Home दुनिया तीन दशक बाद जगी उम्मीद की किरण, जल्द दुनिया को मिल सकती...

तीन दशक बाद जगी उम्मीद की किरण, जल्द दुनिया को मिल सकती है HIV वैक्सीन

0

पूरी दुनिया में इस समय बस कोरोना संक्रमण ही डर का सबब बना हुआ है. हर दिन बढ़ते मामले विश्व को खौफजदा किए हैं. इस समय ऐसी एक खबर आई है जिसने लोगों को थोड़ी राहत दी है. दरअसल एचआईवी वैक्सीन की खोज में बड़ा ब्रेकथ्रू मिला है.

ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस (HIV) की वैक्सीन को लेकर पिछले तीन दशकों से खोज जारी है. वही लगता है कि जल्द ही वैक्सीन को ईजात करने में सफलता मिल जाएगी. इस संभावना के साथ ही वैज्ञानिक समुदाय और कोरोना संक्रमण से जूझ रही दुनिया के लिए थोड़ी राहत की खबर है.

फिलहाल पूरी दुनिया कोविड -19 महामारी त्रस्त है और अफ्रीका में तो इबोला भी दहशत का सबब बना हुआ है. ऐसे में एचआईवी की वैक्सीन को लेकर आ रही ये खबर लोगों को खुश कर रही है. गौरतलब है कि वैश्विक रूप से, 2019 में 38 मिलियन लोग एचआईवी / एड्स से पीड़ित थे.

 

फरवरी में एचआईवी वैक्सीन की खोज में सफलता की घोषणा की गई थी.

फरवरी में, नॉन प्रोफिट ड्रग डेवलपर IAVI और स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट ने इस सफलता की घोषणा की थी, हालांकि इस खबर पर ध्यान उस समय गया जब यह ट्विटर पर वायरल हुई. बता दें कि न्यू एप्रोच कोविड -19- mRNA वैक्सीनेशन के खिलाफ मॉडर्न की वैक्सीन (साथ ही फाइजर-बायोएनटेक के) जैसी अंडरलाइन वैक्सीन टेक्नॉलजी पर बेस्ड है. इस वैक्सीन ने इम्यून सेल्स के उत्पादन को प्रोत्साहित करने में सफलता दिखाई जो एंटीबॉडी-उत्पादन शुरू करने के लिए जरूरी हैं. ये न्यू एप्रोच जिसे “जर्मलाइन टारगेटिंग ” कहा जाता है, वह स्पेसिफिक प्रोपर्टीज के साथ बी-सेल्स को सक्रिय करता है.

 

प्रारंभिक चरण में है सफलता

इस रिएक्शन का फेज 1 ट्रायल में 48 में से 47 प्रतिभागियों में पता चला था. जबकि शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि ये प्रारंभिक डेटा हैं, और परीक्षण प्रारंभिक चरण में है. वैसे ये सफलता एड्स मुक्त दुनिया की उम्मीद को बल दे रही है.

 

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here