संक्रमण कम नहीं हुआ तो टाली जा सकती है बोर्ड परीक्षा-शिक्षा मंत्री डॉक्टर बी.डी.कल्ला

संक्रमण कम नहीं हुआ तो टाली जा सकती है बोर्ड परीक्षा-शिक्षा मंत्री डॉक्टर बी.डी.कल्ला
07 ..............................
5
width="300px" M24C01D20S21 width="220px" M26C01D20S21 width="220px" width="220px"

जयपुर,कोरोना की नई गाइडलाइन में सरकार ने शहरों के स्कूल बंद किए हैं, वहीं गांवों में स्कूल खुले रखे गए हैं। इस पर शिक्षा मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने कहा है कि गांवों में कोरोना संक्रमण का खतरा कम है, इसलिए वहां स्कूल बंद नहीं किए हैं। शहरों में भीड़भाड़ से संक्रमण का खतरा ज्यादा है। यदि गांवों में जहां संक्रमण फैलता है तो वहां स्कूल बंद किए जा सकते हैं। वहीं मार्च में बोर्ड परीक्षाएं कराने के फैसले पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि तैयारी रखना जरूरी है, यदि संक्रमण की रफ्तार कम नहीं हुई तो परीक्षाएं टाली जा सकती हैं।

 डॉ. कल्ला ने कहा कि गांवों में अभिभावक चाहें तो बच्चों को स्कूल न भेजें। उन्हें ऑनलाइन क्लास का भी विकल्प दिया है। शहरों में जितनी भीड़ है, उतनी गांवों में नहीं है। कोविड गांवों में नहीं फैला है। फिर भी हमारे निर्देश हैं कि कलेक्टर स्थानीय स्तर पर जरूरत के अनुसार गांवों के स्कूल भी बंद कर सकते हैं।

 शिक्षा मंत्री कल्ला ने कहा कि हमने स्थानीय अध्यापकों से 17 जनवरी से बोर्ड क्लास के प्रैक्टिकल एग्जाम करवाने का फैसला किया है। 15 से 20 के बैच में प्रैक्टिकल एग्जाम लेंगे इसलिए खतरा भी नहीं है। कोरोना पीक पर था तब भी उसी हिसाब से ही एग्जाम करवाए थे। बोर्ड परीक्षाएं नहीं करवाएंगे तो हमारे स्टूडेंट्स पीछे रह जाएंगें।

हालात देखकर लेंगे बोर्ड परीक्षाओं पर फैसला

कल्ला ने कहा कि बोर्ड परीक्षाएं 3 मार्च से करवाने का फैसला लिया है, लेकिन यह सब कोरोना संक्रमण के हालात पर निर्भर करेगा। संक्रमण ज्यादा फैला तो परीक्षाएं टल भी सकती हैं। शिक्षा मंत्री ने कहा कि हमने 3 मार्च से लेकर 26 मार्च तक बोर्ड परीक्षाओं का टाइम टेबल बनाया है। बोर्ड परीक्षाओं में मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग से लेकर पूरे कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखा जाएगा। फिर भी बहुत ज्यादा संक्रमण हुआ तो परिस्थिति के हिसाब से विचार कर लिया जाएगा, लेकिन एक बार तैयारी रखना जरूरी है।

 कोरोना को देखते हुए 10वीं और 12 वीं का सिलेबस कम नहीं होगा। शिक्षा मंत्री बी.डी. कल्ला ने कहा कि इस बार स्कूलों में ऑनलाइन और ऑफलाइन पढ़ाई लगभग पूरे समय हुई है, इसलिए अभी सिलेबस कम करने का कोई प्रस्ताव नहीं है।

.

.

.

In the new guidelines of Jaipur, Corona, the government has closed schools in cities, while schools in villages have been kept open. On this, Education Minister Dr. B.D. Kalla has said that the risk of corona infection in villages is low, so schools have not been closed there. The risk of infection is high in cities due to overcrowding. If there is an infection in the villages where the infection spreads, then schools can be closed. At the same time, while clarifying the decision to conduct board examinations in March, he said that it is important to be prepared, if the pace of infection does not slow down, then the examinations can be postponed.

Dr. Kalla said that parents in villages should not send their children to school if they want. They have also been given the option of online classes. There is not as much crowd in the villages as there is in the cities. Kovid has not spread in villages. Nevertheless, we have instructions that the collector can also close the schools in the villages as per the need at the local level.

Education Minister Kalla said that we have decided to conduct practical examination of board class from January 17 with local teachers. Practical exams will be taken in batches of 15 to 20, so there is no danger. Even when Corona was on peak, exams were conducted accordingly. Our students will be left behind if the board does not conduct examinations.


Will decide on board exams after seeing the situation

Kalla said that it has been decided to conduct the board examinations from March 3, but it will all depend on the situation of corona infection. If the infection spreads more, the examinations can also be postponed. The Education Minister said that we have prepared the time table for board examinations from March 3 to March 26. From masks, social distancing to the entire Kovid protocol will be taken care of in the board examinations. Still, if there is a lot of infection, it will be considered according to the situation, but it is necessary to prepare once.

In view of Corona, the syllabus of 10th and 12th will not be reduced. Education Minister B.D. Kalla said that this time online and offline studies have taken place in schools almost full time, so there is no proposal to reduce the syllabus as of now.