कोरोना संक्रमण को मात देने के लिए भारत हर संभव प्रयास में लगा हुआ है, इसी कड़ी में रक्षा विकास अनुसंधान संगठन (डीआरडीओ) ने 2डीजी दवा बनाई है, जोकि सौ फीसद कारगर बताई जा रही है। इसे बनाने वाली वैज्ञानिकों की टीम में शामिल डॉक्टर अनंत नारायण भट्ट ने बताया कि दवा 2डीजी (2 डीऑक्सी डी ग्लूकोज) ट्रायल में कोरोना संक्रमण से शत प्रतिशत निजात दिलाने में कारगर रही है।

डॉक्टर अनंत नारायण भट्ट का कहना है कि ट्रायल के दौरान सभी कोरोना मरीज 2 से 7 दिन के अंदर ठीक हुए हैं। उनको ऑक्सीजन और अन्य कोई जरूरत नहीं पड़ी। कुछ दिनों यह दवा हर आदमी की पहुंच में होगी। करीब हफ्ते भर पहले ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिलने के बाद हैदराबाद की डॉ रेड्डीज लैब ने इसका उत्पादन शुरू कर दिया है। डॉ. भट्ट का कहना है कि यह दवा आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना पर आधारित है। उनके मुताबिक कोविड के पहले लहर में ही डीआरडीओ ने दवा बनाने की ठान ली थी। इसके लिए एक टीम को हैदराबाद की डॉ रेड्डीज लैब में रिसर्च के लिए लगाया गया। दिल्ली में कार्यरत डॉ भट्ट को भी हैदराबाद भेजा गया। दिनरात एक कर रिसर्च टीम को आखिरकार कामयाबी मिल ही गई।

जिन मरीजों पर इसका प्रयोग किया गया उन्हें तीन दिन बाद ही अलग से ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखने की जरूरत नहीं पड़ी। 42 प्रतिशत मरीज तीन दिन में और 75 से 80 प्रतिशत तक मरीज सात से आठ दिन में ही कोरोना संक्रमण से ठीक हो गए। 11 से 12 दिन में रिकवरी की दर शत प्रतिशत मरीजों में पाई गई है। पूरी तरह अपने ही देश में निर्मित यह दवा सैशे में पावडर के रूप में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here