Traffic पुलिसकर्मी को जान से मारने का प्रयास करने वाला गिरफ्तार, पुलिस ने पता किया, तो हुए कई खुलासे

  • गत एक फरवरी को स्कार्पियो से मारी थी टक्कर
  • रुकने का ईशारा करने पर जान से मारने की नीयत से मारी थी टक्कर
  • यातायातकर्मी अजीत सिंह हुए थे गम्भीर रूप से घायल
  • पुलिस ने आरोपी को बापर्दा किया गिरफ्तार

जोधपुर
कहते हैं कि अपराधी कितना ही शातिर क्यों ना हो। एक ना एक दिन कानून की गिरफ्त में आ ही जाता है। जोधपुर में भी ऐसा ही उदाहरण सामने आया है। दरअसल यहां गत 01 फरवरी को जोधपुर में ट्रेफिक पुलिसकर्मी को जान से मारने की नियत से टक्कर मारने वाले अभियुक्त को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही संबंधित स्कार्पियो गाडी को भी जब्त कर लिया है। बताया जा रहा है कि यातायात के इन्टरसेप्टर वाहन पर तैनात कांस्टेबल अजीतसिंह बीसलपुर सरहद पर गौशाला के सामने नेशनल हाईवे नं. 112 पर निकले हुए थे। इस दौरान दूसरी तरफ से तेज गति से एक स्कॉर्पियो आ रही थी , जिसका नंबर आरजे 51 यू-ए 1741 था। तेज गति से आ रही इस स्कॉर्पियो क रूकने का इशारा किया। इस पर स्कार्पियो चालक ने यातायात पुलिसकर्मी को जान से मारने की नियत से जोर से टक्कर मार दी। साथ ही मौके से भागने में कामयाब हो गया था।

इस तरह घटित हुई थी घटना
मिली जानकारी के अनुसार इस घटना में पुलिसकर्मी अजीतसिंह के शरीर पर गम्भीर चोटें आई। साथ ही उन्हें घायल अवस्था मे जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती करवाया गया। साथ ही पुलिस ने स्कार्पियो की तलाश में सघन नाकाबंदी करवाई गई। वहीं इन्टरसेप्टर प्रभारी उपनिरीक्षक श्रीचंद मीणा ने इस मामले में डांगियावास थाने में धारा 307,332.333,353 के तहत मामला दर्ज कर लिया। पुलिस मामले की जांच में जुट गई तथा स्कार्पियो की तलाश के लिए मुखबिरों को सक्रिय किया गया।

टीमों का किया गया गठन
इसके बाद मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस आयुक्त जोधपुर जोस मोहन के आदेशानुसार टीमों ने जांच शुरू की। पुलिस उपायुक्त जोधपुर पूर्व धर्मेंद्रसिंह यादव व अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त जोधपुर पूर्व के निर्देशन में थानाधिकारी उपनिरीक्षक कन्हैयालाल व उपनिरीक्षक जालमसिंह ने टीम गठित की कर घटना अंजाम देने वाले वाहन व चालक की दस्तियाब करने के लिए रणनीति पर काम शुरू किया। स्कार्पियो के रजिस्टर्ड मालिक की जानकारी ली गई, जो कोटा निवासी इमरान खां के नाम से रजिस्टर्ड होना पाया गया। मगर पुलिस जांच में यह सामने आया कि यह वाहन फर्जी तरीके से फाईनेंस करवाकर कोसाना निवासी इसूब खां उपयोग में ले रहा था। वहीं उस दिन सम्पतलाल खोखर गाड़ी को चला रहा था।

3

पुलिस तलाश में जुटी
इन सूचना के बाद पुलिस की टीम वाहन व सम्पतलाल खोखर की तलाश में जुट गई। मुखबिर तंत्र से संकलित सूचना आधार पर गठित टीम ने दांतीवाड़ा आरोपी को दस्तयाब कर लिया। आरोपी को पुलिस ने बापर्दा कर गिरफ्तार कर घटना में प्रयुक्त स्कार्पियो जब्त कर ली। बताया जा रहा है कि इस स्कार्पियो की फर्जी फाईनेंस के मामले में एसओजी भी तलाश कर रही थी। अब अभियुक्त सम्पतलाल खोखर से घटना व उक्त स्कार्पियो के खरीद बेचान के बारे में गहनता से पूछताछ की जा रहा है ।