नई गाइडलाइन्स के तहत, कोचिंग इंडस्ट्री में बदलाव की तैयारी; कम आयु के छात्रों को नहीं मिलेगा एडमिशन, कक्षा 10 के बाद प्रवेश की अनुमति

 0
नई गाइडलाइन्स के तहत, कोचिंग इंडस्ट्री में बदलाव की तैयारी; कम आयु के छात्रों को नहीं मिलेगा एडमिशन, कक्षा 10 के बाद प्रवेश की अनुमति
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT

नई गाइडलाइन्स के तहत, कोचिंग इंडस्ट्री में बदलाव की तैयारी; कम आयु के छात्रों को नहीं मिलेगा एडमिशन, कक्षा 10 के बाद प्रवेश की अनुमति

सरकार ने नई गाइडलाइन्स जारी की हैं जो कोटा की कोचिंग इंडस्ट्री को एक बड़ा बदलाव का सामना करना पड़ सकता है। इन गाइडलाइन्स के तहत, 16 साल से कम उम्र के छात्रों को कोचिंग में एडमिशन नहीं मिलेगा, और कक्षा 10 के बाद ही छात्र कोचिंग में जा सकेगा। यह नए निर्देश छात्रों के लिए राहत का कारण बन सकते हैं, लेकिन कोचिंग संस्थानों को इस पर अभियंत्रित होना हो सकता है।


1. रजिस्ट्रेशन आयु सीमा: नई गाइडलाइन्स के अनुसार, 16 साल से कम के बच्चों को कोचिंग में एडमिशन नहीं मिलेगा। यह बच्चों को पढ़ाई में शुरुआत करने के लिए एक आधिकारिक आयु निर्धारित करता है और उन्हें राजनीतिक दबाव से बचाता है।

2. बच्चों की तैयारी की उम्र: नई गाइडलाइन्स के अनुसार, छात्रों को कोचिंग में जाने की अनुमति केवल कक्षा 10 के बाद ही होगी, जिससे उन्हें शिक्षा में सामान्यता प्राप्त होगी और उन्हें अधिक विकल्प मिलेंगे।

3. आत्महत्या के मामलों पर नजर: यह गाइडलाइन्स आत्महत्या के मामलों को देखते हुए बच्चों की सुरक्षा में वृद्धि करने का प्रयास कर रही हैं, और इससे ऐसे मामलों को कम करने का प्रयास हो सकता है।

4. स्थानीय शिक्षा पर बल: गाइडलाइन्स ने यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया है कि स्थानीय शिक्षा से बच्चों को उच्च शिक्षा की सुविधा मिले, जिससे वे अपनी पढ़ाई को आगे बढ़ा सकें।

5. छात्र-अभिभावक के बीच संवाद: नई गाइडलाइन्स ने हर 3 महीने में पेरेंट्स टीचर मीटिंग की अनिवार्यता को बढ़ावा दिया है, जिससे छात्रों की प्रगति पर निगरानी बनी रह सकती है।

6. स्टूडेंट की अटेंडेंस: गाइडलाइन्स ने स्टूडेंट्स की अटेंडेंस पर पूरी नजर रखने का प्रयास किया है, जिससे उनकी नियमित पढ़ाई को सुनिश्चित किया जा सकता है।

7. फीस रिफंड: गाइडलाइन्स ने फीस रिफंड के मामले में नियम बनाए हैं, जिससे छात्रों और उनके परिवारों को न्याय मिल सकता है।

इन गाइडलाइन्स के परिणामस्वरूप, कोटा की कोचिंग इंडस्ट्री को समस्याएं तो पैदा हो सकती हैं, लेकिन ये उन्हें सुरक्षित और न्यायपूर्ण बनाने का प्रयास कर रही हैं।

Under the new guidelines, preparation for changes in the coaching industry; Underage students will not get admission, admission will be allowed after class 10th

The government has issued new guidelines which may cause a major change in the coaching industry of Kota. Under these guidelines, students below 16 years of age will not get admission in coaching, and students will be able to go to coaching only after class 10. These new instructions may be a relief to the students, but the coaching institutes may have to be cautious on this.


1. Registration age limit: According to the new guidelines, children below 16 years of age will not get admission in coaching. It sets an official age for children to start studying and protects them from political pressure.

2. Preparatory age of children: According to the new guidelines, students will be allowed to go to coaching only after class 10, which will give them generality in education and give them more options.

3. Keeping an eye on suicide cases: These guidelines are an attempt to increase the safety of children by keeping an eye on suicide cases, and this may try to reduce such cases.

4. Emphasis on local education: The guidelines have attempted to ensure that children get access to higher education through local education, so that they can pursue their studies.

5. Student-Parent Communication: The new guidelines have mandated parent-teacher meetings every 3 months, so that students' progress can be monitored.

6. Student Attendance: The guidelines have made an effort to keep a close watch on the attendance of the students, so that their regular studies can be ensured.

7. Fee Refund: The guidelines have made rules in the matter of fee refund, so that students and their families can get justice.

As a result of these guidelines, Kota's coaching industry may face problems but is trying to make them safe and fair.

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT