राजस्थान में किसानों को रेल रोको अभियान: अलवर में 12 बजे से 4 घंटे होगा ट्रैक जाम, जयपुर में ट्रैक पर मार्च करेंगे किसान, बाकी जिलों में अभी शांति

किसानों के देशव्यापी रेल रोको अभियान का असर राजस्थान के कुछ जिलों पर पड़ सकता है। अलवर और जयपुर में किसानों ने रेल रोकने या ट्रैक पर मार्च करने का कार्यक्रम पूर्व से ही निर्धरित किया हुआ है। अन्य जिलों से फिलहाल ऐसा कुछ होने की पूर्व सूचना नहीं दी गई है। हालांकि, रेलवे ने राजस्थान से जुड़े ट्रैक और रेलवे स्टेशनों पर अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किया है।

अलवर में सबसे ज्यादा असर देखने को मिल सकता है। कारण है कि किसानों ने अलवर के दो-तीन स्टेशनों के आसपास ट्रैक रोकने की घोषणा की है। यहां दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक ट्रैक रोकने का कार्यक्रम है। जबकि जयपुर में जगतपुरा रेलवे क्रॉसिंग पर रेल के आने पर उसके आगे-आगे मार्च करने की योजना है। अलवर जंक्शन पर भी जीआरपी ने बैरिकेड्स रखकर तैयार कर लिए हैं। किसी भी स्थिति से निपटने की तैयारी है।

बीकानेर रेलवे स्टेशन और कोटगेट क्रासिंग के बीच प्रतिकात्मक तरीके से रेल रोकी जाएगी। फिलहाल मौके पर सब कुछ सामान्य है। बारह बजे से चार बजे के बीच रेल रोकने का प्रयास होगा। बीकानेर के इस ट्रेक से श्रीगंगानगर हनुमानगढ़ व पंजाब की ओर जाने वाली रेलगाड़ियां गुजरती है। माना जा रहा है कि कुछ देर के लिए ही रेल रोकी जाएंगी।

3

तीन कृषि कानूनों के विरोध में गुरुवार को किसानों ने यह रेल रोको आंदोलन की घोषणा करीब एक सप्ताह पहले की थी। यह घोषणा उसी दिन की थी, जिस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए इन कानूनों के संबंध में अपनी बात रखी थी।