Paytm CEO-27 साल की उम्र में सिर्फ ₹10 हजार थी सैलरी, अब अरबों में हो रही कमाई

Paytm CEO-27 साल की उम्र में सिर्फ ₹10 हजार थी सैलरी, अब अरबों में हो रही कमाई
07
5
width="150px" 5m12c20d21 width="150px" 13m10c20d21s width="220px"

27 साल की उम्र में विजय शेखर शर्मा (Vijay shekhar sharma) 10 हजार रुपये महीना कमा रहे थे. उस सैलरी को देखकर उनकी शादी तक में मुश्किल हो रही थी. वह बताते हैं, “2004-05 मे मेरे पिता ने कहा कि मैं अपनी कंपनी बंद कर दूं और कोई 30 हजार रुपये महीना भी दे तो नौकरी ले लूं.” 2010 में शर्मा ने पेटीएम (Paytm) की स्थापना की, जिसका आईपीओ ढाई अरब डॉलर पर खुला.

विजय शेखर शर्मा एक इंजीनियर हैं. 2004 में वह अपनी एक छोटी सी कंपनी के जरिए मोबाइल कॉन्टेंट बेचा करते थे. वह बताते हैं कि जब लड़की वालों को उनकी आय का पता चलता था तो वे इनकार कर देते थे. वह कहते हैं, “लड़की वालों को जब पता चलता था कि मैं दस हजार रुपये महीना कमाता हूं तो वे दोबारा बात ही नहीं करते थे. मैं अपने परिवार का अयोग्य कुआंरा बन गया था."

2.5 खरब डॉलर की कंपनी

पिछले हफ्ते 43 साल के शर्मा की कंपनी पेटीएम ने इनिशिअल पब्लिक ऑफरिंग (आईपीओ) के जरिए 2.5 अरब डॉलर यानी लगभग एक खरब 34 अरब रुपये जुटाए हैं. फाइनेंस-टेक कंपनी पेटीएम अब भारत की सबसे मशहूर कंपनियों में से एक बन गई है और नए उद्योगपतियों के लिए एक प्रेरणा भी.

जानिए कितना मुश्लिलभरा रहा सफर

विजय शेखर शर्मा का जन्म उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में हुआ था. उनके पिताजी स्कूल टीचर और मां गृहिणी थीं. विजय शेखर के शुरुआती पढ़ाई अलीगढ़ के छोटे से कस्बे हरदुआगंज के एक हिंदी मीडियम स्कूल से हुई है. जिसके बाद दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से उन्होंने बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की. अलीगढ़ के एक छोटे से गांव से निकले विजय शेखर शर्मा का नाम आज फोर्स की अरबपतियों की सूची में आता है.

विजय शेखर ने 1997 में अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान ही indiasite.net नाम की एक वेबसाइट बनाई थी, और लाखों रूपए में इसे बेचा था. जिसके बाद उन्होंने वर्ष 2000 में one97 communication ltd की स्थापना की. जिसमें क्रिकेट मैच का स्कोर, जोक्स, रिंगटोन और परीक्षा के रिजल्ट जैसी खबरें बताई जातीं थीं. यही one97 communication ltd पेटीएम की पैरंट कंपनी है.

एक स्कूल अध्यापक पिता और गृहिणी मां के बेटे शर्मा उत्तर प्रदेश के छोटे से शहर के रहने वाले हैं. 2017 में ही वह भारत के सबसे कम उम्र के अरबपति बने थे.

वह कहते हैं कि बहुत समय तक उनके माता-पिता को पता ही नहीं था कि उनका बेटा करता क्या है. वह बताते हैं, “एक बार मां ने मेरी संपत्ति के बारे में हिंदी के अखबार में पढ़ा तो मुझसे पूछा कि वाकई तेरे पास इतना पैसा है." फोर्ब्स पत्रिका ने विजय शेखर शर्मा की संपत्ति 2.4 अरब डॉलर यानी भारतीय रुपयों में लगभग सवा खरब रुपये आंकी है.

नोटबंदी ने खोली किस्मत

पेटीएम की शुरुआत एक दशक पहले ही हुई है. तब यह सिर्फ मोबाइल रिचार्ज कराने वाली कंपनी थी. लेकिन ऊबर ने भारत में इस कंपनी को अपना पेमेंट पार्टनर बनाया तो पेटीएम की किस्मत बदल गई. पर पेटीएम के लिए पासा पलटा 2016 में जब भारत ने अचानक एक दिन बड़े नोटों को बैन कर दिया और डिजिटल पेमेंट्स को बढ़ावा दिया.

.

.

.

.

At the age of 27, Vijay Shekhar Sharma was earning 10 thousand rupees a month. Seeing that salary, even their marriage was getting difficult. He says, “In 2004-05, my father said that I should close my company and if someone gives 30 thousand rupees a month, then take a job.” In 2010, Sharma founded Paytm, whose IPO opened at $ 2.5 billion.


Vijay Shekhar Sharma is an Engineer. In 2004, he used to sell mobile content through a small company of his. He says that when the girl's people came to know about their income, they used to deny it. He says, “When the girls came to know that I earn ten thousand rupees a month, they would not talk again. I had become the unworthy bachelor of my family."

$2.5 trillion company

Last week, 43-year-old Sharma's company Paytm raised $ 2.5 billion, or about Rs 1.34 trillion, through an initial public offering (IPO). Finance-tech company Paytm has now become one of the most famous companies in India and also an inspiration for new industrialists.

Know how difficult the journey has been

Vijay Shekhar Sharma was born in Aligarh district of Uttar Pradesh. His father was a school teacher and mother was a housewife. Vijay Shekhar did his early studies from a Hindi medium school in Harduaganj, a small town in Aligarh. After which he obtained the degree of Bachelor of Engineering from Delhi College of Engineering. The name of Vijay Shekhar Sharma, who came out of a small village in Aligarh, comes in the list of billionaires of the force today.

Vijay Shekhar had created a website named indiasite.net during his engineering studies in 1997, and sold it for lakhs of rupees. After which he established one97 communication ltd in the year 2000. In which news like cricket match score, jokes, ringtone and exam results were told. This one97 communication ltd is the parent company of Paytm.

Sharma, the son of a school teacher father and homemaker mother, hails from a small town in Uttar Pradesh. In 2017, he became India's youngest billionaire.

He says that for a long time his parents did not know what their son was doing. He says, "Once my mother read about my wealth in a Hindi newspaper and asked me if you really have so much money." is calculated.

Demonetisation opened luck

Paytm started a decade ago. Then it was only a mobile recharge company. But when Uber made this company its payment partner in India, Paytm's fortunes changed. But the dice turned for Paytm in 2016 when India suddenly one day banned large notes and promoted digital payments.