राजस्थान की माटी में जन्मा यह पुलिस अधिकारी संभालेगा पंजाब पुलिस की कमान, जानिए इनके बारे में सबकुछ

राजस्थान की माटी में जन्मा यह पुलिस अधिकारी संभालेगा पंजाब पुलिस की कमान, जानिए इनके बारे में सबकुछ
07 ..............................
5
width="300px" M24C01D20S21 width="220px" M26C01D20S21 width="220px" width="220px"

राजस्थान की माटी से कई नायाब रत्नों निकले हैं, जिन्होंने देश- दुनिया में अपनी ख्याति बढ़ाई है। इसी में एक और कीर्तिमान जुड़ने वाला है। भरतपुर के बयाना कस्बे के स्वतंत्रता सेनानी स्व. गोपालराम भावरा एडवोकेट के पुत्र सीनियर आईपीएस वीरेन्द्र भावरा को अब पंजाब में पुलिस का नया मुखिया (डीजीपी) बनाया गया है। वीके भावरा के पंजाब का डीजीपी बनाये जाने की खबर मिलते ही लोगों ने उनके मकान के सामने अतिथिबाजी कर मिठाइयां बांटकर खुशी जाहिर की। वीरेश के पिता स्व.गोपाल भावरा स्वतंत्रता सेनानी एवं फौजदारी के जाने माने वकील रहे थे। वीरेश की पत्नी भी सीनियर आईएएस है जो पंजाब में तैनात हैं।

पीएम सुरक्षा में चूक के बाद भावरा को मिली नए डीजीपी का जिम्मा

गौरतलब रहे कि पंजाब के फिरोजपुर इलाके में गत पांच जनवरी को सभा करने जा रहे पीएम नरेन्द्र मोदी के रास्ते में प्रदर्शकारियों के काफिले को रोकने पर खासा बवाल हो गया था। इसके चलते पंजाब सरकार की खासी किरकिरी हुई थी। सरकार को डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय व एसएसपी फिरोजपुर हरमनदीप को शनिवार को हटा दिया। अब चुनाव तारीखों की घोषणा से पहले पंजाब सरकार ने 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी वीके भावरा के चयन पर मोहर लगा दी। अब वह पंजाब के नए डीजीपी होंगे।

पांच भाई-बहनों में सबसे मेधावी थे वीरेश

वीरेश के छोटे भाई वरिष्ठ पत्रकार योगेश भावड़ा ने बताया उनकी प्रारंभिक शिक्षा बयाना के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में हुई। पांच भाई-बहनों में सबसे मेधावी वीरेश भावड़ा की 10वीं व 11वीं कक्षा में राज्य मैरिट आई थी , वो साइंस फैकल्टी के सबसे मेधावी छात्र थे। उन्होंने राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा के तहत स्कॉलरशिप भी प्राप्त की थी। स्कूली शिक्षा के बाद उन्होंने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से बीटेक व एमटेक किया। इसके बाद वे बीएचईएल भोपाल में सलेक्ट होकर इंजीनियर के पद पर कार्य किया, वहीं रहते हुए उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में बेहतर स्थान प्राप्त करते हुए 1987 बैच के आईपीएस बने।

असम कैडर में मिली थी पहली पोस्टिंग

असम कैडर में उनकी पहली पोस्टिंग हुई। वहां पर तत्कालीन डीजीपी केपीएस गिल के साथ उन्होंने कार्य किया। पंजाब के आतंकवाद के दौर में जब केंद्र सरकार ने केपीएस गिल को पंजाब का डीजीपी नियुक्त किया तो गिल उन्हें अपने साथ पंजाब ले आए। 1992 में उनकी शादी 1988 बैच की आईएएस अंजली भावड़ा के साथ हुई। उनके पिता बयाना नगर पालिका चेयरमैन व बयाना पंचायत समिति के प्रधान भी रहे हैं।

.

.

.

Many rare gems have emerged from the soil of Rajasthan, which have increased their fame in the country and the world. Another record is about to be added to this. The freedom fighter of Bharatpur's Bayana town, Late. Senior IPS Virendra Bhavra, son of Gopal Ram Bhavra Advocate, has now been made the new Chief of Police (DGP) in Punjab. On receiving the news of VK Bhavra being made the DGP of Punjab, people expressed happiness by distributing sweets by making guest appearances in front of his house. Veeresh's father Late Gopal Bhavra was a freedom fighter and a well-known criminal lawyer. Viresh's wife is also a senior IAS who is posted in Punjab.


After lapse in PM security, Bhavra got the responsibility of new DGP

It is worth noting that in the Ferozepur area of ​​Punjab, there was a lot of ruckus on the way of PM Narendra Modi, who was going to hold a meeting on January 5. Due to this, the Punjab government was badly hit. The government removed DGP Siddharth Chattopadhyay and SSP Ferozepur Harmandeep on Saturday. Now before the announcement of the election dates, the Punjab government has put its stamp on the selection of 1987 batch IPS officer VK Bhavra. Now he will be the new DGP of Punjab.

Viresh was the most brilliant of five siblings

Veeresh's younger brother, senior journalist Yogesh Bhavda told that his early education took place in the Government Higher Secondary School in Bayana. The most meritorious of the five siblings, Viresh Bhavda, who got state merit in class 10th and 11th, was the most meritorious student of the science faculty. He also got scholarship under National Talent Search Examination. After schooling, he did B.Tech and M.Tech from Kurukshetra University. After this, he got selected in BHEL Bhopal and worked as an engineer, while staying there, he became IPS of 1987 batch, getting a better position in UPSC examination.


Got the first posting in Assam cadre

His first posting was in the Assam cadre. There he worked with the then DGP KPS ​​Gill. During the period of terrorism in Punjab, when the central government appointed KPS Gill as the DGP of Punjab, Gill brought him with him to Punjab. In 1992, he was married to Anjali Bhavda, a 1988 batch IAS officer. His father has also been the chairman of Bayana Municipality and the head of Bayana Panchayat Samiti.