दरगाह का 809 वां उर्स: ख्वाजा के दर पर जायरीनों की हाजरी; बडे़ कुल की रस्म के साथ ही कल होगा समापन

 

 

  • उर्स की विधिवत शुरूआत 13 फरवरी को हुई थी

सूफी संत ख्वाजा गरीब नवाज के 809 वें उर्स में सोमवार को बडे़ कुल की रस्म होगी। उर्स के दौरान रोजाना हजारों अकीदतमंद हाजरी देने के लिए आ रहे है। खुद्दाम ए ख्वाजा की ओर से बड़े कुल की फातिहा होगी और उर्स का विधिवत समापन हो जाएगा।

3

उर्स में आशिकान ए ख्वाजा कुल की रस्म अदा कर मुल्क व सूबे में अमन व खुशहाली की दुआ करेंगे। गुलाब जल व केवड़े से दरगाह परिसर के दरो दीवार की धुलाई की जाएगी। इधर अनेक जायरीन दरगाह की दरो दीवार को धोने के साथ ही इन दीवारों का पानी भी बतौर तबर्रुक अपनी बोतलों में वापस भर कर ले जाएंगे। गाजे बाजे और ढोल नगाड़ों के बीच कुल की रस्म अदा की जाएगी। खादिम मौजूद जायरीन की खुशहाली और तरक्की के साथ ही देश में अमन व भाईचारे की मजबूती के लिए दुआ करेंगे।

उर्स के दौरान दरगाह में मौजूद जायरीन

उर्स के दौरान दरगाह में मौजूद जायरीन

उर्स की 13 फरवरी से हुई शुरूआत के साथ ही देश-विदेश से जायरीनों की आवक हुई और आस्थाना शरीफ में जियारत के लिए अकीदतमंदों की कतार लगी रही। उर्स के दौरान विभिन्न देशों की चादर पेश की जा चुकी है। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री, नामचीन हस्तियों की भी चादर पेश की गई। चादर पेश करने के लिए जायरीनों में होड़ सी मची हुई है।