मोबाइल में गेम खेलने के दौरान हुआ ब्लास्ट 9 साल का बच्चा बुरी तरह झुलसा....

मोबाइल में गेम खेलने के दौरान हुआ ब्लास्ट 9 साल का बच्चा बुरी तरह झुलसा....
07
5
width="150px" 5m12c20d21 width="150px" 13m10c20d21s width="220px"

मोबाइल में गेम खेलने के दौरान हुआ ब्लास्ट 9 साल का बच्चा बुरी तरह झुलसा....


छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के जांजगीर चांपा (Janjgir Champa) जिले में मोबाइल में गेम खेलने के दौरान ब्लास्ट (Mobile Blast) से एक 9 साल का बच्चा बुरी तरह झुलस गया। फोन में तब ब्लास्ट हुआ जब बच्चा फ्री फायर गेम (Free Fire Game) खेल रहा था, जिससे मासूम के सीने में गंभीर रूप से चोटें आई हैं।

हादसे के बाद बच्चे को इलाज के लिए उप स्वास्थ्य केंद्र नवागढ़ (Nawagarh) लाया गया है।

मामला जांजगीर चांपा जिले के नवागढ़ थाना क्षेत्र के गोधना गांव का है। जानकारी के मुताबिक, गोधना निवासी शिवशंकर कुर्रे(09) पिता मोहन कुर्रे मोबाइल में गेम खेलने का शौखीन है। वह रोज मोबाइल में गेम खेलता था। रविवार को भी वह फोन में गेम खेल रहा था। इसी दौरान अचानक मोबाइल ब्लास्ट हो गया। जिसके बाद तुरंत बच्चे को इलाज के लिए उप स्वास्थ्य केंद्र नवागढ़ लाया गया। जहां उसका इलाज चल रहा है।

बच्चे की हालत अब खतरे से बाहर

बताया गया कि मासूम के सीने में गंभीर रूप से चोटें आई हैं। राहत की बात यह है कि डॉक्टरों का कहना है कि अब बच्चे की हालत स्थिर है। वहीं हादसे के बाद बच्चे के परिजनों ने बताया कि शिव हर रोज तकरीबम दो घंटे मोबाइल में गेम खेलता था. दरअसल आज के बदलते युग में टेक्नोलॉजी ने जितना काम आसान किया है, उतना ही जीवन को खतरे में डाल दिया है।

आज के समय में बच्चे छोटी उम्र में ही मोबाइल का इस्तेमाल करना शुरू कर देते हैं, लेकिन वो इससे होने वाले दुष्प्रभाव से अंजान होते हैं। मौजूदा समय में फ्री फायर और कई तरह के मोबाइल गेम का शिकार छोटे-छोटे मासूम बच्चे हो रहे हैं। अपनी स्कूल की पढ़ाई और घर के अन्य कामों को छोड़कर छोटे-छोटे मासूम बच्चे इन गेम खेलने में लग जाते हैं। वे गेम खेलने में इतने खो जाते हैं कि अपना दिमागी संतुलन भी खो बैठते हैं।