नशे के कारोबार में महिलाएं लिप्त, अब तक 147 तस्कर गिरफ्तार

नशे के कारोबार में महिलाएं लिप्त, अब तक 147 तस्कर गिरफ्तार
07
5
width="150px" 5m12c20d21 width="150px" 13m10c20d21s width="220px"

नशे के कारोबार में महिलाओं की संख्या भी बढ़ती जा रही है. इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जयपुर की क्राइम ब्रांच की ओर से चलाए गए ऑपरेशन क्लीन स्वीप के तहत पुलिस ने जो कार्रवाईयां की हैं, उनमें अब तक 147 महिलाओं को गिरफ्तार किया जा चूका है.

राजधानी जयपुर को ड्रग्स फ्री बनाने के लिए चलाए जा रहे ऑपरेशन क्लीन स्वीप (Operation Clean Sweep) के तहत जयपुर पुलिस एनडीपीएस एक्ट में 864 प्रकरण दर्ज कर चुकी है. इसके साथ ही 1098 मादक पदार्थ तस्करों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, जिसमें चौंकाने वाली बात ये है कि गिरफ्तार तस्करों में 147 महिलाएं भी शामिल हैं. ऑपरेशन क्लीन स्वीप के तहत जयपुर पुलिस ना केवल तस्करों को दबोच रही है बल्कि तस्करी के नेटवर्क से जुड़े हुए अन्य लोगों को दबोचने का भी काम किया जा रहा है. इसके साथ ही तस्कर किस रूट के जरिए कौन सा मादक पदार्थ तस्करी कर ला रहे हैं और किन-किन शहरों में सप्लाई किया जा रहा है, इन तमाम चीजों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है.

एडिशनल डीसीपी क्राइम सुलेश चौधरी ने बताया कि मादक पदार्थों की तस्करी के रूट को पुलिस ने गहन अनुसंधान के बाद आइडेंटीफाई किया है. जिसके तहत पुलिस ने गांजे की तस्करी का जो रूट चिन्हित किया है, उसके तहत आंध्र प्रदेश और ओडिशा के सीमावर्ती इलाकों से तस्कर भारी मात्रा में गांजा तस्करी कर जयपुर के ग्रामीण क्षेत्र में लाते हैं. उसके बाद छोटी-छोटी गाड़ियों में तस्करी कर गांजे को जयपुर शहर और अलग-अलग जिलों में सप्लाई किया जाता है. जिसे रोकने के लिए जयपुर पुलिस टेक्निकल इंटरसेक्शन और अन्य तरीकों से लगातार तस्करों पर नजर बनाए हुए हैं.

क्राइम ब्रांच की जांच में सामने आया है कि नशा तस्करों की ओर से भारी मात्रा में स्मैक झालावाड़, कोटा और अकलेरा से तस्करी कर लाया जाता है. स्मैक की तस्करी में तस्कर पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करते हैं, जिसे देखते हुए अब जयपुर पुलिस इन क्षेत्रों से आने वाली रोडवेज और प्राइवेट बसों में डॉग स्क्वायड के जरिए रेंडम सर्च करने की कार्य योजना बना रही है.

.

.

.

The number of women in the drug business is also increasing. This can be gauged from the fact that 147 women have been arrested so far in the actions taken by the police under Operation Clean Sweep, run by the Crime Branch of Jaipur.

Jaipur Police has registered 864 cases under the NDPS Act under Operation Clean Sweep, being run to make the capital Jaipur drug free. Along with this, the police have arrested 1098 drug traffickers, in which the shocking thing is that 147 women are also included in the arrested smugglers. Under Operation Clean Sweep, the Jaipur Police is not only nabbing the smugglers but also the work of nabbing other people associated with the smuggling network. Along with this, information is being collected about all these things through which route the smugglers are bringing, which drugs are being smuggled and in which cities they are being supplied.


Additional DCP Crime Sulesh Chaudhary said that the route of drug trafficking has been identified by the police after thorough research. Under which the police have identified the route of smuggling of ganja, under which smugglers from the border areas of Andhra Pradesh and Odisha bring huge quantity of ganja to the rural area of ​​Jaipur. After that, ganja is smuggled in small vehicles and supplied to Jaipur city and different districts. To stop this, the Jaipur Police is constantly keeping an eye on the smugglers through technical interception and other methods.

In the investigation of the Crime Branch, it has come to the fore that a huge amount of smack is brought by drug smugglers from Jhalawar, Kota and Aklera. The smugglers use public transport to smack smack, in view of which the Jaipur Police is now planning an action plan to conduct random searches through dog squads in roadways and private buses coming from these areas.