बीकानेर: जान से मारने की नीयत से हमला कर छीन कर ले गए डेढ़ लाख रुप

बीकानेर: जान से मारने की नीयत से हमला कर छीन कर ले गए डेढ़ लाख रुप
width="75px" width="575px" width="575px"
width="575px" width="575px"
width="175px" width="475px" width="375px"

बीकानेर। शेरेरां गांव के किशनलाल ने पांच जनाें के खिलाफ जानलेवा हमला करने और डेढ़ लाख रुपए छीनकर ले जाने के आराेप में मामला दर्ज करवाया है। नापासर पुलिस काे किशनलाल ने बताया कि हेमेरां बस स्टैंड में मेरी पेस्टी साइड खाद बीज दुकान हैं। शुक्रवार शाम 5:30 बजे मैं अपनी दुकान बंद करके घर जा रहा था। मेरे पास बोलेरो कैंपर गाड़ी थी जिसको लेकर मैं अपने गांव शेरेरां जा रहा था। वहां पहले से ही सोहन राम ब्राह्मण खड़ा था।

सोनाराम ने मेरी गाड़ी रुकवाई इतने में अचानक 5 लड़के आए और मेरे ऊपर हमला कर दिया। हमला करने वालों में हेतराम, भूराराम, हरिराम, घनश्याम शामिल थे। जिन्होंने मेरे को रोककर मुझे जान से मारने की नियत से हमला किया। भूराराम के हाथ में कुल्हाड़ी थी। हेतराम के हाथ में जेई, घनश्याम के हाथ में बरछी, हरिराम के हाथ में लोहे का सरिया था। भूराराम में मेरे सिर पर कुल्हाड़ी से वार किया। अन्य लोगों ने मेरे साथ मारपीट की। मेरी गाड़ी में दुकान का कलेक्शन 1 लाख 50 हजार नगद थे। हेतराम इनकाे निकाल कर ले गया। मैंने जब हल्ला किया तो मेरा भाई लालचंद दौड़कर आया तब वह लोग मुझे छोड़ कर भाग गए।

.

.

.

Bikaner. Kishanlal of Shereran village has registered a case against five people for carrying out a deadly attack and taking away one and a half lakh rupees. Kishanlal told the Napasar police that I have a pasty-side compost seed shop in Hemeran bus stand. On Friday evening at 5:30 I was going home after closing my shop. I had a Bolero camper vehicle with which I was going to my village Shereran. Sohan Ram Brahmin was already standing there.

Sonaram stopped my car, suddenly 5 boys came and attacked me. The attackers included Hetram, Bhuraram, Hariram, Ghanshyam. Who stopped me and attacked me with the intention of killing me. Bhuraram had an ax in his hand. Hetram had a JE in his hand, Ghanshyam had a spear in his hand, and Hariram had an iron bar in his hand. In Bhuraram, I was hit on the head with an axe. Other people beat me up. The collection of the shop in my car was 1 lakh 50 thousand cash. Hetram took them out and took them away. When I attacked, my brother Lalchand came running, then they left me and ran away.