दुनिया के चौथे सबसे बड़े एयरपोर्ट "जेवर" का आज होगा उद्घाटन

दुनिया के चौथे सबसे बड़े एयरपोर्ट "जेवर" का आज होगा उद्घाटन
07
5
width="150px" 5m12c20d21 width="150px" 13m10c20d21s width="220px"

दुनिया के चौथे सबसे बड़े एयरपोर्ट "जेवर" का कल होगा उद्घाटन

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बीते मंगलवार 23 नवंबर को गौतम बुद्ध नगर जिले के जेवर पहुंचे और नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के शिलान्यास की तैयारियों का जायजा लिया। इस दौरान आयोजित संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि जेवर हवाई अड्डा गौतमबुद्ध नगर, अलीगढ़, आगरा और पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश समेत समूचे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के लिए बहुत अच्छा अवसर लेकर आ रहा है। जेवर हवाई अड्डा 25 साल पुराना सपना है, जिसको सरकार पूरा करने जा रही है। जानकारी के लिए बता दें कि आगामी 25 नवंबर को पीएम नरेंद्र मोदी इस हवाई अड्डे की नींव रखेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस क्षेत्र के लोगों का यह बहुत पुराना सपना था कि यहां हवाई अड्डा बने और विकास में चार चांद लगें लेकिन जमीनी स्तर पर पूर्व की सरकार ने इस पर कार्य नहीं किया। 

1 लाख से अधिक लोगों को मिलेगा रोजगार 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले चरण में करीब 10,000 करोड़ रुपये का निवेश यहां पर आ सकता है और जेवर हवाई अड्डा बनने से नोएडा तथा ग्रेटर नोएडा समेत पूरे जिले में करीब 34 से 35 हजार करोड़ रुपये तक का निवेश आएगा, जिससे एक लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। भारत सरकार का इस परियोजना में पूरा सहयोग मिल रहा है और 2024 तक जेवर हवाई अड्डा बनकर तैयार हो जाएगा तथा उसके बाद यह उत्तर प्रदेश का पांचवा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा होगा।

दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट 

जानकारी के लिए बता दें कि जेवर एयरपोर्ट दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। इसके एयरपोर्ट के उद्घाटन के साथ ही दिल्ली देश का पहला शहर बन जाएगा, जहां 70 किमी की रेंज में अब तीन एयरपोर्ट होंगे, जिसमें से दो एयरपोर्ट इंटरनेशनल होंगे। दिल्ली और जेवर के अलावा तीसरा एयरपोर्ट गाजियाबाद का हिंडन है, जहां से घरेलू उड़ान संचालित होती हैं।

9 करोड़ यात्रियों की होगी क्षमता 

जेवर एयरपोर्ट 5845 हेक्टेयर जमीन पर बनेगा। हालांकि पहले चरण में इसका निर्माण 1334 हेक्टेयर जमीन पर होगा। फर्स्ट फेज में यहां दो यात्री टर्मिनल और दो रनवे बनाए जाएंगे। बाद में यहां कुल पांच रनवे बनेंगे। 

एयरपोर्ट से जुड़े पदाधिकारियों के अनुसार एयर ट्रैफिक बढ़ने पर इससे अधिक रनवे बनाए जा सकते हैं। इस हवाई अड्डे की क्षमता फिलहाल सालाना 9 करोड़ यात्रियों की होगी, जिसके साल-2050 तक 20 करोड़ होने का अनुमान है।

शुरूआत में घरेलू उड़ानों में 40 फीसदी मांग मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, हैदराबाद व चेन्नई जैसी मेट्रो सिटी में आने-जाने वाले यात्रियों की है। इसलिए जेवर एयरपोर्ट से शुरुआत में 8 घरेलू उड़ानें शुरू की जाएंगी।