मुख्यमंत्री गहलोत के गृह नगर में एक ओर जहां 18+ युवा वैक्सीनेशन के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। वहीं कुछ सेंटर पर धड़ल्ले से वैक्सीनेशन का फर्जीवाड़ा किया जा रहा है। जोधपुर के प्रताप नगर राजकीय सैटेलाइट अस्पताल में वैक्सीन सेंटर में भी ऐसा ही एक फर्जीवाड़ा सामने आया है। यहां 45+ वालों के लिए आई वैक्सीन 18+ वालों के दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा कर लगा दी गई। सूत्रों की माने तो वैक्सीनेशन के दाम भी वसूले गए। इसकी भनक पार्षद को पड़ने पर स्वास्थ्य मंत्री को चिट्‌ठी लिख जांच की मांग की है।

इस फर्जीवाड़े के दस्तावेज भास्कर के पास भी मौजूद हैं। जब इनकी जांंच की तो सामने आया कि वैक्सीनेशन के फाॅर्म पर जो डेट ऑफ बर्थ भरी गई, वो संबंधित व्यक्ति के आधार से मेल नहीं खा रही। वैक्सीनेशन के समय फॉर्म में वैक्सीन लगाने वाले की पूरी जानकारी दी गई। उसमें उसके मोबाइल नम्बर भी भरे गए, लेकिन उम्र लिखते समय उसे 45+ दर्शाया गया। जब इन मोबाइल नम्बर की जन आधार में जांच की तब संबंधित व्यक्ति की डिटेल सामने आ गई। उसमें उम्र 18+ पाई गई। वहीं, टीकाकरण में इन्हें हेल्थ वर्कर का दर्जा दिया गया, जबकि हकीकत में ऐसा कुछ नहीं है।

परेशान हैं क्षेत्रवासी

प्रतापनगर राजकीय सैटेलाइट अस्पताल के इंचार्ज के मनमर्जी के रवैये से पहले ही क्षेत्रवासी परेशान है। क्षेत्रवासियों के माने तो यह अस्पताल अपने मनमाने समय पर खुलता व बंद होता है। कहने को सरकारी अस्पताल है, लेकिन यहां कोई सरकारी नियम की पालना नहीं होती। साथ ही यहां सुविधाएं होने के बावजूद आम जनता वंचित है। ईसीजी, ऑपरेशन थिएटर, आदि की सुविधा है लेकिन मात्र दिखावे के लिए है।

कांग्रेस पार्षद ने उठाई आवाज

वार्ड नम्बर आठ नगर निगम उत्तर के पार्षद भरत आसेरी ने चिकित्सा राज्य मंत्री राजस्थान सरकार, महापौर उत्तर नगर निगम व उप महापौर को पत्र लिख जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि इस अस्पताल के इंचार्ज दिनेश व्यास व इसकी टीम ने मिलकर धांधली की है जिसकी जांच करवाई जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here