”फोन उठाना अधिकारियों की जिम्मेदारी” -संभागीय आयुक्त नीरज के पवन

”फोन उठाना अधिकारियों की जिम्मेदारी” -संभागीय आयुक्त नीरज के पवन
...
width="120px" width="175px" alt= alt=

बीकानेर ब्यूरोक्रेट्स और मंत्री मीणा के बीच अभद्र व्यवहार वह फोन रिसीव करना उपजे विवाद को लेकर अब आईएएस अधिकारी भी जनता के बीच अपना पक्ष रखने लग गए हैं बीकानेर में गुरुवार को एक सामाजिक कार्यक्रम में संभागीय आयुक्त नीरज के पवन ने कहा की जनता के फोन रिसीव करना अधिकारी की जिम्मेदारी और जवाबदेही में ही शामिल है

नीरज के पवन ने कहा कि इतने सारे फोन आते हैं उठाने पड़ते हैं पूरा प्रयास किया जाता है कि आम जनता का भी फोन आता है तो उसका जवाब दिया जाए हमारी जवाबदेही है उस अंतिम आदमी तक जो किसी विश्वास के साथ हमें अपनी समस्या के लिए हमें फोन करता है

हमें लोक सेवक के रूप में पदस्थापित किया गया है आम जनता को विश्वास होना चाहिए कि अधिकारी को फोन करूंगा तो सुनवाई होगी इसी से जनता का सरकार के प्रति विश्वास बनता है!

...........................................

In a social program in Bikaner on Thursday, Divisional Commissioner Neeraj K Pawan said that receiving the phones of public To do is included in the responsibility and accountability of the officer only
 
Neeraj K Pawan said that so many calls have to be taken, every effort is made to answer the call of the general public as well. calls
 
We have been posted as a public servant, the general public should have faith that if I call the officer, there will be a hearing, this builds the public's faith in the government!