावे के दौरान परिवार के अलावा अन्य किसी को पहरावनी नहीं देने का भी निर्णय इस बैठक में हुआ। और शादी के दौरान दिए जाने वाले मेरे में 11 पाग और इतनी ही साड़ियां दी जाएगी।

दूल्हा-दुल्हन को लिफाफा देने की प्रथा भी बंद
शादी से जुड़े फैसलों के अलावा निर्णय किए गए हैं कि मांगलिक कार्यक्रमों में परिवार के अन्य लोगों को लिफाफा देने की प्रथा बंद रहेगी। इतना ही नहीं शादी के दौरान पशुओं को नाचना पर भी प्रतिबंध रहेगा और दूल्हा मेवाड़ी परिधान में ही नजर आएगा।

फिजूलखर्ची रोकने के लिए समाज ने लिया फैसला
समाज के पदाधिकारियों का कहना है कि वर्तमान में बदलते जा रहे युग में धीरे-धीरे परिवारों में रिश्ते कमजोर होना शुरू हो चुके हैं। देखादेखी की होड़ में काम करने के लिए व्यक्ति पर कर्ज बढ़ता चला जाता है। इसके लिए यह सभी निर्णय किए गए हैं।

In this state, groom having beard will not get bride, read this news before marriage

You must have always known Rajasthan for royal weddings. But the people here are always at the forefront to stop wasteful expenditure in weddings. People of Menaria community of Udaipur have done something similar. Who have decided that during the marriage the groom will have to keep his beard completely clean i.e. clean shaven. Not only this, DJ will not play during the wedding nor will there be any pre-wedding shoot before the wedding.

11 steps and so many sarees will be available in the wedding...
Actually, a meeting was called by the society in which this decision was taken. It was also decided in this meeting not to give attire to anyone other than the family during the wedding or Muklava. And during the marriage, 11 Paag and the same number of sarees will be given.

The practice of giving envelopes to the bride and groom also stopped
Apart from the decisions related to marriage, it has been decided that the practice of giving envelopes to other family members in Manglik programs will be stopped. Not only this, there will be a ban on dancing animals during the wedding and the groom will be seen in Mewari attire only.

Society took decision to stop wasteful expenditure
The officials of the society say that in the present changing era, the relations in the families have gradually started weakening. In the rush to work, a person's debt keeps increasing. All these decisions have been taken for this.

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT