हनीट्रैप में फंसे पुलिस इंस्पेक्टर और कांस्टेबल ने गवाएं लगभग 1 करोड़ रुपए, अब ऐसे हत्थे चढ़ा सेक्स रैकेट

 0
हनीट्रैप में फंसे पुलिस इंस्पेक्टर और कांस्टेबल ने गवाएं लगभग 1 करोड़ रुपए, अब ऐसे हत्थे चढ़ा सेक्स रैकेट
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT

हनीट्रैप में फंसे पुलिस इंस्पेक्टर और कांस्टेबल ने गवाएं लगभग 1 करोड़ रुपए, अब ऐसे हत्थे चढ़ा सेक्स रैकेट

यहाँ एक पुलिस इंस्पेक्टर और एक कांस्टेबल के खिलाफ हनीट्रैप के मामले का जिक्र किया गया है। दोनों कर्मचारियों ने बताया है कि एक महिला गैंग ने उन्हें हनीट्रैप में फंसाया और उनके खिलाफ फोटो और वीडियो बनाया, जिसके बाद वे उन्हें दुष्कर्म के मामले में फंसाने की धमकी दी। मामले में, सीआई महेंद्र कुमार के खिलाफ करीब 90 लाख रुपए और कांस्टेबल रोहिताश के खिलाफ करीब 6 लाख रुपए के हड़पने का आरोप लगाया गया है।

पुलिसकर्मियों ने महिला और उसके 8 साथियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज होने के बाद महिला के घर में तलाशी की और उसके बाद ब्लैकमेल से संबंधित दस्तावेज मिलने पर महिला, उसके भाई और बहन को हिरासत में लेकर पुलिस ने पूछताछ शुरू की है।

प्रकरण के अनुसार, सीआई महेंद्र कुमार डीग पुलिस जिले में पोस्टेड हैं, जबकि कांस्टेबल जयपुर ग्रामीण के जोबनेर थाने में पोस्टेड हैं। पहले, एक महिला आरोपी पूर्व में अरावली विहार थाने में पोस्टेड रहे एएसआई रामजीत को रेप के मामले में गिरफ्तार करवाया गया था, और उसे दोषी पाया गया था। कोर्ट ने उसे दोषी मानते हुए 10 साल की सजा सुनाई थी।

CI महेंद्र कुमार के अनुसार, 2022 में महिला उनके संपर्क में सोशल मीडिया के जरिए आई थी। इसके बाद, अन्य माध्यमों के माध्यम से कई बार उसकी बातचीत हुई, और उसके बाद मिलना जुलना शुरू हुआ। अलवर आने के बाद, महिला के साथ बातचीत शुरू हुई, और महिला ने इस दौरान उनके साथ फोटो और वीडियो बना लिए, जिसके बाद महिला ने रेप के मुकदमे में फंसने की धमकी देकर उन्हें ब्लैकमेल शुरू कर दिया।

उपर्युक्त जानकारी के अनुसार, महिला द्वारा रूपए मांगे जाने के बाद बैंकिंग सिस्टम के माध्यम से करीब 50 लाख रुपए का चेक और ट्रांसफर के जरिए महिला को दिए गए हैं, जबकि और 40 लाख रुपए को नगद उधार देकर दिए गए हैं। इसके साक्ष्य पुलिस निरीक्षक के द्वारा रिपोर्ट के साथ पुलिस को प्रस्तुत किए गए हैं, जिसमें अन्य लोगों से रकम उधारी के साक्ष्य भी शामिल हैं। इसी तरह, कांस्टेबल रोहिताश द्वारा भी करीब 6 लाख रुपए से अधिक की राशि महिला को दी गई है, जिसमें बैंक की सिस्टम और नगर में शामिल है। फिलहाल, पुलिस ने आठ आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू की है।


   
   
   

Police inspector and constable trapped in honeytrap lost approximately Rs 1 crore, now sex racket caught like this

A honeytrap case against a police inspector and a constable is mentioned here. Both the employees have told that a female gang honey-trapped them and made photos and videos against them, after which they threatened to implicate them in a rape case. In the case, CI Mahendra Kumar has been charged with embezzlement of around Rs 90 lakh and constable Rohitash has been charged with embezzlement of around Rs 6 lakh.

Policemen have registered a case against the woman and her 8 associates. After the case was registered, the police searched the woman's house and after finding documents related to blackmail, the police took the woman, her brother and sister into custody and started questioning.

According to the case, CI Mahendra Kumar is posted in Deeg police district, while the constable is posted in Jobner police station of Jaipur Rural. Earlier, a woman accused, ASI Ramjit, formerly posted at Aravali Vihar police station, was arrested in a rape case, and he was found guilty. The court found him guilty and sentenced him to 10 years imprisonment.

According to CI Mahendra Kumar, the woman came in contact with him through social media in 2022. After this, he had several conversations through other mediums, and after that the meeting started. After coming to Alwar, a conversation started with the woman, and during this time the woman made photos and videos with him, after which the woman started blackmailing him by threatening to get involved in a rape case.

According to the above information, after the woman asked for money, about Rs 50 lakh was given to the woman through check and transfer through the banking system, while another Rs 40 lakh was given as cash loan. Evidence of this has been presented to the police by the police inspector along with the report, which also includes evidence of borrowing money from other people. Similarly, an amount of more than Rs 6 lakh has been given to the woman by Constable Rohitash, which includes the money in the bank's system and the city. At present, the police have registered a case against eight accused and started investigation.

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT