Home बीकानेर वेटरनरी विश्वविद्यालय में स्पोर्टस और सांस्कृतिक व साहित्यिक बोर्ड होंगे गठित

वेटरनरी विश्वविद्यालय में स्पोर्टस और सांस्कृतिक व साहित्यिक बोर्ड होंगे गठित

0

 

बीकानेर, 20 मार्च। वेटरनरी विश्वविद्यालय की कौंसिल ऑफ आफिसर्स की द्वितीय बैठक शनिवार को आयोजित की गई। वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने कहा कि विश्वविद्यालय की खेलकूद गतिविधियों के संचालन और पर्यवेक्षण के लिए स्पोर्टस बोर्ड का गठन किया जाएगा। इससे खिलाड़ी विद्यार्थियों को राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं के लिए पर्याप्त प्रोत्साहन मिल सकेगा। विद्यार्थियों के चहुँमुखी व्यक्तित्व के विकास के लिए एक सांस्कृतिक एवं साहित्यिक बोर्ड का भी गठन किया जाएगा। इससे विश्वविद्यालय की प्रतिभाओं में निखार लाया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि सभी संकायों की सूचनाओं को प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन व्यवस्था की जाएगी जिससे इनको एकजाई किया जा सके। बैठक में शिक्षा, अनुसंधान, प्रसार, बजट, वित व आय स्रोतों पेंशन व अन्य मुद्दों पर भी चर्चा की गई।

अंतर्राष्ट्रीय हैप्पीनेस-डे मनाया

अन्तर्राष्ट्रीय हैप्पीनेस-डे शनिवार को वेटरनरी विश्वविद्यालय में डीन-डॉयरेक्टर्स और फैकल्टी सदस्यों ने मनाया। संयुक्त राष्ट्रसंघ द्वारा प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को हैप्पीनेस-डे घोषित किया गया है। इस अवसर पर तीनों संघटक महाविद्यालयों की फैकल्टी को ऑनलाइन सम्बोधन में वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विष्णु शर्मा ने कहा कि आपसी प्रेमभाव, दूसरों का सम्मान, कार्य के प्रति ईमानदारी व समन्वय रखते हुए जीवन में खुलापन खुशी का कारण बनते हैं। उन्होंने कहा कि पशु चिकित्सा संकाय में पशुओं और पशुपालकों का कल्याण और विद्यार्थियों का हित चिंतन हमारे गौरव और खुशी के दो पहलू हैं। हमें राजुवास को एक परिवार की तरह मानकर प्रगतिशील बनना होगा। कुलपति प्रो. शर्मा ने कहा कि हम किसी भी पद पर कार्य करते हुए अपने कर्यत्वों का निर्वहन एक खुशीनुमा माहौल में करके सुखद परिणाम हासिल कर सकते हैं। उन्होंने फैकल्टी सदस्यों का आह्वान किया कि वे अध्ययन-अध्यापन के साथ-साथ पाठयेात्तर प्रवृतियों को भी शामिल करके खुशनुमा माहौल बना सकते हैं। राजुवास के वित्त नियंत्रक अरविंद बिश्नोई ने भी खुशनुमा माहौल में चहुंमुखी विकास के भाव को इंगित किया। वेटरनरी कॉलेज के अधिष्ठाता प्रो. आर.के. सिंह ने इस अवसर पर विचार व्यक्त किए। बैठक में पी.जी.आई.वी.ई.आर की अधिष्ठाता प्रो. संजीता शर्मा, वेटरनरी कॉलेज नवानियां (उदयपुर) के अधिष्ठाता प्रो. राजीव कुमार जोशी, निदेशक मानव संसाधन विकास प्रो. त्रिभुवन शर्मा, निदेशक अनुसंधान प्रो. हेमन्त दाधीच, निदेशक प्रसार शिक्षा प्रो. आर.के. धूड़िया, निदेशक पी.एम.ई. प्रो. अन्जु चाहर, निदेशक क्लिनिक्स प्रो. ए.पी.सिंह, अधिष्ठाता स्नातकोत्तर अध्ययन प्रो. सुनीता रानी, परीक्षा नियंत्रक प्रो. उर्मिला पानू ,प्रो. बी.एन. श्रृंगी सहित विश्वविद्यालय के अधिकारी शामिल हुए।

राजुवास में श्वानों के दांतों की आर.सी.टी. उपचार
तकनीक का प्रशिक्षण सम्पन्न
दंत विशेषज्ञ डॉ. ध्रुपद माथुर की टीम ने किया प्रदर्शन

बीकानेर, 20 मार्च। वेटरनरी विश्वविद्यालय के पशु शल्य और रेडियोलॉजी विभाग में श्वानों में दांतों के उपचार की पोस्ट एण्ड कोर तकनीक का सजीव प्रशिक्षण आयोजित किया गया। डॉयग्नोस्टिक इमेंजिंग एण्ड मैनेजमेंट ऑफ सर्जिकल कंडीशन इन एनीमल परियोजना के प्रमुख अन्वेषक डॉ. प्रवीण बिश्नोई ने बताया कि फैकल्टी के सदस्यों और शल्य चिकित्सा विद्यार्थियों को इस सूक्ष्म सर्जरी तकनीक से रू-बरू करवाने से श्वानों में दांतों के विकार का उपचार किए जाने में मदद मिलेगी। मेडिकल दंत चिकित्सा विशेषज्ञ डॉ. ध्रुपद माथुर और डॉ. आयुषी खरे की टीम ने विभाग के मिनी ऑपरेशन थिएटर में श्वान के दांतों की रूट कैनाल उपचार (आर.सी.टी.) का सजीव प्रदर्शन कर जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मानव के समकक्ष दांतों में क्षय या संक्रमण से बचाव के लिए आर.सी.टी. तकनीक एक कारगार उपाय है, अतः यह उपचार पशुओं में भी उपयोगी है।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here