पत्नी के हत्यारे पति को आजीवन कारावास की सजा, कुल्हाड़ी से वार कर की थी हत्या

पत्नी के हत्यारे पति को आजीवन कारावास की सजा, कुल्हाड़ी से वार कर की थी हत्या
...
width="120px" width="175px" alt= alt=

चूरू की जिला एवं सेशन कोर्ट ने कुल्हाड़ी से पत्नी की हत्या करने वाले पति को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने दोषी पति पर 10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। जज बलजीत सिंह ने मामले में पेश सबूतों और गवाहों के आधार आरोपी को सजा सुनाई। मामले में सरकार की ओर से लोक अभियोजक काशीराम शर्मा ने पैरवी की, जबकि परिवादी की ओर से एडवोकेट महेश प्रताप सिंह राठौड़ व सुरेश कल्ला ने पैरवी की।

लोक अभियोजक काशीराम शर्मा के अनुसार, मृतका मुकेश की शादी 15 साल पहले लादडिय़ा गांव के अमीलाल से हुई थी। शादी के बाद अमीलाल उसके साथ रोजाना मारपीट और झगड़ा करता था। इससे परेशान होकर वह अपने 2 बेटों को लेकर पीहर गागड़वास गांव आ गई थी और यहां सिलाई का काम करने लगी। 25 मई 2021 को अमीलाल ने 2 लोगों को मुकेश को लाने के लिए भेजा था। इस पर मुकेश अपने 15 साल के बड़े बेटे को लेकर पति के घर आ गई थी।

छोटा बेटा (13) अपने नाना शिवलाल के घर पर था। रात को सोते समय अमीलाल ने मुकेश पर कुल्हाड़ी से वार कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। मृतका का बेटा रात को अपने ताउ के घर में सोया था। सुबह जब वह अपने घर आया तो मुकेश लहूलुहान हालत में पड़ी मिली। इस बारे में जानकारी मिलने पर मुकेश के पिता शिवलाल ने दूधवाखारा थाने में शिकायत दी। पुलिस ने शिवलाल की रिपोर्ट पर आरोपी पति अमीलाल, जेठ महेन्द्र, जेठानी और गिरधारी नाम के व्यक्ति के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार किया था। मामले में गुरुवार को जज ने अमीलाल को आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

....................................

The District and Sessions Court of Churu has sentenced life imprisonment to the husband who killed his wife with an axe. The court has also imposed a fine of Rs 10,000 on the guilty husband. Judge Baljit Singh sentenced the accused on the basis of evidence and witnesses presented in the case. In the case, Public Prosecutor Kashiram Sharma appeared on behalf of the government, while advocates Mahesh Pratap Singh Rathore and Suresh Kalla appeared on behalf of the complainant.
 
According to public prosecutor Kashiram Sharma, the deceased Mukesh was married to Amilal of Laddia village 15 years ago. After marriage, Amilal used to fight and quarrel with her daily. Distressed by this, she had come to Pihar Gagadwas village with her two sons and started sewing work here. On 25 May 2021, Amilal sent 2 people to bring Mukesh. On this, Mukesh came to her husband's house with her 15-year-old elder son.
 
The younger son (13) was at his maternal grandfather Shivlal's house. While sleeping at night, Amilal attacked Mukesh with an axe, due to which he died. The son of the deceased slept at his uncle's house at night. When he came to his house in the morning, Mukesh was found lying in a bloody condition. On getting information about this, Mukesh's father Shivlal lodged a complaint at Doodhwakhara police station. On the report of Shivlal, the police registered a case of murder against accused husband Amilal, Jeth Mahendra, Jethani and Girdhari and arrested the accused. In the case on Thursday, the judge sentenced Amilal to life imprisonment.