खाटू श्याम के दर्शन के नियम में बदलाव: 34 KM पैदल यात्रा अब अनिवार्य 

 0
खाटू श्याम के दर्शन के नियम में बदलाव: 34 KM पैदल यात्रा अब अनिवार्य 
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT ADVERTISEMENT

खाटू श्याम के दर्शन के नियम में बदलाव: 34 KM पैदल यात्रा अब अनिवार्य 

राजस्थान में खाटू श्याम के दर्शन करने के लिए जाने वाले भक्तों के लिए नियमों में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव किए गए हैं। इस बार के मेले में भक्तों को खाटू श्याम के दर्शन के लिए 34 किमी तक पैदल चलना होगा।

होली से पहले आने वाले 15 दिनों के मेले में खाटू श्याम के दर्शन करने के लिए अब भक्तों को 17 किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ेगा। जो भक्त रिंगस की तरफ से आ रहे हैं, उन्हें करीब 34 किलोमीटर की पैदल यात्रा करनी होगी। इसके साथ ही, वाहनों को भी रोका जाएगा ताकि अव्यवस्थाएं न हों।

मेले के दौरान बंद रहेगा श्याम कुंड, बुजुर्गों और दिव्यांगों के लिए अलग लाइन
मंदिर प्रबंधन ने इस बार भी व्यवस्थाओं के अनुरूप कदम उठाए हैं। इस बार भी श्याम कुंड में जो भक्त आएगा, उसको यहां ठहरने की अनुमति नहीं होगी। मेले के दौरान श्याम कुंड बंद रहेगा और वहां जाने वालों को पैदल ही जाना होगा। बुजुर्गों और दिव्यांगों के लिए अलग लाइन बनाई गई है, जो लगभग २५० मीटर की दूरी पर है।

मेले के दौरान करीब 50 से 70 लाख भक्त खाटू के दर्शन करते हैं। विदेशी भक्तों के लिए भी विशेष व्यवस्थाएं की जा रही हैं, ताकि सभी भक्त मात्रा और शुद्धता में सुखद अनुभव कर सकें।

Change in rules for darshan of Khatu Shyam: 34 KM walking journey now mandatory

Some important changes have been made in the rules for devotees visiting Khatu Shyam in Rajasthan. This time in the fair, devotees will have to walk 34 km to have darshan of Khatu Shyam.

Now devotees will have to walk 17 kilometers to have darshan of Khatu Shyam during the 15-day fair before Holi. Devotees who are coming from Ringas side will have to travel about 34 kilometers on foot. Along with this, vehicles will also be stopped so that there is no chaos.

Shyam Kund will remain closed during the fair, separate line for elderly and disabled
This time also the temple management has taken steps as per the arrangements. This time also the devotee who comes to Shyam Kund will not be allowed to stay here. Shyam Kund will remain closed during the fair and those going there will have to go on foot. A separate line has been made for the elderly and disabled, which is at a distance of about 250 meters.

Around 50 to 70 lakh devotees visit Khatu during the fair. Special arrangements are also being made for foreign devotees, so that all devotees can have a pleasant experience in quantity and purity.

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT