कर्म ही पूजा: जयपुर मेयर सौम्या गुर्जर ने बच्चे को दिया जन्म, प्रसव से 8 घंटे पहले तक नगर निगम मुख्यालय बैठक लेकर निभाई थी अपनी जिम्मेदारी

जयपुर नगर निगम ग्रेटर की मेयर सौम्या गुर्जर ने गुरुवार को बच्चे को जन्म दिया है। प्रसव से पहले मेयर ने नारी शक्ति की मिसाल पेश थी। क्योंकि बच्चे को जन्म देने से 8 घंटे पहले तक वह नगर निगम मुख्यालय में सामान्य दिनों की तरह देर रात तक काम कर रही थी। इसी कारण उन्होने खुद सोशल मीडिया पर खुद ने बच्चे को जन्म के बाद लिखा कर्म ही पूजा है।

बच्चे को जन्म देने से पहले मेयर ने रात 9 बजे तक जयपुर नगर निगम ग्रेटर मुख्यालय में स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर बैठक। इस बैठक में उन्होने स्वच्छता सर्वेक्षण में क्या-क्या काम किए जाने है इसकी तैयारियां देखी और अपने आवश्यक सुझाव व दिशा-निर्देश दिए। इसके बाद उन्होने नगर निगम मुख्यालय बिल्डिंग का निरीक्षण भी किया, जहां उन्होने नगर निगम में बनाई कमेटियों के चैयरमेनों के बैठने की व्यवस्था को देखा और अधिकारियों को उन कमरों में जरूरी फर्नीचर, टेबिल-कुर्सी व अन्य उपयोग की वस्तुओं की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। रात करीब 9.30 बजे नगर निगम से घर पहुंचने के बाद मेयर को रात एक बजे प्रसव पीड़ा के चलते एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां उन्होने सुबह बच्चे को जन्म दिया। जन्म के बाद दोनों (मां और पुत्र) स्वस्थ्य है।

नवंबर में बनी थी जयपुर की मेयर
सौम्या जयपुर नगर निगम ग्रेटर की पहली मेयर बनी है। पिछले साल अक्टूबर में हुए चुनावों में भाजपा टिकट से वह वार्ड 87 से जीतकर पार्षद बनी थी और उसके बाद पार्टी ने उन्हे मेयर का प्रत्याशी बनाया था। जहां उन्होने अपनी प्रतिद्वंदी कांग्रेस की विजयी दिव्या सिंह को हराकर मेयर बनी। इससे पहले सौम्या गुर्जर वसुंधरा राजे की सरकार में महिला आयोग की सदस्य भी रह चुकी है।

3