इस साल बिना परीक्षा प्रमोट नहीं होगा कोई भी विद्यार्थी

इस साल बिना परीक्षा प्रमोट नहीं होगा कोई भी विद्यार्थी
width="75px" width="575px" width="575px"
width="575px" width="575px"
width="175px" width="475px" width="375px"

बीकानेर। शिक्षा विभाग ने स्पष्ट कर दिया है कि इस साल कोई भी स्कूली स्टूडेंट बिना एग्जाम के प्रमोट नहीं होगा। इस बार स्टूडेंट्स को बाकायदा एग्जाम देना होगा और वो भी लिखित में। अंतर सिर्फ इतना होगा कि इस बार पेपर घर तक पहुंचेगा और उसका उत्तर लिखकर स्कूल पहुंचाना होगा। सरकारी स्कूल्स की सभी क्लासेज में ये टेस्ट गुरुवार को यानी 9 सितंबर को होगा, जबकि प्राइवेट स्कूल्स 30 सितंबर तक अपनी सुविधा के अनुसार कभी भी फस्र्ट टेस्ट आयोजित कर सकेंगे।


माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने बताया कि 9 सितम्बर को सभी सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स फस्र्ट टेस्ट देंगे। इसके लिए विभाग की ओर से एक लिंक उपलब्ध कराया जाएगा। सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स को 21 जून से श्व-कंटेंट वॉट्सऐप ग्रुप व यूट्यूब के माध्यम से भेजा गया था। वो कंटेंट ही फस्र्ट टेस्ट का सिलेबस होगा। जिन विषयों का ई-कंटेंट नहीं भेजा गया है, उसका टेस्ट अभी नहीं होगा। इसके लिए अलग से तारीख तय की जाएगी।


इस तरह होगा टेस्ट
गुरुवार को होने वाली इस परीक्षा में क्लास 1 से 10 के लिए सभी विषयों का एक ही पेपर तैयार किया जाएगा। वहीं 11वीं और 12वीं के लिए हिन्दी व अंग्रेजी अनिवार्य विषयों के साथ सभी विषयों के अलग-अलग टेस्ट होंगे। प्रत्येक विषय में 20 प्रश्न होंगे। प्रत्येक प्रश्न 1 नंबर का होगा। प्रश्न पत्र में प्रत्येक विषय के 20 अंक होंगे। सभी विषय में प्रश्न वैकल्पिक यानी ऑब्जेक्टिव होंगे। अ, ब, स और द में से एक उत्तर चुनना होगा।


किस क्लास में क्या विषय
क्लास 1 व 2 के पेपर में सिर्फ दो सेक्शन होंगे। ्र सेक्शन में हिन्दी व क्च सेक्शन में गणित के सवाल होंगे। इसी तरह क्लास 2 से 5 में तीन सेक्शन होंगे। ्र सेक्शन में हिन्दी, में अंग्रेजी व ष् में गणित के सवाल होंगे। इसी तरह क्लास 6 से 10 में 6 सेक्शन होंगे। इसमें सेक्शन ्र में हिन्दी, क्च में अंग्रेजी, ष्ट में गणित, ष्ठ में विज्ञान, श्व में सामाजिक विज्ञान तथा स्न में संस्कृत होगा। 11वीं और 12वीं में दो पेपर होंगे। पहले पेपर के सेक्शन ्र में हिन्दी, क्च में अंग्रेजी होगी। वहीं दूसरे में तीनों ऑप्शनल पेपर के तीन सेक्शन होंगे। जैसे अगर साइंस विषय है तो केमेस्ट्री, बायोलॉजी व फिजिक्स के अलग-अलग विषयों के बीस-बीस प्रश्न एक ही पेपर में आएंगे।
ऐसे मिलेंगे पेपर


स्टूडेंट्स को पेपर देने के लिए शिक्षा विभाग ने कई तरह के माध्यम चुने हैं। क्लास 9 से 12 तक के स्टूडेंट्स को तो स्कूल में ही एग्जाम देना होगा। वहीं क्लास 1 से 8 तक के स्टूडेंट्स को वॉट्सऐप ग्रुप के माध्यम से पेपर भेजे जाएंगे। अगर वॉट्सऐप ग्रुप में नहीं है, तो स्कूल से पेपर की हार्ड कॉपी ली जा सकती है। अगर किसी एरिया में डिजिटल पहुंच नहीं है तो टीचर्स स्टूडेंट्स के घर जाकर उसको पेपर देंगे। इसके बाद स्टूडेंट्स को उत्तर पुस्तिका स्कूल तक पहुंचानी होगी। सभी स्टूडेंट्स की उत्तर पुस्तिका लेने की जिम्मेदारी संबंधित टीचर की होगी। 18 सितम्बर तक कॉपी जांच करके रिकॉर्ड पर नंबर लेने होंगे।


प्राइवेट स्कूल्स में 30 सितम्बर तक एग्जाम
शिक्षा विभाग ने राज्य के सभी प्राइवेट स्कूल्स को निर्देश दिए हैं कि वो अपने स्टूडेंट्स के क्लास 1 से 12 तक के फस्र्ट टेस्ट 30 सितंबर तक अनिवार्य रूप से लें। सरकारी स्कूल की तरह प्राइवेट स्कूल भी ई-कंटेंट के आधार पर ही टेस्ट लेंगे। स्टूडेंट्स को जो ई-कंटेंट अब तक भेजा गया है, उसी में से प्रश्न लेने होंगे। फस्र्ट टेस्ट के रिकॉर्ड को सुरक्षित रखना होगा।


इस बार फाइनल में हर टेस्ट का वेटेज होगा
इस बार स्टूडेंट्स को सीधे प्रमोट नहीं किया जाएगा। ऐसे में इस टेस्ट का गैर बोर्ड क्लासेज के लिए 10 अंक का वेटेज रहेगा और बोर्ड परीक्षाओं के लिए 20 अंक का वेटेज रहेगा। इसका मतलब है कि ये ही अंक फाइनल एग्जाम में काम आएंगे।

.

.

.

.

Bikaner. The Education Department has made it clear that this year no school student will be promoted without exams. This time the students will have to give proper exam and that too in writing. The only difference will be that this time the paper will reach home and the answer will have to be written and sent to school. In all classes of government schools, this test will be held on Thursday i.e. on September 9, while private schools will be able to conduct the first test at any time according to their convenience till September 30.


Director of Secondary Education Saurabh Swamy told that on September 9, all government school students will give the first test. For this a link will be made available by the department. From June 21, students of government schools were sent through self-content WhatsApp group and YouTube. That content will be the syllabus of the first test. The subjects whose e-content has not been sent, will not be tested yet. A separate date will be fixed for this.


test will be like this
In this examination to be held on Thursday, only one paper will be prepared for all subjects for classes 1 to 10. There will be separate tests for all subjects with Hindi and English as compulsory subjects for class 11th and 12th. There will be 20 questions in each subject. Each question will be of 1 mark. Each subject will carry 20 marks in the question paper. The questions in all the subjects will be optional i.e. objective. One answer has to be chosen from A, B, C and D.


what subject in which class
There will be only two sections in the paper of class 1 and 2. There will be questions from Hindi in Q section and Mathematics in Q section. Similarly there will be three sections in class 2 to 5. There will be questions from Hindi in Hindi, in English and in Mathematics section. Similarly there will be 6 sections in class 6 to 10. In this section, there will be Hindi in section, English in class, maths in class X, science in class II, social science in world and Sanskrit in class. There will be two papers in 11th and 12th. In the first paper section, there will be Hindi in section, English in class. In the second there will be three sections of all the three optional papers. For example, if science is a subject, then twenty-twenty questions from different subjects of chemistry, biology and physics will come in a single paper.
paper will be found like this


The education department has chosen a variety of mediums to deliver the papers to the students. Students of class 9 to 12 will have to give exam in the school itself. Whereas, the papers will be sent to the students of class 1 to 8 through WhatsApp group. If WhatsApp is not in the group, then the hard copy of the paper can be taken from the school. If there is no digital access in any area, then the teachers will go to the student's house and give him paper. After this, the students will have to deliver the answer sheet to the school. It will be the responsibility of the concerned teacher to collect the answer sheets of all the students. By September 18, after checking the copy, numbers will have to be taken on record.


exam in private schools till 30 september
The Education Department has instructed all the private schools in the state to compulsorily take the first test of their students from class 1 to 12 by 30 September. Like government schools, private schools will also take tests on the basis of e-content. Students will have to take questions from the e-content that has been sent so far. The record of the first test has to be kept safe.


This time the weightage of each test will be in the final.
This time the students will not be promoted directly. Therefore, this test will have a weightage of 10 marks for non-board classes and 20 marks for board exams. This means that these marks will be useful in the final exam.