सीएम ने आज फिर पायलट खेमे पर निशाना साधा: ये तो छोड़कर चले गए थे; 80 विधायक नहीं गए, तभी सरकार बची....

सीएम ने आज फिर पायलट खेमे पर निशाना साधा: ये तो छोड़कर चले गए थे; 80 विधायक नहीं गए, तभी सरकार बची....
07 ..............................
5
width="300px" M24C01D20S21 width="220px" M26C01D20S21 width="220px" width="220px"

सीएम ने आज फिर पायलट खेमे पर निशाना साधा: ये तो छोड़कर चले गए थे; 80 विधायक नहीं गए, तभी सरकार बची

  थमता नजर नहीं आ रहा गहलोत - पायलट कैंप के बीच शीत युद्ध

जयपुर। कांग्रेस की जयपुर मेंं होने वाली 12 दिसंबर को महंगाई रैली की तैयारी बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज फिर पायलट खेमे पर निशाना साधा और कहा कि रमेश मीणा, विश्वेंद्र सिंह, हेमाराम चौधरी तो छोड़कर चले गए थे। 80 विधायक रुके और हमें छोड़कर नहीं गए, तभी तो सरकार बची है। तभी हम आज मंत्री परिषद की बैठक कर रहे हैं।

कांग्रेस के संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल व प्रभारी महामंत्री अजय माकन की उपस्थिति में हुई मंत्रीपरिषद की बैठक में मुख्यमंत्री के तेवरों से यह साफ हो गया है कि दोनों खेमों के बीच कोल्ड वोर आगे भी जारी रहेगा। हाईकमान के दबाव में सियासी मजबूरी के कारण गहलोत-पायलट एकता का भले दावा करें, लेकिन हकीकत में ज्यादा कुछ नहीं बदला है। दोनों तरफ टीस बरकरार है।

मंत्रीपरिषद की अनौपचारिक बैठक में गहलोत ने कहा कि कई मंत्री अब भी दरवाजे बंद रखते हैं। यह ठीक नहीं है। सबको दरवाजे खुले रखने होंगे और फील्ड में जनता को सुनना होगा। मंत्रियों को सुनवाई करने की नसीहत देने के दौरान ही गहलोत ने पायलट कैंप के मंत्रियों-विधायकों पर तंज कसा। गहलोत के इस तंज पर कृषि विपणन राज्यमंत्री मुरारीलाल मीणा ने कहा भी कि मुख्यमंत्रीजी अब तो 19-19 बोलना बंद कर दीजिए। अब तो सब बदल चुका है, पर गहलोत ने मुरारी मीणा की बात पर ध्यान नहीं दिया।

यह पहला मौका नहीं है, जब सीएम अशोक गहलोत ने पायलट कैंप के विधायकों पर तंज कसा। 30 नवंबर को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में रैली की तैयारी बैठक में गहलोत ने नाम लिए बिना पायलट कैंप के विधायकों पर तंज कसा था। उस दिन भी गहलोत बोले थे कि हमारे निर्दलीय साथियों, बसपा से कांग्रेस में आने वाले साथियों ने अगर साथ नहीं दिया होता तो सरकार नहीं बचती। इन साथियों का सरकार बचाने में दिए योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। सरकार बचाने वाले कई लोगों को मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली है, लेकिन उन्हें आगे शिकायत नहीं रहेगी।

.

.

.

CM today again targeted the pilot camp: they had left; 80 MLAs did not go, only then the government survived

Gehlot does not seem to be stopping - Cold war between pilot camp

Jaipur. In the preparatory meeting of Congress's dearness rally to be held in Jaipur on December 12, Chief Minister Ashok Gehlot today again targeted the pilot camp and said that Ramesh Meena, Vishvendra Singh, Hemaram Chaudhary had left. 80 MLAs stayed and did not leave us, only then the government is left. That is why we are having a meeting of the Council of Ministers today.

In the meeting of the Council of Ministers held in the presence of Congress's Organization General Secretary KC Venugopal and General Secretary in-charge Ajay Maken, it has become clear from the attitude of the Chief Minister that the cold war between the two camps will continue even further. Gehlot-pilot may claim unity due to political compulsion under the pressure of the high command, but in reality not much has changed. Tees are intact on both sides.

In an informal meeting of the Council of Ministers, Gehlot said that many ministers still keep the doors closed. This is not right. Everyone has to keep the doors open and listen to the public in the field. Gehlot took a jibe at the ministers and legislators of the pilot camp while advising the ministers to conduct hearings. On this taunt of Gehlot, Minister of State for Agriculture Marketing Murarilal Meena also said that the Chief Minister should stop speaking 19-19 now. Now everything has changed, but Gehlot did not pay heed to Murari Meena.

This is not the first time that CM Ashok Gehlot has taunted the MLAs of Pilot Camp. In a preparatory meeting for the rally at the state Congress headquarters on November 30, Gehlot had taunted the MLAs of the pilot camp without naming them. On that day also Gehlot had said that the government would not have survived if our independent comrades, who came from BSP to Congress had not supported him. The contribution of these comrades in saving the government cannot be forgotten. Many people who saved the government have not got a place in the cabinet, but they will not complain any further.