सड़क दुर्घटनाओं में घटिया हेलमेट के इस्तेमाल की वजह से हो रही मौतों को रोकने के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन

सड़क दुर्घटनाओं में घटिया हेलमेट के इस्तेमाल की वजह से हो रही मौतों को रोकने के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन
width="75px" width="575px" width="575px"
width="575px" width="575px"
width="175px" width="475px" width="375px"

सड़क दुर्घटनाओं में घटिया हेलमेट के इस्तेमाल की वजह से हो रही मौतों को रोकने के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की ओर से हेलमेट को भारतीय मानक ब्यूरो की अनिवार्य सूची में शामिल कर लिया है। इसके तहत बिना स्टैंडर्ड मानक का हेलमेट पहना तो अब 1 हजार रुपए का जुर्माना भरना होगा।

मानक के तहत हेलमेट नहीं होने पर निर्माता और बेचने वाले पहली बार 2 लाख रुपए तो दूसरी बार 5 लाख रुपए तक का जुर्माना और 6 माह की सजा का प्रावधान हैं। घटिया हेलमेट पहनने वालों को बिना हेलमेट की श्रेणी में माना जाएगा। सूची में शामिल के बाद हेलमेट निर्माता कंपनियां सब स्टैंडर्ड के हेलमेट का निर्माण नहीं कर सकेंगी।

वे एक्चुअल स्टैंडर्ड के हेलमेट का ही निर्माण कर सकेंगे। दूसरी ओर, हेलमेट निर्माता कंपनियों को लाइट वेट वाले हेलमेट का निर्माण करना होगा, जिसका वजन 1 किलो 200 ग्राम से ज्यादा का नहीं होगा। एयर वेंटीलेटर होना अनिवार्य हैं।

थड़ी-ठेलों और फुटपाथ पर नहीं बेचे जा सकेंगे हेलमेट
घटिया हेलमेट पहनने पर अभी कार्रवाई का प्रावधान नहीं था। अब बांट माप इंस्पेक्टर, पुलिस और परिवहन विभाग के अफसर कार्रवाई करेंगे। इसे थड़ी-ठेलों और फुटपाथ पर नहीं बेच सकेंगे। बेचने के लिए लाइसेंस जरूरी होगा। परिवहन आयुक्त (सड़क सुरक्षा) निधि सिंह का कहना है नए कानून में अब घटिया हेलमेट पहनने पर कार्रवाई होगी। वेबिनार के जरिए जागरूक कर रहा है। इसके बाद पुलिस सहित अन्य विभाग कार्रवाई कर सकेंगे।

In order to prevent deaths due to use of substandard helmets in road accidents, helmets have been included in the mandatory list of Bureau of Indian Standards by the Union Ministry of Road Transport and Highways. Under this, wearing a helmet without a standard standard will now have to pay a fine of Rs 1,000.


Under the standard, if the manufacturer and seller does not have a helmet, there is a provision of fine up to Rs 2 lakh for the first time and Rs 5 lakh for the second time and imprisonment for 6 months. Those wearing substandard helmets will be treated as without helmet. Helmet manufacturers will not be able to manufacture sub-standard helmets after being included in the list.


They will be able to manufacture helmets of actual standard only. On the other hand, helmet manufacturing companies will have to manufacture lightweight helmets whose weight will not exceed 1 kg 200 grams. Air ventilator is mandatory.


Helmets will not be sold on handcarts and pavements
There was no provision for action for wearing substandard helmets. Now the Inspector, Police and Transport Department officers will take action. You will not be able to sell it on the sidewalks and sidewalks. A license will be required to sell. Transport Commissioner (Road Safety) Nidhi Singh says that under the new law, action will be taken against wearing substandard helmets. Raising awareness through webinars. After this, other departments including the police will be able to take action.