पेपर लीक बना नासूर! राजस्थान में सबसे अधिक, यहाँ देखें पूरे देश में कहां-कब हुई परीक्षा की शुचिता

 0
पेपर लीक बना नासूर! राजस्थान में सबसे अधिक, यहाँ देखें पूरे देश में कहां-कब हुई परीक्षा की शुचिता
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT

पेपर लीक बना नासूर! राजस्थान में सबसे अधिक, यहाँ देखें पूरे देश में कहां-कब हुई परीक्षा की शुचिता

सरकारी नौकरी प्राप्ति का सपना हर उम्मीदवार देखता है, जिसके लिए वह सालों तक मेहनत और घंटों तक पढ़ाई करता है। उम्मीद के साथ परीक्षा में बैठता है कि वह अन्य उम्मीदवारों से बेहतर प्रदर्शन करके सफल होगा, लेकिन पेपर लीक की घटनाएं उनके हौसले को तोड़ देती हैं। पेपर लीक, नौकरी के लिए योग्य उम्मीदवारों को बाधित कर देता है, जो कि गलत है और अवैध है। इस समस्या का समाधान करने के लिए केंद्र सरकार ने लोकसभा में पेपर लीक के खिलाफ बिल पेश किया है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 5 सालों में भारत के 15 राज्यों में पेपर लीक के मामले सामने आए हैं। करीबन 41 नौकरी भर्ती परीक्षाओं में परीक्षा से पहले पेपर लीक हो गया था, जिससे ना जाने कितने उम्मीदवारों के सपने टूटे हैं और उन्हें दोबारा परीक्षा का इंतजार करना पड़ा है।

राजस्थान में सबसे अधिक पेपर लीक के मामले हुए हैं। डेटा के अनुसार, तेलंगाना और मध्यप्रदेश में 5 परीक्षाओं के पेपर लीक हुए हैं। तेलंगाना की इन 5 परीक्षाओं में 3,770 पद पर भर्ती होनी थी, जिसके लिए 6 लाख 74 हजार कैंडिडेट्स पेपर देने वाले थे, लेकिन उससे पहले ही पेपर आउट हो गया था। वहीं, मध्यप्रदेश की 5 परीक्षाओं में कुल 3,690 पदों पर आवेदन मांगे गए थे, जिसमें 1 लाख 64 हजार अभ्यर्थी परीक्षा में बैठने वाले थे। इसके अलावा, जम्मू-कश्मीर में 3 परीक्षाओं के पेपर लीक हो चुके हैं। आइए जानते हैं पिछले 5 सालों में भारत के किन राज्यों में पेपर लीक के कितने मामले सामने आए हैं।

राज्य पेपर लीक घटनाएं

पोस्ट

कैंडिडेट्स
जम्मू कश्मीर 3 2,330 2,49,000
हरियाणा 2 6,980 8,41,000
उत्तराखंड 4 1,800 2,37,000
अरुणाचल प्रदेश 1 30 4,000
उत्तर प्रदेश 1 3,330 19,00,000
असम 1 590 66,000
राजस्थान 7 40,590 38,41,000
गुजरात 3 5,260 16,41,000
महाराष्ट्र 2 6,560 11,25,000
कर्नाटक 2 1,660 3,34,000
तेलंगाना 5 3,770 6,74,000
ओडिशा 1 1000 5000
झारखंड 1 2,010 6,50,000
बिहार 3 24,380 22,87,000


   
   
   

Paper leak becomes canker! Highest in Rajasthan, see here where and when the purity of examination took place in the entire country

Every candidate dreams of getting a government job, for which he works hard and studies for years. He sits for the examination with the hope that he will succeed by performing better than other candidates, but incidents of paper leak break his courage. Paper leak hinders qualified candidates from getting a job, which is wrong and illegal. To solve this problem, the Central Government has introduced a bill against paper leaks in the Lok Sabha.

According to the report of Indian Express, cases of paper leaks have been reported in 15 states of India in the last 5 years. In about 41 job recruitment examinations, the paper was leaked before the examination, due to which the dreams of many candidates have been shattered and they had to wait for the examination again.

Rajasthan has had the highest number of paper leak cases. According to the data, papers of 5 exams have been leaked in Telangana and Madhya Pradesh. In these 5 examinations of Telangana, recruitment was to be done on 3,770 posts, for which 6 lakh 74 thousand candidates were going to appear, but the paper was out even before that. At the same time, applications were invited for a total of 3,690 posts in 5 examinations of Madhya Pradesh, in which 1 lakh 64 thousand candidates were going to appear in the examination. Apart from this, papers of 3 examinations have been leaked in Jammu and Kashmir. Let us know how many cases of paper leaks have been reported in which states of India in the last 5 years.

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT