बारां में पटवारी गिरफ्तार: मृत महिला की जमीन का नामांतरण खोलने व मुआवजा दिलवाने के लिए मांगी 30 हजार रुपए की रिश्वत

  • एसीबी टीम ने बारां जिले के छीपाबड़ोद में की कार्रवाई, भू अभिलेख निरीक्षक पर भी आरोप

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने बारां जिले के छीपाबड़ौद में मंगलवार को एक पटवारी को 30 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया। आरोपी की पेंट की जेब से रिश्वत की रकम बरामद कर ली है। एसीबी के एडिशनल एसपी भवानी सिंह मीणा के निर्देशन में ट्रेप की यह कार्रवाई की गई।

एएसपी मीणा के मुताबिक गिरफ्तार आरोपी विनोद कुमार मालव (27) गांव भावपुरा, तहसील छीपाबड़ौद, जिला बारां में पटवारी है। इसके अलावा सांखल तहसील, छीपाबड़ौद ​​में​ ​​​​भू अभिलेख निरीक्षक (कानूनगो) तेजकरण कुशवाहा ​​​को भी आरोपी माना है। रिश्वत लेने में उसकी भूमिका भी सामने आई है। इनके खिलाफ झालावाड़ जिले में गोपालपुरा के रहने वाले 52 वर्षीय रमेशचंद नाथ ने 15 जनवरी को शिकायत दर्ज करवाई थी।

यह है ट्रेप से जुड़ी शिकायत

3

परिवादी रमेशचंद ने एसीबी को बताया था कि उसकी पत्नी कल्याणी बाई की 5 सितंबर 2019 को मृत्यु हो गयी है। मृतका कल्याणी की पैतृक संपत्ति के हिस्से वाली जमीन अकावद बांध के डूब क्षेत्र में आने के कारण सरकार से उस भूमि का मुआवजा करीब 4.40 लाख रुपए आया है। इसके लिए परिवादी रमेशचंद की पत्नी कल्याणी की मृत्यु होने कारण उस जमीन का नामांतरण उनकी बेटी मधु, पूजा और बेटे विजय के नाम से खोलने एवं जमीन का मुआवजा राशि 4.40 लाख रुपए का चेक दिलवाने के लिए तहसील कार्यालय में आवेदन किया था।

इस काम की एवज में पटवारी विनोद मालव ने रमेशचंद से 50 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। इसके बाद विनोद मालव ने एसीबी के शिकायत के सत्यापन के दौरान परिवादी रमेशचंद से बातचीत में 30 हजार रुपए रिश्वत लेने पर सहमति दी। उसने कानूनगो तेजकरण कुशवाह से संपर्क करने और मिलने की बात भी कही।

मंगलवार को ट्रेप की कार्रवाई के दौरान एसीबी टीम के पहुंचने से अनजान पटवारी विनोद मालव के मोबाइल से कानूनगो तेजकरण कुशवाह के मोबाइल पर स्पीकर ऑन कर बातचीत की। जिसमें कानूनगो तेजकरण ने उसके हिस्से की रिश्वत राशि पटवारी विनोद के पास रखने की सहमति दी गई। तेजकरण ने बताया कि वह ऑफिस से बाहर है। ऐसे में एसीबी ने कानूनगो तेजकरण को भी नामजद आरोपी बनाया है।