पुलिस से साइबर ठगी: बेटी की शादी के लिए कांस्टेबल ने लिया 12 लाख का लोन, साइबर चोरों ने 6 लाख रुपए UPI से निकाले

राजधानी जयपुर में ऑनलाइन ठगी के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे। आए दिन एटीएम एक्टिवेट करने, खाते को बंद होने से बचाने और केवाईसी अपटेड करने के नाम पर सायबर ठग लोगों से ऑनलाइन ठगी कर रहे है। इस ठगी का शिकार इस बार जयपुर पुलिस लाइन में तैनात कांस्टेबल कमलेश कुमार हो गया, जिसके खाते से सायबर ठगों ने 6 लाख रुपए निकाल लिए। सबसे बड़ी बात ये रही कि जितनी बार भी पैसे कटे एक बार भी पीड़ित के मोबाइल पर पैसे कटने का मैसेज नहीं आया। पुलिसकर्मी का कहना है कि वह स्मार्टफोन का उपयोग नहीं करता है, न ही UPI का फिर यह राशि कैसे निकल गई।

बनीपार्क थाने में कांस्टेबल ने मामला दर्ज करवाते हुए बताया कि उसने 30 जनवरी को ही निजी बैंक से 12 लाख रुपए का पर्सनल लोन बेटी की शादी के लिए लिया था। अप्रैल में बेटी की शादी है। उसने बताया कि न तो वह कोई स्मार्टफोन का उपयोग नहीं करते हैं।

6 दिन में 33 से ज्यादा ट्रांजेक्शन, एक का भी मैसेज नहीं आया
पीड़ित कांस्टेबल कमलेश कुमार ने बताया कि उनके खाते से 10 से 15 फरवरी के बीच 33 बार से ज्यादा ट्रांजेक्शन हो गया। एक बार भी पैसे कटने का मैसेज मोबाइल पर नहीं आया। खास बात ये रही कि खाते में 10 और 15 फरवरी को अलग-अलग 5 ऐसे ट्रांजेक्शन भी हुए, जिसमें लगभग 1.25 लाख रुपए वापस भी आ गए।

3

आयुक्त कार्यालय आकर लगाई गुहार
कांस्टेबल ने बताया कि बैंक में जब वह गया तो बैंक वालों ने इस मामले में FIR दर्ज करवाने और उसकी कॉपी देने की बात कही। इसके अलावा कोई मदद नहीं की। बनीपार्क थाने में मुकदमा दर्ज करवाने के बाद अब कांस्टेबल ने पुलिस आयुक्तालय पहुंचकर आयुक्त से गुहार लगाई है कि इस मामले में जल्द से जल्द कार्यवाही हो। ताकि वह बच्ची की शादी के लिए लिया पैसा वापस मिल जाए और वह जरूरी सामान खरीद सके।