गुप्त नवरात्रा शुरू, नौ दिनों तक होगी देवी की उपासना

बीकानेर. देवी की नौ दिनों तक पूजा-उपासना का पर्व गुप्त नवरात्रा शुक्रवार से शुरू हुए। श्रद्धालुओं ने मां भगवती की मूर्तियों की पूजा-अर्चना कर नौ दिवसीय पूजन-अनुष्ठान की शुरूआत की। नवरात्रा के नौ दिनों में देवी उपासक मां भगवती की उपासना करेंगे। श्रद्धालु नौ दिनों तक मां भगवती के पूजन के साथ दुर्गा सप्तशती पाठ, श्री सूक्त, कनकधारा स्त्रोत का पाठ, नर्वाण मंत्र का जाप करेंगे। नियमित रूप से मां भगवती के बीज मंत्र के उच्चारण के बीच हवन में आहुतियां देंगे। इस दौरान देवी के बीज मंत्र का जाप भी करेंगे। गुप्त नवरात्रा में प्रतिपदा से नवमी तिथि तक उपासक मां भगवती की प्रसन्नता के लिए जाप, पूजन, हवन अनुष्ठान आदि के आयोजन करेंगे। गुप्त नवरात्रा की पूर्णाहुति पर श्रद्धालु विशेष पूजन-अनुष्ठान और हवन में आहुतियां देंगे।

देवी आराधना का विशेष महत्व
ज्योतिषाचार्य पंडित राजेन्द्र किराडू के अनुसार सनातन धर्म में देवी की आराधना का विशेष महत्व है। धर्म शास्त्रों में देवी की आराधना के लिए नवरात्रि का विशेष उल्लेख देवी पुराण, देवी भागवत विश्व तंत्र सार आदि ग्रंथों में मिलता है। श्रीमद् भागवत में चार नवरात्रा का विधान बताया है जिसमें भगवती की आराधना करने से भक्त को धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है। नवरात्रा में भगवती की आराधना के लिए दुर्गा सप्तशती का पाठ और नर्वाण मंत्र का जाप विशेष फलदायी बताया गया है। चार नवरात्रा चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ में होते है, जिनमें देवी की आराधना की जाती है।

 

3