Home राजस्थान राजस्थान में कोरोना खतरनाक स्थिति में पहुंचा, गहलोत ने पीएम को लिखा...

राजस्थान में कोरोना खतरनाक स्थिति में पहुंचा, गहलोत ने पीएम को लिखा पत्र, 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को लगे टीका

0

राजस्थान में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर 18 साल से अधिक उम्र के लोगों का वैक्सीनेशन शीघ्र शुरू कराने का आग्रह किया है। पत्र में गहलोत ने कहा कि संक्रमण पर रोकथाम के लिए एकीकृत मानक संचालन प्रक्रिया निर्धारित की जानी चाहिए।

गहलोत ने कहा कि कोविड नियंत्रण को लेकर राज्यों की अलग-अलग रणनीति अंतरराज्यीय मुद्दों को लेकर आपसी समन्वय की कमी है। इसके कारण आम लोगों में भय एवं भ्रम की स्थिति बनी हुई है। इस स्थिति से निपटने के लिए समग्र एकीकृत नीति की जरूरत है।

गहलोत ने कहा राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक, केरल, मध्यप्रदेश, तमिलनाडु आदि राज्यों में कोरोना मरीजों की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है।

मरीजों की संख्या फिर सितंबर, 2020 की स्थिति में पहुंच गई है। इसको देखते हुए कोरोना नियंत्रण के लिए अधिक प्रभावी योजना बनाए जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के कारण राजस्थान कोविड नियंत्रण और टीकाकरण के कारण देश के अग्रणी राज्यों में शामिल है।

गाइडलाइन का पालन नहीं करने पर 12 लाख से अधिक लोगों का पुलिस ने किया चालान

राजस्थान में कोरोना संक्रमण खतरानाक स्थिति में पहुंच गया है। यहां पिछले दो माह की तुलना में अप्रैल माह में संक्रमण की रफ्तार करीब 1.50 फीसदी बढ़ी है। प्रदेश में मंगलवार को 2236 कोरोना संक्रमित मिलने के साथ ही 13 लोगों की मौत हुई। कोरोना की दूसरी लहर में इतनी बड़ी संख्या में 24 घंटे में हुई मौतों के बाद सरकार ने सख्त कदम उठाने शुरू किए हैं।अब तक प्रदेश में 3 लाख 43 हजार 990 संक्रमित मिलने के साथ ही 2854 लोगों की मौत हुई है। वर्तमान में एक्टिव केसों की संख्या 16,140 है। कोरोना की दूसरी लहर का सबसे अधिक असर जयपुर में देखने को मिल रहा है। यहां 24 घंटे में 413 संक्रमित मिले हैं।

जोधपुर में 201, उदयपुर में 367, डूंगरपुर में 137, अजमेर में 105, कोटा में 161 संक्रमित मिले हैं। सबसे कम दौसा में 2, बाड़मेर में 5, भरतपुर में 6 मरीज मिले हैं। संक्रमण की रफ्तार बढ़ते देख जोधपुर में रात 8 से 6 बजे तक रात्रि कर्फ्यू लागू किया गया है। अन्य जिलों में रात 9 बजे से कर्फ्यू है। भरतपुर में रात के समय बारात निकाले जाने पर रोक लगा दी गई है। संक्रमितों के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए सरकार ने कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने वालों पर निगाह रखने के लिए पुलिस एवं स्थानीय प्रशासन की संयुक्त टीमों का गठन किया है । सरकार ने तय किया है कि अब यदि किसी संक्रमित ने होम क्वारंटीन के नियम तोड़े तो उसे सरकारी सेंटर्स में शिफ्ट कर दिया जाएगा। चिकित्सा विभाग के अनुसार अब तक प्रदेश में 1.13 प्रतिशत आबादी को वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जा चुकी है। एक सप्ताह बाद सरकार ने प्रतिदिन 7 लाख लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा है। पुलिस ने कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए राजस्थान एपिडेमिक अध्यादेश के तहत अब तक 12 लाख 29 हजार लोगों के चालान किए हैं। इनमें सार्वजनिक स्थानों पर मास्क नहीं लगाने मिसाइल पर 3 लाख 76 हजार,बिना मास्क पहले लोगों को सामान बेचने वाले दुकानदारों पर 15 हजार 27,सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ 8 लाख 31 हजार 100 चालान किए गए हैं ।

पुलिस महानिदेशक एम.एल.लाठर ने बताया कि सार्वजनिक स्थानों पर थूंकने,शराब का सेवन करने,क्वाारंटीन के तय नियमों का सही पालन नहीं करने पर 3 हजार 926 मामले दर्ज कर 10 हजार से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है। निषेधाज्ञा तोड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 18 लाख 45 हजार 58 वाहनों का चालान किया गया है। वहीं 2 लाख से ज्यादा वाहन जब्त किए गए । इन लोगों से 36 करोड़ 15 लाख का जुर्माना वसूलला गया है। इसी तरह सोशल मीडिया का दुरूपयोग करने पर 272 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here