नई महामारी का खतरा! China के अंदर बच्चों में फैल रही रहस्यमयी बीमारी, School बंद करने की तैयारी

 0
नई महामारी का खतरा! China के अंदर बच्चों में फैल रही रहस्यमयी बीमारी, School बंद करने की तैयारी
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT

नई महामारी का खतरा! China के अंदर बच्चों में फैल रही रहस्यमयी बीमारी, School बंद करने की तैयारी

कोरोना का कहर देखने के बाद अब लोग महामारी के नाम से भी डरने लगे हैं. ऐसे समय एक नई महामारी का खतरा फिर सताने लगा है. इस बीमारी के फैलने की शुरुआत भी कोविड-19 की तरह चीन से ही हो रही है. चीन के कई अस्पतालों में इस रहस्यमयी बीमारी के मरीज देखे गए हैं, जो तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. इस पर रिपोर्ट्स आने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की चिंता भी बढ़ गई है. यह बीमारी खसतौर पर स्कूली बच्चों में देखी जा रही है.

चीन सहित दुनिया के कई देश अब भी कोरोना से पूरी तरह नहीं उबर पाए हैं. ऐसे में अब लोगों को वह समय याद आने लगा है, जब कोरोना शुरुआती दौर में था. वैसे तो इस महामारी को निमोनिया से मिलता-जुलता बताया जा रहा है, लेकिन इसके कई लक्षण निमोनिया से अलग हैं. इसकी चपेट में आने वाले बच्चों के फेफड़ों में सूजन देखी जा रही है. वहीं, उन्हें तेज बुखार के साथ खांसी, फ्लू और सांस लेने में परेशानी जैसी समस्याओं को सामना भी करना पड़ रहा है.

चीन में बच्चों पर ही नजर आ रहा ज्यादा प्रभाव
रहस्यमयी निमोनिया से जुड़े ज्यादातर मरीज चीन के उत्तर-पूर्वी बीजिंग और लियाओनिंग के अस्पतालों में देखे जा रहे हैं. हालत इतनी ज्यादा खराब है कि संसाधनों पर काफी दबाव पड़ने लगा है. बीमारी का प्रकोप इतना ज्यादा है कि सरकार ने यहां स्कूल बंद करने की तैयारी कर ली है. इस बीमारी को लेकर एक ओपन-एक्सेस निगरानी प्रोमेड अलर्ट ने दुनियाभर में चेतावनी जारी की है. दरअसल, यह मंच पूरी दुनिया में इंसान और जानवरों में होने वाली बीमारियों पर नजर बनाए रखता है. चीन में सामने आए रहस्यमी निमोनिया के बारे में चेतावनी देते हुए इस संस्था ने कहा है कि इस बीमारी का प्रकोप खासतौर पर बच्चों पर ही देखा जा रहा है.

इस एजेंसी ने ही जारी किया था कोविड का अलर्ट

प्रोमेड (proMED) अलर्ट ने ही दिसंबर 2019 के अंत में एक नए वायरस के बारे में शुरुआती चेतावनी जारी की थी, जिसे बाद में SARS-कोविड-2 के रूप में पहचाना गया. संस्था के अलर्ट से ही विश्व स्वास्थ्य संगठन के हाई-रैंकिंग ऑफिसर और मेडिकल प्रोफेशनल के साथ-साथ वैज्ञानिकों की एक बड़ी जमात अलर्ट हो गई थी. अलर्ट जारी करने वाली संस्था प्रोमेड अलर्ट ने बताया कि उन्होंने एक अज्ञात बीमारी के बारे में अलर्ट जारी किया है, जो खासतौर पर श्वसन क्रिया को प्रभावित करती है. हालांकि, एजेंसी ने यह भी कहा है कि उन्हें स्पष्ट नहीं है कि इस प्रकोप की शुरुआत कब से हुई. संस्था ने यह भी कहा कि इतने सारे बच्चे एक साथ इतनी जल्दी प्रभावित नहीं हो सकते. रिपोर्ट में यह भी नहीं कहा गया कि इस बच्चे से कोई वयस्क प्रभावित हुआ है.

WHO को जारी करना पड़ा बयान, कही ये बात

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इस बीमारी की चौंकाने वाली रिपोर्ट्स सामने आने के बाद चीन से विस्तृत जानकारी देने का अनुरोध किया है. WHO ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि इस बीमारी के बारे में चीन ने 13 नवंबर 2023 को स्थानी मीडिया को बताया था. स्वास्थ्य एजेंसी ने चीन से इस बीमारी से जुड़े मामलों पर कड़ी निगरानी रखने के लिए कहा है. WHO ने बताया है कि 21 नवंबर को प्रोमेड ने उत्तरी चीन में फैल रही इस बीमारी के बारे में सूचना दी. WHO चीन से इस बीमारी के बारे में और अधिक जानकारी चाहता है

Danger of new epidemic! Mysterious disease spreading among children in China, preparation to close schools

After seeing the havoc of Corona, now people have started fearing even the name of the epidemic. At such a time, the threat of a new epidemic has started troubling us again. Like Covid-19, the spread of this disease is also starting from China. Patients of this mysterious disease have been seen in many hospitals of China, whose number is increasing rapidly. After reports on this, the concern of the World Health Organization (WHO) has also increased. This disease is especially seen in school children.

Many countries of the world including China have still not fully recovered from Corona. In such a situation, now people have started remembering the time when Corona was in the initial stages. Although this epidemic is being said to be similar to pneumonia, but many of its symptoms are different from pneumonia. Swelling is being seen in the lungs of children affected by it. At the same time, along with high fever, they are also facing problems like cough, flu and difficulty in breathing.

In China, most of the impact is visible on children only.
Most of the patients associated with mysterious pneumonia are being seen in hospitals in north-eastern China, Beijing and Liaoning. The situation is so bad that there is a lot of pressure on resources. The outbreak of the disease is so severe that the government has made preparations to close schools here. ProMed Alert, an open-access monitoring system, has issued a worldwide warning about the disease. Actually, this platform keeps an eye on diseases occurring in humans and animals all over the world. Warning about the mysterious pneumonia that has emerged in China, this organization has said that the outbreak of this disease is being seen especially in children.

This agency itself had issued Covid alert

proMED Alert itself issued an early warning in late December 2019 about a new virus, which was later identified as SARS-CoV-2. Due to the alert of the organization, high-ranking officers and medical professionals of the World Health Organization as well as a large group of scientists were alerted. ProMed Alert, the organization that issued the alert, said that they have issued an alert about an unknown disease, which especially affects the respiratory system. However, the agency has also said that it is not clear when this outbreak started. The organization also said that so many children cannot be affected together so quickly. The report also did not say that any adult had been affected by this child.

WHO had to issue a statement, said this

The World Health Organization (WHO) has requested China to provide detailed information after shocking reports of this disease surfaced. WHO said in the press conference that China had told the local media about this disease on 13 November 2023. The health agency has asked China to keep a close watch on the cases related to this disease. WHO has said that on November 21, ProMed reported about this disease spreading in North China. WHO wants more information about this disease from China

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT