BPCL के LPG ग्राहकों को कैसे मिलेगा सब्सिडी का फायदा, बन गया है प्लान

BPCL के LPG ग्राहकों को कैसे मिलेगा सब्सिडी का फायदा, बन गया है प्लान
width="75px" width="575px" width="575px"
width="575px" width="575px"
width="175px" width="475px" width="375px"

निजीकरण की प्रक्रिया से गुजर रही भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने अपने एलपीजी ग्राहकों के लिए एक नया प्लेटफॉर्म तैयार किया है। इस प्लेटफॉर्म के जरिए एलपीजी ग्राहकों को सब्सिडी दी जाएगी।

एक सरकारी अधिकारी ने नाम न छापने के शर्त पर बताया, “यह स्पष्ट कर दिया गया है कि जो कोई भी बीपीसीएल का अधिग्रहण करेगा उसे सरकार की एलपीजी योजना चलानी होगी। सरकार सब्सिडी का बोझ वहन करेगी।” अधिकारी ने आगे बताया कि सब्सिडी की प्रक्रिया को अलग रखना होगा। इसके लिए बीपीसीएल द्वारा एक मंच और तंत्र विकसित किया गया है, इसी प्लेटफॉर्म पर सब्सिडी की योजना चलेगी। आपको बता दें कि सरकार एलपीजी सिलेंडर पर सब्सिडी देती है। ये सब्सिडी सीधे ग्राहकों के खाते में दी जाती है।

सरकार बेच रही पूरी हिस्सेदारी: सरकार बीपीसीएल में अपनी पूरी 52.98 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच रही है। इसके लिये तीन रुचि पत्र प्राप्त हुए हैं। इसमें एक रुचि पत्र उद्योगपति अनिल अग्रवाल की अगुवाई वाले वेदांता समूह का है। वेदांता समूह के अलावा, दो अमेरिकी फंड-अपोलो ग्लोबल और आई स्क्वेयर्ड कैपिटल ने भी बीपीसीएल में दिलचस्पी दिखाई है।

निजीकरण में देरी की आशंका: इस बीच, रेटिंग एजेंसी फिच रेटिंग्स ने कहा है कि जटिल प्रक्रिया की वजह से बीपीसीएल के निजीकरण में देरी हो सकती है। रेटिंग एजेंसी ने कहा, ‘‘बोलीदाता जांच-पड़ताल का काम कर रहे हैं। लेकिन बोलीदाता समूह और मूल्यांकन समेत जटिल प्रक्रियाओं को देखते हुए निजीकरण में विलंब हो सकता है।’’

रेटिंग एजेंसी ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि आगे कोविड-19 की तीसरी लहर और वैश्विक तेल तथा गैस कंपनियों के ऊर्जा क्षेत्र में बदलाव पर ध्यान केंद्रित करने से क्षेत्र में संभावित बड़े अधिग्रहण के समय और मूल्यांकन को लेकर अनिश्चितता दिखाई दे रही है।’’ फिच ने बीपीसीएल को नकारात्मक परिदृश्य के साथ ‘बीबीबी -’ रेटिंग दी हुई है।

Bharat Petroleum Corporation Limited (BPCL), which is going through the process of privatization, has created a new platform for its LPG customers. LPG customers will be given subsidy through this platform.

A government official on the condition of anonymity said, “It has been made clear that whoever takes over BPCL will have to run the government's LPG scheme. The government will bear the subsidy burden." The official further said that the subsidy process will have to be kept separate. For this a platform and mechanism has been developed by BPCL, on this platform the subsidy scheme will run. Let us tell you that the government gives subsidy on LPG cylinders. This subsidy is given directly into the account of the customers.

Government is selling its entire stake: The government is selling its entire 52.98 percent stake in BPCL. Three letters of interest have been received for this. An expression of interest in this is from the Vedanta Group led by industrialist Anil Agarwal. Apart from Vedanta Group, two US funds- Apollo Global and I Squared Capital have also shown interest in BPCL.

Fear of delay in privatization: Meanwhile, rating agency Fitch Ratings has said that BPCL's privatization may be delayed due to the complicated process. The rating agency said, "The bidders are doing the work of investigation. But privatization may get delayed due to complex procedures including bidder group and evaluation.

The rating agency said, “We believe that the third wave of Kovid-19 ahead and the focus of global oil and gas companies on energy sector transformation are showing uncertainty about the timing and valuation of potential major acquisitions in the sector. Fitch has given BPCL a 'BBB-' rating with a negative outlook.