शिक्षा मत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने राजस्थान बोर्ड कक्षा 10 की परीक्षा रद्द होने की संभावना से इनकार नहीं किया है। यानी आरबीएसई 10वीं की परीक्षा रद्द हो सकती है। राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने शनिवार को मीडिया से कहा था कि राजस्थान में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं की परीक्षा तो कराएंगे ही, लेकिन 10वीं की परीक्षा कराने की भी मंशा है और देखना यह है कि कोरोना स्थिति एवं सीबीएसई का क्या निर्णय रहता है।

आपको बता कि पिछले साल से राजस्थान बोर्ड 10वीं, 12वीं की परीक्षाओं को लेकर सीबीएसई के अनुसार ही फैसला करता है।

ऐसे में एक जून को सीबीएसई जब 12वीं परीक्षाओं को लेकर अपने फैसले का ऐलान करेगा तो इसके एक-दिन बाद राजस्थान बोर्ड भी अपना फैसला करेगा। शिक्षा मंत्रा डोटासरा ने कहा था कि सीबीएसई के फैसले के बाद अधिकारियों के साथ चर्चा की जाएगी, इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से परीक्षाओं को लेकर चर्चा करने के बाद परीक्षाओं पर फैसला किया जाएगा।

इन दो कारणों से रद्द हो सकती है 10वीं की परीक्षा-
राजस्थान सरकार व बोर्ड की ओर से लगातार 10वीं परीक्षा कराए जाने की बात कही जा रही है लेकिन दो कारण ऐसे हैं जिससे राजस्थान बोर्ड 10वीं की परीक्षाएं रद्द कर आंतरिक मूल्यांकन के आधार रिजल्ट जारी कर सकता है।

कारण 1- सीबीएसई, सीआईएससीई, यूपी बोर्ड, एमपी बोर्ड, छत्तीसगढ़, पंजाब बोर्ड, उत्तराखंड बोर्ड और महाराष्ट्र समेत कई प्रमुख बोर्डों ने इस साल कोरोना के कारण अपने यहां कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षा को रद्द करने का फैसला किया है। ऐसे में राजस्थान बोर्ड पर भी अन्य बोर्डों की तरह परीक्षा रद्द कर छात्रों को पास करने का दबाव बन रहा है।

कारण 2 – देशभर में सीबीएसई 12वीं परीक्षाओं को रद्द करने की मांग छात्रों/अभिभावकों की ओर से किया जा रहा है। छात्रों की इस मांग को कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई का भी समर्थन मिला हुआ है। एनएसयूआई की ओर बोर्ड एग्जाम कैंसल करने का ट्टिवटर पर अभियान भी चलाया जा चुका है। ऐसे में राजस्थान सरकार पर नैतिक दबाव बनेगा कि वह 10वीं की परीक्षाएं रद्द कर छात्रों को अगली कक्षा में प्रोन्नत कर दे।

10वीं परीक्षा रद्द करने का फैसला बाकी:
राजस्थान सरकार की ओर से 10वीं परीक्षा रद्द करने को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया, उम्मीद है कि अगले सप्ताह एक जून के बाद कभी भी इस पर आधिकारिक फैसले का ऐलान किया जाएगा। इसलिए छात्रों को सलाह है कि वे हर तरह से खुद को तैयार रखें।

उल्लेखनीय है कि राजस्थान 10वीं परीक्षा में हर साल करीब 11 लाख छात्र पंजीकरण कराते हैं। वहीं 12वीं में भी इस साल करीब 9 लाख छात्र परीक्षा देंगे। कुल मिलाकर राजस्थान बोर्ड 10वीं, 12वीं परीक्षा में 20 लाख छात्र भाग लेते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here