नाबालिग को भगाकर ले गया युवक,पिता ने जहर खाया : लड़के के घरवालों ने मुकदमा वापस लेने का बनाया दबाव,कहा-लड़की का करवा दिया धर्म परिवर्तन....

नाबालिग को भगाकर ले गया युवक,पिता ने जहर खाया : लड़के के घरवालों ने मुकदमा वापस लेने का बनाया दबाव,कहा-लड़की का करवा दिया धर्म परिवर्तन....
07
5
width="150px" 5m12c20d21 width="150px" 13m10c20d21s width="220px"

नाबालिग को भगाकर ले गया युवक,पिता ने जहर खाया : लड़के के घरवालों ने मुकदमा वापस लेने का बनाया दबाव,कहा-लड़की का करवा दिया धर्म परिवर्तन

हनुमानगढ़/बीकानेर। संभाग के हनुमानगढ़ जिले के भादरा थाना क्षेत्र के पचारवाली गांव में 9 नवम्बर को लड़की को भगाने का मामला दर्ज किया था। लड़के का परिवार लगातार मुकदमा वापस लेने का दवाब बना रहा था। परेशान होकर लड़की के पिता ने खेत में जहर पीकर आत्महत्या कर ली। मौत के बाद परिजनों ने हंगाम कर दिया। पुलिस ने समझाइश कर पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंपा।

अस्पताल के बाहर धरने पर बैठे
भिरानी पुलिस थाना अधिकारी सुखराम चोटिया ने बताया कि नाबालिग लड़की के पिता रामनिवास जाट ने सुसाइड कर लिया। सूचना पर पुलिस खेत में पहुंची और शव को मोर्चरी में रखवाया। मृतक के परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए पोस्टमार्टम करवाने से इंकार कर दिया। परिजन अस्पताल के आगे सड़क पर धरने पर बैठ गए। युवा नेता बजरंग सहारण, कार्तिक डूडी, भाजपा नेता सत्यप्रकाश चाहर, पूर्व विधायक संजीव बैनीवाल,महिपाल जाखड भी पहुंचे। डीएसपी सुनील झाझड़ियां मौके पर पहुंचे। अतिरिक्त पुलिस राजेन्द्र मीणा ने लड़का-लड़की की जल्द से जल्द बरामदगी का आश्वासन दिया। मृतक के भाई राजबीर की रिपोर्ट पर आत्महत्या के लिए उकसाने और धारा 306, 509 में अनिश खान पुत्र यासीन खां, सोनू खान पुत्र यासीन खां, अनीश की माता व तीन चार अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंपा।

मुकदमा वापस लेने का बना दवाब
थाना अधिकारी ने बताया कि मृतक के भाई दरिया सिंह ने 9 नवम्बर को वार्ड 14 के अनिश पुत्र यासीन खां के खिलाफ उसकी भतीजी को भगाकर ले जाने का मामला दर्ज करवाया था। मामला दर्ज होने के बाद आरोपी के पिता यासीन खां और उसके भाई सोनू खान ने नाबालिग लड़की के पिता रामनिवास को धमकाया। आरोपियों ने कहा कि लड़की का धर्म परिवर्तन करवाकर निकाह करवा दिया है। परिवार को जान से मारने की धमकी देकर मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाया। परेशान होकर रामनिवास ने जहर पीकर आत्महत्या कर ली।