हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, कहा- ऑनलाइन रमी एक स्किल वाला खेल, इस पर बैन असंवैधानिक

याचिकाकर्ताओं ने कोर्ट में तर्क दिया कि दांव लगाकर खेले जाने वाले स्किल वाले ऑनलाइन रमी से याचिकाकर्ताओं को जो लाभ हो रहा है, वो एक व्यवसाय की तरह है.

हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, कहा- ऑनलाइन रमी एक स्किल वाला खेल, इस पर बैन असंवैधानिक
07
5
width="150px" 5m12c20d21 width="150px" 13m10c20d21s width="220px"

हाई कोर्ट ने आज ऑनलाइन रमी को स्किल से जुड़ा हुआ बताते हुए इस पर बैन लगाने को असंवैधानिक करार दे दिया. न्यायमूर्ति टीआर रवि की सिंगल बेंच ने राज्य सरकार के बैन के खिलाफ दायर याचिकाओं में सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया. कोर्ट ने कहा कि रमी जैसे पैसे के लिए खेले जाने वाले कौशल के ऑनलाइन गेम पर प्रतिबंध लगाना मनमाना और मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है. कोर्ट ने सरकार के नोटिफिकेशन को असंवैधानिक बताते हुए इस पर रोक लगाने से इनकार कर दिया.

याचिकाकर्ताओं ने केरल सरकार के 23 फरवरी, 2021 को जारी आदेश को चुनौती दी थी. सरकार ने केरल गेमिंग अधिनियम, 1960 के प्रावधानों के तहत राज्य में ऑनलाइन रमी बैन लगा दिया था. कोर्ट में याचिकाकर्ताओं ने आंध्र प्रदेश राज्य बनाम के सत्यनारायण और अन्य और केआर लक्ष्मणन बनाम तमिलनाडु राज्य और अन्य में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला दिया था. इस फैसलों में सुप्रीम कोर्ट ने भी माना था कि रमी मुख्य रूप से स्किल यानी कौशल का खेल है.

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने माना था कि जिस खेलों में सफलता पूरी तरह से कौशल पर निर्भर है उसे जुआ नहीं माना जाएगा. इसी लिए रमी को राज्य के जुआ और गेमिंग कानूनों के तहत बैन नहीं किया जा सकता. याचिकाकर्ताओं ने कोर्ट में तर्क दिया कि दांव लगाकर खेले जाने वाले स्किल वाले ऑनलाइन रमी से याचिकाकर्ताओं को जो लाभ हो रहा है, वो एक व्यवसाय की तरह है. इसलिए इसे भारत के संविधान के अनुच्छेद 19 (1) (जी) के तहत संरक्षण प्राप्त है.

बता दें कि केरल सरकार ने बैन का फैसला हाई कोर्ट के उस डायरेक्टिव के बाद लिया था जिसमें जिसमें राज्य सरकार से ऑनलाइन रमी बिजनस के खिलाफ कदम उठाने को कहा गया था. हाई कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई करते हुए भारतीय क्रिकेट के कप्तान विराट कोहली और अभिनेत्री तमन्ना को नोटिस जारी किया था. ये दोनों सेलिब्रिटी मोबाइल प्रीमियर लीग (MPL) का विज्ञापन करते हैं. एमपीएल ऑनलाइन रमी और दूसरे ताश के खेल अपने प्लेटफॉर्म पर खिलवाती है.

.

.

.

The High Court today declared the ban on online rummy as skill related and declared it unconstitutional.  A single bench of Justice TR Ravi gave this order while hearing petitions filed against the state government's ban.  The court said that banning online games of skill played for money like rummy is arbitrary and violative of fundamental rights.  The court refused to stay the government's notification, calling it unconstitutional.


 The petitioners had challenged the Kerala government's order dated February 23, 2021.  The government had banned online rummy in the state under the provisions of the Kerala Gaming Act, 1960.  In the court, the petitioners had referred to the judgment of the Supreme Court in the State of Andhra Pradesh v. K. Satyanarayana et al. and KR Lakshmanan v. State of Tamil Nadu and others.  In this judgment, the Supreme Court also held that Rummy is primarily a game of skill.


 Along with this, the Supreme Court had held that the games in which success is completely dependent on skill will not be considered as gambling.  That's why rummy cannot be banned under the state's gambling and gaming laws.  The petitioners argued in the court that the benefit that the petitioners are getting from online rummy with skill to be played is like a business.  Therefore it is protected under Article 19(1)(g) of the Constitution of India.


 Let us inform that the decision of the ban was taken by the Kerala government after the High Court directive in which the state government was asked to take steps against the online rummy business.  While hearing the matter, the High Court had issued notices to Indian cricket captain Virat Kohli and actress Tamannaah.  Both of these celebrities advertise the Mobile Premier League (MPL).  MPL offers Online Rummy and other card games on its platform.