Home जोधपुर जोधपुर जेल से 16 कैदी फरार होने के मामले में मास्टरमाइंड गिरफ्तार

जोधपुर जेल से 16 कैदी फरार होने के मामले में मास्टरमाइंड गिरफ्तार

0

राजस्थान के जोधपुर संभाग के फलोदी कस्बे के उप कारागार से पांच अप्रैल को एक साथ फरार हुए 16 कैदियों के मामले में पुलिस को सफलता मिली है। जोधपुर ग्रामीण पुलिस ने फलोदी कस्बे के उप कारागार से कैदियों को फरार कराने के मुख्य साजिशकर्ता मनीष कुमार सारण विश्नोई को गिरफ्तार किया है। जोधपुर ग्रामीण पुलिस इस वारदात के मुख्य साजिशकर्ता को बीकानेर के बज्जू थाना क्षेत्र के फुलासर से दबोचा। पुलिस ने वारदात में प्रयोग की गई स्कॉर्पियो को भी बरामद किया है। आरोपित से पूछताछ जारी है। आरोपित मूलतः जैसलमेर के नोख थाना क्षेत्र के मदासर का मूल निवासी है। जोधपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक अनिल कयाल ने बताया कि पांच अप्रैल, 2021 को जिला जोधपुर के फलोदी कस्बे के उपकारागृह से 16 कैदी फरार हुए थे।

ये सभी विश्नोई जाति से संबंधित थे और अधिकांश पर मादक पदार्थ अधिनियम के तहत मामले विचाराधीन थे।

इसी को ध्यान में रखकर पुलिस ने अपनी पड़ताल प्रारंभ की थी। पुलिस ने जोधपुर रेंज महानिरीक्षक नवज्योति गोगाई के निर्देशन में जैसलमेर, बीकानेर, अजमेर और जोधपुर क्षेत्र में टीमों का गठन कर ए श्रेणी की नाकाबंदी करवाई। इसके अलावा घटना से जुड़े साक्ष्यों को जुटाकर पूरा डेटाबेस खंगाला। टीम द्वारा सूचना व तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर जेल से कैदी फरार करवाने की साजिश रचने वाले मुख्य सूत्रधार, षड्यंत्रकर्ता मनीष कुमार सारण पुत्र मानाराम सारण विश्नोई निवासी मदासर थाना नोख जिला जैसलमेर के बारें में संपर्ण डाटाबैस तैयार कर पहचान की गई। इसके बाद योजनाबद्ध तरीके से पुलिस ने आरोपित को ट्रेस किया और उसे बीकानेर के बज्जू थाना क्षेत्र के फुलासर गांव से दबोच लिया।

वरदात के मास्टरमाइंड मनीष विश्नोई ने ही 16 कैदियों को फरार करवाने से लेकर संपूर्ण घटना की पूर्ण रूपरेखा खुद तैयार की थी और कैदियों को दिशा निर्देश दिए थे। मनीष खुद स्कॉपियो लेकर कारागृह के बाहर खड़ा रहा। उसने ही उप कारागृह से कैदियों को फरार करवाने के लिए कैदियों की गाड़ी में बिठाकर तेज गति से विभिन्न कच्चे रास्तों से जोधपुर जिले से बाहर अलग-अलग स्थानों पर छोड़ा। इसके बाद अन्य अलग-अलग स्थानों पर कैदियों को छोड़ा गया। इसके बाद वह स्वयं बीकानेर के बज्जू थाना क्षेत्र में आ गया था। घटना के संबंध में पूछताछ की जा रही है ।

कुछ अन्य पर भी गिर सकती है गाज

पुलिस के अनुसार, जेल से कैदी भागने के मामले में लापरवाही को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। इस संबंध में पहले पांच लोगों को निलंबित किया जा चुका है। वहीं, कुछ अन्य जेल कर्मचारी पर भी संदेह है, जिनकी पड़ताल की जा रही है । शीघ्र ही उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। पुलिस के अनुसार, जेल से भागे कैदियों के बारे में भी जानकारी मिली है उनकी भी शीघ्र गिरफ्तारी कर ली जाएगी।

स्पेशल टीम ने पकड़ा मास्टरमाइंड को, होगी सम्मनित

जिला पुलिस अधीक्षक जोधपुर ग्रामीण अनिल कयाल द्वारा अपनी निकट सुपरविजन में विभिन्न टीमों का गठन किया गया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जैसलमेर विपिनचंद शर्मा के नेतृत्व में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जोधपुर ग्रामीण सुनील कुमार पंवार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक फलोदी दीपक कुमार, वृताधिकारी फलोदी पारस सोनी, थानाधिकारी फलोदी राकेश ख्यालिया सुरेश चौधरी , इमरान खान थानाधिकारी लोहावट, बाबूराम थानाधिकारी औसियां, नेमाराम थानाधिकारी मतौड़ा, मगाराम थानाधिकारी जाम्बा, राजेशकुमार थानाधिकारी चाखू, अमानाराम जिला स्पेशल टीम जोधपुर ग्रामीण व जैसलमेर स्पेशल टीम के साथ टीमें गठित की गईं। घटना का पर्दाफाश कर मुख्य साजिशकर्ता व सहयोगी को गिरफ्तार करने में मुख्य भूमिका निभाने वाले टीम प्रभारियों के साथ बस्ताराम, श् खुशालचंद, मुकेशबीरा, श्रवणकुमार, दमाराम, देवाराम, चिमनाराम, मोहनराम, भवानी चौधरी, गोपाल, सेठाराम, भगवानाराम, नरेशकुमार, रमेशकुमार ओमाराम, सुरेश डूकिया, खुमाणाराम, महेन्द्रकुमार, गिरार्ज मीणा, जीयाराम, भवंरलाल, रामसिंह, मामराज, शंकरलाल, राकेश, श्हिम्मतसिंह व श्री महेन्द्र को पुरस्कृत किया जाएगा।

स्कॉर्पियो जब्त

वारदात के मास्टर माइंड पुलिस ने पकड़ लिया है। घटना के संबंध में विस्तृत पूछताछ की जा रही है। स्कॉर्पियो को जब्त किया गया है। अन्य फरार 16 कैदियों व सहयोगियों के बारें में महत्वपूर्ण सूचनाएं टीम द्वारा प्राप्त की गई हैं, जिनको गठित टीम द्वारा अतिशीघ्र दस्तयाब कर गिरफ्तार किया जाएगा।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here