Connect with us

क्राइम

फर्जी डॉक्टर के अजब कारनामे : रजिस्ट्रेशन नहीं था फिर भी करता रहा सर्जरी, कई अस्पतालों में करता था विजिट

Published

on

दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया डॉ. मनीष कौल उर्फ विक्रांत भगत बड़ा शातिर निकला। मनीष उर्फ विक्रांत ने अपने बोर्ड पर एमबीबीएस और एमडी की डिग्री तो लिख ली, लेकिन इस डिग्री के लिए यहां उसका रजिस्ट्रेशन तक नहीं मिला है। इसके बावजूद मरीजों के इलाज के साथ ही वह सर्जरी तक करता रहा।

एमबीयूएमएस (बैचलर ऑफ यूनानी मेडिसन एंड सर्जरी) की डिग्री के बाद मेरठ में उसके दो क्लीनिक थे। इसमें अलग-अलग दोनों जगह पर उसने खुद को एमबीबीएस व एमडी बताया था। एसीपी (पश्चिम) गिरीश कौशिक के मुताबिक दिल्ली के द्वारिकापुरी निवासी फर्जी डॉक्टर मनीष कौल उर्फ विक्रांत भगत 2019 से वांटेड चल रहा था।

वह दिल्ली पुलिस की कस्टडी से भागकर मेरठ में नाम बदलकर फर्जी डिग्री के जरिए क्लीनिक खोलकर मरीजों का इलाज करता था।

दिल्ली पुलिस शुक्रवार को हापुड़ रोड स्थित शुभकामना अस्पताल से फर्जी डॉक्टर को पकड़कर ले गई थी। आरोपी का पिता बृजभूषण भी तिहाड़ जेल में बंद है। उस पर भी कई जगहों पर ठगी के केस हैं।

दिल्ली पुलिस ने शनिवार को आरोपी मनीष को तीस हजारी कोर्ट में पेश कर दिया। यहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है। पुलिस का दावा है कि आरोपी मनीष कौल को दिल्ली की पुलिस रिमांड पर लेकर अभी ओर पूछताछ करेगी।

मेरठ पुलिस की पड़ताल में पता चला कि हापुड़ रोड स्थित साईं अस्पताल के पास विक्रांत के नाम से क्लीनिक है। इस पर एमबीबीएस और एमडी मेडिसिन फिजीशियन की डिग्री लिखी है जबकि तेजगढ़ी चौराहा स्थित त्यागी कांपलेक्स में उसने एमबीबीएस एमडी सर्जन लिखा है।

10 राज्यों में धोखाधड़ी के 27 केस दर्ज
पुलिस की अपराध शाखा के मुताबिक आरोपी के खिलाफ 10 राज्यों में धोखाधड़ी के 27 मामले दर्ज हैं। एसीपी गिरीश कौशिक की टीम जानकारी जुटा रही थी। कॉल को इंटरसेप्ट करने के दौरान शुक्रवार को पता चला कि मनीष ने ऑनलाइन खाना ऑर्डर किया। डिलीवरी बॉय की मदद से पुलिस शास्त्री नगर के एक नर्सिंग होम में पहुंची और उसने आरोपी मनीष को दबोच लिया।

यह भी पढ़ें-   उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को वापस मिला 'ब्लू टिक', ट्विटर ने सही की अपनी गलती; RSS के दो नेताओं के अकाउंट अभी तक 'Unverified'

आरोपी नर्सिंग होम में डॉ. विक्रांत बनकर नौकरी कर रहा था। वह खुद को एमबीबीएस, एमडी बताता था। पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह कई अस्पतालों में डॉक्टर की नौकरी कर डेढ़ लाख रुपये सैलरी भी ले चुुका है। आरोपी ने 12वीं पास करने के बाद बीयूएमएस में दाखिला लिया था, लेकिन उसने दो साल बाद ही पढ़ाई छोड़कर धोखाधड़ी शुरू कर दी थी।

पिता की फैक्टरी में हाथ बंटाता था आरोपी
आरोपी मनीष ने बताया कि उसका जन्म अंबाला कैंट इलाके में 1984 में हुआ था। पिता ब्रिजभूषण कौल की अंबाला में दवा की फैक्टरी थी। 2002 से आरोपी पिता की फैक्टरी में हाथ बंटाने लगा। सबसे पहले सहारनपुर में उसके खिलाफ एक कंपनी से धोखाधड़ी का मामला दर्ज हुआ था। 2002 से 2008 के बीच कई बार उसके खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज हुआ।

निजी अस्पताल में थी साझेदारी, मरीज की बेची थी किडनी
पुलिस का दावा कि मनीष की हापुड़ रोड स्थित एक अस्पताल में साझेदारी भी थी। बताया है कि उसने एक मरीज की किडनी निकाल कर बेची थी, यह मामला काफी चर्चित हुआ था। लेकिन स्वास्थ्य विभाग में मामले में लीपापोती कर आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। आरोपी की गिरफ्तारी के बाद स्थानीय लोगों ने इस फर्जी डॉक्टर के कई कारनामे बताएं।

अलग-अलग डिग्री बताकर करता था इलाज
मनीष ने कई अस्पतालों में विजिट करने का ठेका लिया था। मरीज की बीमारी पूछकर वह खुद को उसका स्पेशलिस्ट बताकर इलाज शुरू करता था। बताया जा रहा कि कोरोना काल में इस फर्जी डॉक्टर ने काफी संख्या में मरीज देखें। ऐसे में न जाने कितने मरीजों को नुकसान पहुंचाया होगा। यह भी संभव है कि कई लोगों की जान इस फर्जी डॉक्टर की लापरवाही के चलते गई।

एमबीबीएस डॉक्टर बता दो महिलाओं से की शादी
आरोपी मनीष ने बताया कि 2007 ंमें वह एक अखबार में विज्ञापन देखकर दिल्ली के पटेल नगर निवासी एक महिला अध्यापक के संपर्क में आया। आरोपी ने खुद को एमबीबीएस डॉक्टर बताकर महिला से शादी कर ली। आरोपी ने 2014 में जीवन साथी डॉट कॉम पर प्रोफाइल बनाकर खुद को एमबीबीएस, एमडी और अविवाहित बताया। पंजाब के संगरूर के नर्सिंग होम में डॉक्टर बताया। पिता को भी आरोपी ने एमबीबीएस, एमडी, सेना से रिटायर अधिकारी बताया। प्रोफाइल देखकर अशोक विहार की एक महिला डॉक्टर आरोपी के झांसे में आ गई। 2015 में दोनों ने शादी कर ली। दोनों को एक बेटा हुआ। वर्ष 2018 में महिला डॉक्टर को शक हुआ तो आरोपी ने उसे मारने का प्रयास किया। कीर्ति नगर पुलिस ने पकड़ लिया।

यह भी पढ़ें-   बीकानेर पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी, दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लूटी हुई कार भी बरामद

विक्रांत भगत या मनीष कौल। किसी भी नाम से यहां स्वास्थ्य विभाग में फर्जी डॉक्टर का रजिस्ट्रेशन नहीं मिला। सीएमओ डॉ. अखिलेश मोहन ने शनिवार को इसका रिकॉर्ड निकलवाया। सीएमओ ने बताया कि मेरठ में करीब 900 चिकित्सक पंजीकृत हैं। इनमें से विक्रांत भगत या मनीष कौल नाम का कोई भी चिकित्सक पंजीकृत नहीं है।

स्वास्थ्य विभाग रजिस्ट्रेशन के दौरान मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया यानी एमसीआई (अब एनएमसी) की वेबसाइट पर जाकर उसकी पड़ताल करता है। उसके बाद ही रजिस्ट्रेशन किया जाता है। हालांकि डिग्री होने पर एमसीआई की वेबसाइट पर दस्तावेज मैच करने पर रजिस्ट्रेशन कर दिया जाता है। जांच तब भी की जाती है, जब किसी चिकित्सक के खिलाफ शिकायत की जाती है। ब्यूरो

आईजी ने नौचंदी पुलिस से मांगा फर्जी डॉक्टर का रिकाॅर्ड
आईजी मेरठ रेंज प्रवीण कुमार ने फर्जी डॉक्टर मनीष कौल और विक्रांत भगत का रिकॉर्ड मांगा है। बताया गया है कि विक्रांत के नाम से दो निजी अस्पतालों का लाइसेंस है। पुलिस ने इसकी छानबीन शुरू कर दी है। आरोपी मेरठ में कई अस्पतालों में विजिट करता था। आईजी ने नौचंदी थाना पुलिस से फोन पर बात की और इस पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने निर्देश दिए कि इस फर्जी डॉक्टर की शिकायत पहले किसी ने की या नहीं, इसका रिकार्ड भी खंगाला जाए।

यह भी पढ़ें-   राजस्थान: नये नवेले कई RAS अधिकारी आते ही जुट रहे हैं भ्रष्टाचार की ताबड़तोड़ बैटिंग करने में, देखिये बानगी

मेरठ में किसी व्यक्ति द्वारा शिकायत मिलती है तो तुरंत मुकदमा दर्ज करें। दोनों क्लीनिक पर सील लगाई जाए और हॉस्पिटल संचालकों से भी पुलिस जानकारी लें। आईजी का कहना कि इस मामले की पुलिस गंभीरता से जांच करेगी। जिले में फर्जी डॉक्टर मनीष कौल उर्फ विक्रांत भगत की पोल खुलने पर कई अस्पतालों में खलबली मच गई है। एक चर्चित डॉक्टर ने नाम न छापने के अनुरोध पर बताया कि शहर में कई फर्जी डिग्री लेकर डॉक्टरी कर रहे हैं। उनके क्लीनिक के साथ अस्पताल हैं।

फर्जी डॉक्टर के खिलाफ मेडिकल में तहरीर
एक मेडिकल स्टोर संचालक ने फर्जी डॉक्टर के खिलाफ 70 हजार ठगे जाने का आरोप लगाते हुए तहरीर दी है। इसका क्लीनिक तेजगढ़ी चौराहा स्थित त्यागी मार्केट में था। इसके पास शुभम निवासी जनता कॉलोनी का मेडिकल स्टोर का था।

शुभम ने शनिवार को एसएसपी को शिकायती पत्र दिया। आरोप लगाया है कि फर्जी डॉक्टर में एक प्लाट खरीदने की बात कहकर 70 हजार रुपए लिए और वह वापस नहीं कर रहा था। एसएसपी का कहना है कि शिकायती पत्र पर फर्जी डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा।

जितनी जगह काम, उतने बदले नाम
मनीष के खिलाफ दिल्ली, मुंबई, पंचकूला, गोवा, बंगलूरू, चंडीगढ़, फरीदाबाद, जयपुर, केरल, अंबाला और काशीपुर उत्तराखंड में करीब 27 मामले दर्ज हैं। आरोपी ने कई जगहों पर खुद का नाम मनीष कौल उर्फ वरुण कौल, मनीष चड्ढा उर्फ डॉक्टर आशुतोष मारवाह, डॉ. विशेष धीमान, डॉ. संजीव चड्ढा, डॉ. एस चौधरी, गौरव सेठी, अनू सेठी और डॉ. विक्रांत भगत बताया था।

दिल्ली पुलिस इसे कई राज्यों में पेश करने के लिए ले गई थी। लेकिन, मुंबई पहुंचने पर आरोपी वसई पुलिस थाना क्षेत्र में टीम को चकमा देकर फरार हो गया था। वहां से भागकर पाली राजस्थान पहुंचा। यहां इसके पिता ने अस्पताल खोला हुआ था। पांच महीने बाद मेरठ आ गया था। 2020 में राजस्थान पुलिस ने मनीष के पिता ब्रिज भूषण कौल उर्फ राजेंद्र पाल कौल को गिरफ्तार कर लिया था।

Advertisement Girl in a jacket Girl in a jacket
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement
Girl in a jacket
Advertisement
Girl in a jacket
क्राइम8 mins ago

बीकानेर पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी, दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लूटी हुई कार भी बरामद

देश48 mins ago

‘मन की बात’ का 79वां संस्करण : आज देश को संबोधित करेंगे पीएम मोदी

राजस्थान17 hours ago

RAS परीक्षा धांंधली मामले में भाजयुमो के कार्यकर्ताओं ने शिक्षा मंत्री डोटासरा को दिखाए काले झंडे

राजनीति17 hours ago

राजस्थानः वैक्सीनेशन पर आर-पार, बीजेपी ने लगाया डोज वेस्ट का आरोप, कांग्रेस ने किया पलटवार

क्राइम17 hours ago

पोर्नोग्राफी case: क्राइम ब्रांच ने शिल्पा शेट्टी से पूछे ये सवाल, 3-4 बार रोईं फिर बोलीं- मेरी इमेज को बड़ा धक्का लगा है

राजस्थान22 hours ago

राजस्थान को मिलेंगे 17 IAS और 5 IPS, प्रमोशन के लिए गहलोत सरकार ने UPSC को भेजे इन अफसरों के नाम

राजस्थान22 hours ago

राजस्थान: एक लाख का कर्जा चुकाने के लिए मासूम के हाथों में थमा दिया कटोरा

खेल23 hours ago

Tokyo Olympic 2020 : मीराबाई चानू ने भारोत्तोलन में जीता सिल्वर मेडल, ऐसा करने वाली बनीं पहली भारतीय

शिक्षा1 day ago

12वीं बोर्ड कला, वाणिज्य और विज्ञान वर्ग के आज शाम 4 आएंगे नतीजे, ऐसे करें Check

राजस्थान1 day ago

राजस्थान में 2 अगस्त से नहीं खुलेंगे स्कूल:सरकार का यूटर्न, अब 5 मंत्रियों की समिति तय करेगी स्कूल-कॉलेज खोलने की तारीख, CM ने एक दिन बाद ही बदला शिक्षा मंत्री का फैसला

देश3 weeks ago

महिला ने सरकार को नहीं दी जमीन, हाईवे के बीचोंबीच कैद कर दिया घर

बीकानेर3 weeks ago

बीकानेर: कलक्टर की कमान संभालेंगे अरूण प्रकाश

सेहत3 weeks ago

OMG: मास्क पहनकर रनिंग कर रहे शख्स का फट गया था फेफड़ा, बाएं से दाएं खिसककर आया दिल

क्राइम2 weeks ago

ढाबों पर छापा, आपत्तिनजक हालत में मिले 12 युवतियों सहित 3 युवक

देश3 weeks ago

तीन साल के मासूम ने बचाई प्रेग्नेंट मां और दुधमुहे भाई की जान, सोशल मीडिया पर बना हीरो, देखें विडियो

क्राइम3 weeks ago

मंदिर परिसर में मिले खून, तालाब में युवक का खून से लथपथ शव मिलने से सनसनी फैल गई

राजस्थान2 weeks ago

स्कूलें खुलने को लेकर आई यह खबर – मंत्री परिषद का फैसला

बीकानेर3 weeks ago

बीकानेर: किन्नर के साथ अप्राकृतिक दुष्कर्म कर बनाया वीडियों

बीकानेर3 weeks ago

जारी हुई दूसरी लिस्ट, बढ़ी पॉजिटिव की संख्या

मनोरंजन3 weeks ago

आमिर खान और किरन ने एक दूसरे से अलग होने का फैसला किया

Advertisement
Girl in a jacket

Trending