नष्ट किए गए चेक से फर्जी चेक तैयार कर व फर्जी हस्ताक्षर कर खाते से दस लाख रुपए की राशि निकालने वाले एक शातिर को गिरफ्तार

बीकानेर/श्रीगंगानगर। व्यापारी के नष्ट किए गए चेक से फर्जी चेक तैयार कर व फर्जी हस्ताक्षर कर खाते से दस लाख रुपए की राशि निकालने वाले एक शातिर को गिरफ्तार कर लिया है। घटना श्रीगंगानगर के कोतवाली थाना क्षेत्र की हैं। जहंा पर 11 जनवरी को शिव चौक स्थित फर्म श्रीमहावीर ऑयल एण्ड जनरल मिल के भागीदार सुखाडिया नगर निवासी सुरेश कुमार पुत्र भरतलाल अग्रवाल ने कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि फर्म का बैंक खाता कोटक महेन्द्रा बैंक एसडी कॉलेज के सामने सूरतगढ़ रोड में है। 8 जनवरी को खाता चैक किया तो पता चला कि दस लाख रुपए की राशि की 7 जनवरी को निकाली है।

बैंक में पता किया तो जानकारी मिली कि दस लाख रुपए फर्म के चेक संख्या 4 से निकाले गए हैं। यह राशि कोटक महेन्द्रा बैंक शाखा रतीया फतेहबाद हरियाणा में किसी ने अपने खाते में ट्रांसफर की है। व्यापारी ने चेक संभाले तो 4 नंबर के चेक के अलावा सभी रेकॉर्ड सही मिला। 4 नंबर चेक को कैंसल कर दिया था।चेक का एक हिस्सा रेकॉर्ड में रख लिया था। शेष चेक को नष्ट कर दिया था। इस नष्ट चेक से किसी व्यक्ति ने नकली चेक तैयार कर फर्जी हस्ताक्षर करके उसके दस लाख रुपए निकाल लिए। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच एसआई जय कुमार को सौंपी।

टीम ने तकनीकी साधनों व बैंक रेकॉर्ड के आधार पर आरोपी को ट्रेस कर लिया। पुलिस ने गांव मेहमडा सदर रतिया फतेहाबाद हरियाणा निवासी रिंकू सिंह पुत्र जरनेल सिंह को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी को पुलिस ने अदालत में पेश कर चार दिन के रिमांड पर लिया है। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आरोपी के खिलाफ पूर्व में 18 प्रकरण दर्ज है। जिनमें से आरोपी एनडीपीएस एक्ट के प्रकरण में मानसा जेल में सजा काट रहा है। जो लॉकडाउन के बाद से पैरोल पर चल रहा है। आरोपी षडयंत्र रचकर फर्जी चेक तैयार कर फर्म के खाते से 10 लाख रुपए अपने खाता में डालकर धोखाधड़ी की है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

3