देश करीब डेढ़ साल के ज्यादा के वक्त से कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है, हालांकि जब वैक्सीनेशन शुरू हुआ, तो उस वक्त ऐसा लग रहा था कि हम इस लड़ाई को जीतने की कगार पर हैं, लेकिन होली के बाद आई कोरोना की दूसरी लहर ने सब कुछ तहस-नहस कर दिया, स्थिति यह हो गई थी कि रोजाना 4 लाख से ज्यादा नए संक्रमित मामले और 4 हजार से ज्यादा लोगों की कोरोना जान ले रहा था। इस दौरान ना जानें कितने लोगों ने अपने परिवार के सदस्यों को खोया और कितने ही बच्चे अनाथ हो गए, जिसके बाद अब कोरोना काल में माता-पिता गंवाने वाले बच्चों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मदद का हाथ आगे बढ़ाया है।

पीएमओ से मिली जानकारी के मुताबिक कोरोना से अपने माता-पिता को खोने वाले वाले बच्चों को सहायता राशि मिलेगी। पीएम मोदी ने घोषणा की है कि कोरोना संक्रमण की वजह से अपने माता-पिता या अभिभावक दोनों को खोने वाले सभी बच्चों को ‘पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रन’ योजना के तहत सहायता दी जाएगी। ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र में मासिक वजीफा और 23 साल की उम्र में पीएम केयर्स से 10 लाख रुपये का फंड मिलेगा।

इसके अलावा उन बच्चों की निशुल्क शिक्षा भी सुनिश्चित की जाएगी। बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण प्राप्त करने में सहायता की जाएगी और पीएम केयर लोन पर ब्याज का भुगतान करेगा। वहीं आयुष्मान भारत योजना के तहत 18 साल तक के बच्चों को 5 लाख रुपये का मुफ्त स्वास्थ्य बीमा मिलेगा और प्रीमियम का भुगतान पीएम केयर्स की तरफ से किया जाएगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here