दो ब्रह्माकुमारी बहनों ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- योगी जी इन्हें आसाराम की तरह जिंदगी भर जेल में रखो

 0
दो ब्रह्माकुमारी बहनों ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- योगी जी इन्हें आसाराम की तरह जिंदगी भर जेल में रखो

'योगी जी इन्हें आसाराम की तरह जेल में रखें'... सुसाइड नोट में छलका बहनों का दर्द, महिला समेत चार पर लगे आरोप

शुक्रवार देर रात ब्रह्मकुमारी आश्रम में दो बहनों ने आत्महत्या कर ली। मृतक एकता और शिखा ने आत्महत्या से पहले चार पेज का सुसाइड नोट लिखा था। शिखा ने एक पेज पर ही अपनी पूरी बात लिख दी। जबकि एकता द्वारा लिखा गया सुसाइड नोट तीन पेज का था। जिसमें उन्होंने आश्रम के चार लोगों पर आरोप लगाए हैं।

ब्रह्मकुमारी आश्रम में रहने वाले दो सगी बहनों ने आत्महत्या से पहले लिखे सुसाइड नोट में आश्रम से जुड़े तीन लोगों और एक महिला का काला चिट्ठा खोल दिया। इसमें रुपये हड़पने से लेकर अन्य अनैतिक गतिविधियों का पर्दाफाश किया गया है।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ को संबाेधित करते हुए लिखा कि आरोपितों को आशाराम बापू की तरह ही आजीवन कारावास दिया जाए। सुसाइड नोट के तथ्यों के आधार पर पुलिस मामले की जांच कर रही है। जिन लोगों का सुसाइड नोट में नाम लिखा है, उनसे पुलिस पूछताछ करेगी।

तीन पेज का लिखा सुसाइड नोट
ब्रह्मकुमारी आश्रम जगनेर में रह रही एकता और शिखा ने आत्महत्या से पहले चार पेज का सुसाइड नोट लिखा था। शिखा ने एक पेज पर ही अपनी पूरी बात लिख दी। जबकि एकता द्वारा लिखा गया सुसाइड नोट तीन पेज का था। शिखा ने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि दोनाें बहनें एक वर्ष से परेशान थीं। उनकी मौत के लिए नीरज सिंघल, धौलपुर के ताराचंद, नीरज के पिता और ग्वालियर आश्रम में रहने वाली एक महिला जिम्मेदार है।

इन चारों ने हमारे साथ गद्दारी की...
शिखा ने अपने सुसाइड नोट में मौत के जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग की है। एकता ने सुसाइड नोट में पूरे मामले का पर्दाफाश किया है। इसमें लिखा है कि नीरज ने उनके साथ सेंटर में रहने का आश्वासन दिया था । सेंटर बनने के बाद उसने बात करना बंद कर दिया। एक साल से हम बहनें रोती रहीं, लेकिन उसने नहीं सुनी। उसका साथ उसके पिता, ग्वालियर आश्रम में रहने वाली महिला और ताराचंद ने दिया। पंद्रह साल तक साथ रहने के बाद भी ग्वालियर वाली महिला से संबंध बनाता रहा। इन चारों ने हमारे साथ गद्दारी की।

'Yogi ji, keep him in jail like Asaram'... Sisters' pain expressed in suicide note, allegations against four including woman

Two sisters committed suicide in Brahma Kumari Ashram late on Friday night. Deceased Ekta and Shikha had written a four-page suicide note before committing suicide. Shikha wrote her entire statement on one page only. Whereas the suicide note written by Ekta was of three pages. In which he has made allegations against four people of the ashram.

Two real sisters living in the Brahma Kumari Ashram, in the suicide note written before committing suicide, exposed the dark secrets of three people and a woman associated with the Ashram. In this, everything from embezzlement of money to other unethical activities has been exposed.

Along with this, while addressing Chief Minister Yogi Adityanath, he wrote that the accused should be given life imprisonment like Asharam Bapu. Police are investigating the case based on the facts of the suicide note. The police will interrogate those whose names are written in the suicide note.

Three page written suicide note
Ekta and Shikha, living in Brahmakumari Ashram Jagner, had written a four-page suicide note before committing suicide. Shikha wrote her entire statement on one page only. Whereas the suicide note written by Ekta was of three pages. Shikha wrote in her suicide note that both the sisters were troubled for a year. Neeraj Singhal, Tarachand of Dholpur, Neeraj's father and a woman living in Gwalior Ashram are responsible for his death.

These four betrayed us...
In her suicide note, Shikha has demanded action against those responsible for the death. Ekta has exposed the entire matter in the suicide note. It is written in it that Neeraj had assured to stay with him in the centre. After becoming the center he stopped talking. We sisters kept crying for a year, but he did not listen. He was supported by his father, the woman living in Gwalior Ashram and Tarachand. Even after living together for fifteen years, he continued to have a relationship with a woman from Gwalior. These four betrayed us.