VIDEO: चीन की अजीब सनक, कोविड संक्रमितों को जबरन बॉक्स में किया बंद

VIDEO: चीन की अजीब सनक, कोविड संक्रमितों को जबरन बॉक्स में किया बंद
07 ..............................
5
width="300px" M24C01D20S21 width="220px" M26C01D20S21 width="220px" width="220px"

कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले बढ़ने के साथ ही एक बार फिर से चीन का अपने नागरिकों के प्रति किया जाने वाला दुर्व्यवहार सामने आ रहा है.

जीरो कोविड पॉलिसी पर काम कर रहा चीन इंफेक्शन को रोकने के लिए ऐसे नियम लगा रहा है जिसकी हर तरफ आलोचना हो रही है. चीन के तमाम प्रांतों में ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) के चलते मामलों में काफी बढ़ोतरी हुई है. इसके चलते तियानजिन, आनयांग, शेनझेन, जियान और हेनान में लोगों को अपने घरों में ही रहने का निर्देश दिया गया है. इसके साथ ही चीन कोविड पर काबू पाने के लिए सख्ती से टेस्टिंग कर रहा है और कड़े लॉकडाउन लगा रहा है. इसके साथ ही साथ मोबाइल ऐप के जरिए लोगों पर नजर रख रहा है.

ऐसी खबरें भी सामने आई हैं कि चीन अपने कोविड से संक्रमित अपने नागरिकों को जबरन धातु के डिब्बों में क्वारंटीन कर रहा है. इतना ही नहीं आकार में बेहद ही छोटे इन डिब्बों में बुनियादी जरूरतों से जुड़ी चीजें तक मौजूद नहीं हैं. इन डिब्बों में बुजुर्ग, बच्चों और गर्भवती महिलाओं को इन डिब्बों में बंद किया जा रहा है. चीनी सोशल मीडिया पर ऐसी तमाम खबरें सामने आई हैं जहां बुजुर्ग, बच्चे और गर्भवती महिलाएं इन डिब्बों में जगह की कमी और गंदे बाथरूमों आदि समस्याओं को लेकर आवाज उठा रहे हैं. इन डिब्बों में आम लोगों को करीब 2 हफ्तों के लिए रहना होगा. इन डिब्बों में इन लोगों के खाने की व्यवस्था भी बेहद खराब है. एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि इन डिब्बों में 30 बसों से लाकर 1000 लोगों को रखा गया है.

घर से बाहर निकलने की भी पाबंदी

इतना ही नहीं कोविड-19 को रोकने के लिए बढ़ रही चीन की सनक का खामियाजा आम लोगों को उठाना पड़ रहा है. चीन के जियान में एक अस्पताल में गर्भवती महिला को बिना कोविड टेस्ट के एडमिट करने से इनकार कर दिया गया जिसके चलते महिला का गर्भपात हो गया. जियान में ही करीब 2 करोड़ लोगों को खाना खरीदने तक के लिए भी बाहर नहीं निकलने दिया जा रहा है. डेली मेल के मुताबिक घर से खाना लेने के लिए बाहर निकले एक शख्स को चीनी सुरक्षा अधिकारियों ने पीटा.

बता दें चीन में इसी महीने में विंटर ओलंपिक का आयोजन किया जा रहा है. इसके चलते चीन और सख्ती से कोविड संबंधी नियमों का पालन करा रहा है.

.

.

.

With the increase in the cases of Coronavirus, once again the misbehavior of China towards its citizens is coming to the fore.

China, working on the zero covid policy, is imposing such rules to prevent infection, which is being criticized everywhere. In all the provinces of China, there has been a significant increase in cases due to the Omicron variant. Due to this, people in Tianjin, Anyang, Shenzhen, Xian and Henan have been instructed to stay in their homes. Along with this, China is strictly testing and imposing strict lockdown to overcome Kovid. Along with this, it is keeping an eye on people through the mobile app.

There have also been reports that China is forcibly quarantining its citizens infected with its Kovid in metal boxes. Not only this, even the things related to basic necessities are not present in these very small in size. Elderly, children and pregnant women are being locked in these coaches. Many such reports have come to the fore on Chinese social media where elderly, children and pregnant women are raising their voices about the lack of space in these coaches and dirty bathrooms etc. Common people will have to stay in these coaches for about 2 weeks. The arrangement of food for these people in these coaches is also very bad. An eyewitness told that 1000 people have been brought from 30 buses in these coaches.


Ban on leaving home

Not only this, the common people have to bear the brunt of the increasing craze of China to stop Kovid-19. In a hospital in Xian, China, a pregnant woman was refused admission without a Kovid test, due to which the woman miscarried. In Jian itself, about 2 crore people are not being allowed to come out even to buy food. According to the Daily Mail, a man who came out to get food from the house was beaten up by Chinese security officials.

Let us tell you that the Winter Olympics are being organized in China in this month. Due to this, China is strictly following the rules related to Kovid.