निक्कर पहनकर ऑफिस में पहुंच गया सरकारी कर्मचारी, बोला-मैं अफसर हूं कुछ भी कर सकता हूं...

 0
निक्कर पहनकर ऑफिस में पहुंच गया सरकारी कर्मचारी, बोला-मैं अफसर हूं कुछ भी कर सकता हूं...

निक्कर पहनकर ऑफिस में पहुंच गया सरकारी कर्मचारी, बोला-मैं अफसर हूं कुछ भी कर सकता हूं...

सरकारी नौकरी पाने के लिए लोग पूरा जीवन दांव पर लगा देते हैं , लेकिन कई लोग नौकरी पर इस कदर मजाक करते हैं की नौकरी छीन जाती है । ऐसा ही एक मामला राजस्थान के अजमेर जिले से सामने आया है। अजमेर जिले में स्थित माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के कार्यालय में काम करने वाला कर्मचारी नेकर और टीशर्ट पहनकर ऑफिस पहुंच गया। साथ के स्टाफ पर धौंस जमाने लगा कहा मैं अफसर हूं मेरी बात माननी होगी।

2 घंटे में आ गया अफसर का सस्पेंशन लेटर
मामला डिपार्टमेंट के अधिकारियों तक पहुंचा 2 घंटे में उसके सस्पेंशन का लेटर टाइप हो गया । उसकी फोटो और लेटर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव कैलाश शर्मा ने कहा कि शैक्षिक शाखा में सेक्शन ऑफिसर राजेश कुमार टेक चंदानी को सस्पेंड कर दिया गया है । सस्पेंशन ऑर्डर में यह आदेश लिखा गया है बिना सूचना वह मुख्यालय नहीं छोड़ सकेगा।

मैं ओशो का बंदा हूं, मैं इंटरनेशनल बंदा हूं...कुछ देकर जाऊंगा
दरअसल सोमवार को जब राजेश कुमार ऑफिस नहीं पहुंचा तो स्टाफ ने फोन करके बुलाया वह बिना सूचना दिए छुट्टी पर जाने की बात कर रहा था । लेकिन कुछ देर बाद ऑफिस आया और सीधा डायरेक्ट के कमरे में चला गया......कहा मैं ओशो का बंदा हूं, मैं इंटरनेशनल बंदा हूं, मैं यहां पर कर्मचारी नहीं हूं मैं अधिकारी हूं , मैं कुछ देने आया हूं और कुछ देकर ही जाऊंगा , उसके बाद कहा कि अब से यहां पर यही ड्रेस कोड चलेगा जो मैं पहन कर आया हूं । कल यहां मेरी बहन भी आएगी और वह भी यही पहन कर आएगी। मैं लड़ाई झगड़ा नहीं कर रहा मैं विरोधी पक्ष में हूं.....।

जब वो डायरेक्टर के केबिन में नेकर पहनकर पहुंचा
डायरेक्टर के कमरे में जब वह नेकर पहन कर पहुंचा तो वहां भीड़ लग गई । स्टाफ के लोग वहां पहुंचे तो उसने स्टाफ को भी फटकार दिया। बाद में इसकी सूचना अधिकारियों तक पहुंची तो अधिकारियों ने अनुशासनात्मक कार्यवाही का हवाला देते हुए राजेश कुमार को सस्पेंड कर दिया और उसके खिलाफ जांच बिठा दी गई है। राजेश के खिलाफ पहले भी इस तरह के मामले सामने आने की बात कही जा रही है।

Government employee reached office wearing shorts, said - I am an officer, I can do anything...

People put their whole life at stake to get a government job, but many people make fun of the job to such an extent that the job is snatched away. One such case has come to light from Ajmer district of Rajasthan. An employee working in the office of the Board of Secondary Education located in Ajmer district reached the office wearing a neckerchief and t-shirt. He started bullying the fellow staff and said, I am an officer and you have to obey me.

Officer's suspension letter arrived within 2 hours
The matter reached the department officials and within 2 hours the letter of his suspension was typed. His photo and letter are going viral on social media. Secondary Education Board Secretary Kailash Sharma said that Rajesh Kumar Tech Chandani, section officer in the educational branch, has been suspended. This order has been written in the suspension order that he will not be able to leave the headquarters without notice.

I am a follower of Osho, I am an international follower...I will leave with something.
In fact, when Rajesh Kumar did not reach the office on Monday, the staff called and told him that he was going on leave without giving any information. But after some time he came to the office and went straight to the director's room...said I am a man of Osho, I am an international man, I am not an employee here, I am an officer, I have come to give something and after giving something I will go, after that said that from now on the same dress code will be followed here which I have come wearing. Tomorrow my sister will also come here and she will also come wearing this. I am not fighting, I am on the opposing side...

When he reached the director's cabin wearing a neckerchief
When he reached the director's room wearing a knicker, there was a crowd there. When the staff members reached there, he also reprimanded the staff. Later, when this information reached the authorities, they suspended Rajesh Kumar citing disciplinary proceedings and an inquiry was instituted against him. It is being said that similar cases have come up against Rajesh before also.