राजस्थान में रेपिस्ट को फांसी की सजा: दरिंदगी की कहानी सुनकर कांप जाएगा कलेजा...

 0
राजस्थान में रेपिस्ट को फांसी की सजा: दरिंदगी की कहानी सुनकर कांप जाएगा कलेजा...

राजस्थान में रेपिस्ट को फांसी की सजा: दरिंदगी की कहानी सुनकर कांप जाएगा कलेजा...

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले से इंसानियत को तार तार करने वाली घटना के 10 महीने बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है। कोर्ट ने दो आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई है । उनके परिवार के सात सदस्यों को कोर्ट ने बरी कर दिया है । परिवार के सदस्यों में मां, बहन और अन्य लोग थे जो कोर्ट में हाथ जोड़कर बाकी दोनों व्यक्तियों के लिए भी माफी मांग रहे थे। लेकिन कोर्ट ने दोनों को फांसी की सजा सुना दी। मामला राजस्थान के भीलवाड़ा जिले का है।

4 घंटे तक दरिंदगी करने के बाद भट्टी में जला दिया था
भीलवाड़ा में पिछले साल 2 अगस्त को 13 साल की लड़की से गैंगरेप किया गया था। वह बकरियां चराने के लिए अपने पिता के खेत में गई थी। नजदीक के खेत में काम करने वाले लोगों ने लड़की का अपहरण किया और उसके साथ 4 घंटे तक दरिंदगी की । उसके बाद उसे जिंदा ही कोयला बनाने की भट्टी में फेंक दिया। उसकी मौत हो गई , लेकिन उसके कुछ अंग पूरी तरह नहीं चले। इन अंगों को भट्टी से निकलकर टुकड़े करके प्लास्टिक के कट्टों में भरकर नदी में फेंक दिया गया था।

470 पेज की चार्ज शीट और 40 गवाहों के बाद सुनाई फांसी
पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया था कि रेप करने वाले कालू और कान्हा के परिवार के लोगों ने भी उनके साथ दिया। हत्या और शव को छुपाने में पूरी मदद की। लेकिन 10 महीने चली बहस और 470 पेज की चार्ज शीट के बाद कोर्ट ने 40 गवाहों की गवाही ली। अब जाकर कोर्ट ने सात आरोपियों को बरी कर दिया है । लेकिन कालू और कान्हा को फांसी की सजा सुना दी है।

देशभर में इस केस की चर्चा...दिल्ली तक के लोग पहुंचे
इस मामले ने राजस्थान की तरफ पूरे देश का ध्यान खींचा था। देश भर से कई राजनीतिक दलों के लोग , दिल्ली से महिला आयोग के लोग, राजस्थान से पुलिस, मीडिया के कई लोग कई दिनों तक भीलवाड़ा में ही मौजूद रहे थे । भट्टी और नदी में से बच्ची के शवों के टुकड़े निकले गए थे। भट्टी के नजदीक उसका कड़ा मिलने के बाद भट्टी में खुदाई की गई थी।

Death sentence to rapist in Rajasthan: Heart will tremble after hearing the story of brutality...

The court has given its verdict 10 months after the incident that shattered humanity in Bhilwara district of Rajasthan. The court has sentenced two accused to death. Seven members of his family have been acquitted by the court. The family members included mother, sister and others who were standing in the court with folded hands apologizing for the other two persons as well. But the court sentenced both of them to death. The matter is of Bhilwara district of Rajasthan.

After being tortured for 4 hours, he was burnt in the furnace.
A 13-year-old girl was gang-raped in Bhilwara on August 2 last year. She had gone to her father's farm to graze goats. People working in a nearby farm kidnapped the girl and tortured her for 4 hours. After that he was thrown alive into the coal furnace. He died, but some of his organs did not function completely. These body parts were taken out of the furnace, cut into pieces, packed in plastic bags and thrown into the river.

Hanging announced after 470 page charge sheet and 40 witnesses
The victim's family had alleged that the family members of rapists Kalu and Kanha also supported them. Fully helped in the murder and hiding the dead body. But after 10 months of debate and a 470-page charge sheet, the court took the testimony of 40 witnesses. Now the court has acquitted seven accused. But Kalu and Kanha have been sentenced to death.

This case was discussed across the country...people reached even Delhi.
This case had drawn the attention of the entire country towards Rajasthan. People from many political parties from across the country, people from Women's Commission from Delhi, police from Rajasthan and many people from the media were present in Bhilwara for many days. Pieces of the girl's body were taken out from the furnace and the river. Excavation was done in the furnace after its bracelet was found near the furnace.