उपचुनाव की जीत के बाद गहलोत के मजबूत होने के सवाल पर पायलट ने कही ये बड़ी बात....

उपचुनाव की जीत के बाद गहलोत के मजबूत होने के सवाल पर पायलट ने कही ये बड़ी बात....
07 ..............................
5
width="300px" M24C01D20S21 width="220px" M26C01D20S21 width="220px" width="220px"

यह गलतफहमी नहीं पालनी चाहिए कि मेरे दम पर ही चुनाव जीतते हैं – पायलट

 - उपचुनाव की जीत के बाद गहलोत के मजबूत होने के सवाल पर पायलट ने कही ये बड़ी बात

जयपुर। पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने उपचुनाव में कांग्रेस के जीतने से सीएम गहलोत के मजबूत होने के सवाल पर तंज कसते हुए कहा कि चुनाव पार्टी लड़ती है, केवल मैं तो अकेला लड़ता नहीं, या सिर्फ सीएम ही नहीं लड़ते हैं। पूरा संगठन और पूरे कार्यकर्ता-नेता लड़ते हैं। जितने उप चुनाव हुए हैं उनमें अधिकांश में कांग्रेस जीती है क्योंकि सबने मिलकर चुनाव लड़ा है। कोई भी एक व्यक्ति कितना बड़ा नेता हो, किसी को यह गलतफहमी नहीं पालनी चाहिए कि मेरे दम पर ही चुनाव जीतते हैं।

पायलट ने आज एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में भाग लेते हुए कहा कि हम दोबारा सरकार में क्यों नहीं आते, इस पर आत्म चिंतन करना होगा। पहले हम 150 सीट जीतकर 50 पर रह गए, फिर 100 जीतकर 21 पर रह गए। दोबारा जीतने के लिए हमें कुछ पॉजिटिव करना होगा। ऐसा नहीं है कि कांग्रेस सरकारें रिपीट नहीं होती, असम, दिल्ली में तीन बार रिपीट हुई हैं, हरियाणा, आंध्र में रिपीट हो चुकी हैं। राजस्थान कोई देश के बाहर का हिस्सा थोड़े ही है, यहां भी सरकार रिपीट हो सकती है। लेकिन हमें सोचना पड़ेगा कि आगे हम ऐसा क्या करें कि सरकार रिपीट हो ।

उन्होंने कहा कि पार्टी का झंडा उठाने वालों को हम मान सम्मान देते हैं तो उसमें पार्टी का हित है। हमारे इन मुद्दों पर चर्चा के लिए कमेटी बनी थी। इसमें देरी हुई लेकिन अब सही रास्ते पर आ गए हैं। पार्टी के लिए लाठी खाने वाले के मान सम्मान की बात उठाते हुए पायलट ने कहा कि नाराजगी मेरी व्यक्ति से नहीं है। सब लोगों को लगे कि हम सरकार में स्टेक हॉल्डर हैं। सब मंत्री नहीं बन सकते और सब मंत्री बनना भी नहीं चाहते, लेकिन उनकी सरकार में भागीदारी सुनिश्चित हो। जिन्होंने परिवार का नुकसान झेला, अब उन्हें लगना चाहिए कि सरकार उनकी है। पार्टी और सरकार मिलकर काम करेंगे तो जो 30 साल से चला आ रही परिपाटी खत्म हो। 2023 में फिर से कांग्रेस की सरकार बने।

पायलट ने कहा- हम सामूहिक लीडरशिप में चुनाव लड़ेंगे और बाद में सीएम का फैसला करेंगे। 2023 में चुनाव होंगे तो पॉलिसी के तहत पहले से सीएम डिक्लेयर नहीं करेंगे। सीएम कौन बनेगा यह विधायकों पर सब निर्भर रहेगा। खुद के सीएम नहीं बनने के सवाल पर सचिन पायलट ने कहा है कि चेहरे सभी के सामने होंगे। भविष्य के गर्भ में क्या छिपा है वह किसी को नहीं पता। किस्मत में जो लिखा है उसे तो कोई छीन नहीं सकता और जो नहीं लिखा है उसे कोई दे नहीं सकता।

.

.

.

It should not be misunderstood that I win elections on my own: Pilot

On the question of Gehlot's strength after the victory of the by-election, Pilot said this big thing

Jaipur. Former Deputy Chief Minister Sachin Pilot took a jibe at the question of CM Gehlot getting stronger if Congress won the by-election and said that the party fights the election, only I do not fight alone, or only CM does not fight. The whole organization and the entire worker-leader fight. Congress has won most of the by-elections that have been held because they all fought together. No matter how big a leader a person is, one should not follow the misconception that he wins elections on his own.

Taking part in the program of a TV channel today, Pilot said that why we do not come to the government again, we will have to reflect on it. First we were reduced to 50 by winning 150 seats, then we were reduced to 21 after winning 100. To win again, we have to do something positive. It is not that Congress governments do not repeat, it has been repeated thrice in Assam, Delhi, it has been repeated in Haryana, Andhra. Rajasthan is not a part of any country outside the country, the government can repeat here too. But we have to think that what should we do next so that the government repeats itself.

He said that if we give respect to those who raise the flag of the party, then it is in the interest of the party. A committee was formed to discuss these issues with us. It was delayed but now on the right track. Raising the respect of the person who eats sticks for the party, Pilot said that the displeasure is not with my person. Everyone should feel that we are stake holders in the government. Not all can become ministers and not all want to become ministers, but their participation in the government should be ensured. Those who suffered the loss of the family should now feel that the government belongs to them. If the party and the government work together, then the practice which has been going on for 30 years will end. Congress government was again formed in 2023.

Pilot said- We will contest the elections under collective leadership and will decide the CM later. If elections are held in 2023, the CM will not declare in advance under the policy. Who will become the CM, it will all depend on the MLAs. On the question of not becoming CM himself, Sachin Pilot has said that the faces will be in front of everyone. No one knows what is hidden in the womb of the future. No one can snatch what is written in fate and no one can give what is not written.