पति‍-पत्नी के रिश्ते का अजीबोगरीब केस, जब कराना पड़ा बेटी का DNA टेस्‍ट...

पति‍-पत्नी के रिश्ते का अजीबोगरीब केस, जब कराना पड़ा बेटी का DNA टेस्‍ट...
...
width="120px" width="175px" alt= alt=

शाहजहांपुर में पति-पत्नी के रिश्ते का अजीबोगरीब मामला सामने आया है. जहां दिल्ली आई महिला ने शाहजहांपुर में तैनात मृत फील्ड ऑफि‍सर को अपना पति बताया है. फील्ड ऑफिसर दिल्ली की रहने वाली महिला से लिविंग रिलेशन में था और उसकी एक बेटी भी है. एक्सीडेंट में फील्ड ऑफिसर की मौत के बाद पीड़ित महिला अपनी बेटी के साथ परिवार के साथ रहना चाहती है, तो वहीं दूसरी ओर फील्ड ऑफिसर के घरवाले इस महिला को अपनाने को तैयार नहीं है. कोई प्रूफ ना होने से घरवालों ने इस महिला को अपनाने से इनकार किया है. वहीं महिला की लड़की का डीएनए टेस्ट कराने के बाद मैच होने पर लड़की को अपनाने को तैयार है.

मामला थाना जैतीपुर के बैंक ऑफ बड़ौदा का है. जैतीपुर शाखा में तैनात फील्ड ऑफ‍िसर 34 वर्षीय हितेश कुमार की संदिग्ध हालात में मौत के बाद दिल्ली से आई एक महिला ने खुद को फील्ड ऑफिसर हितेश की पत्नी बताया. परिजनों ने उसे अपनी बहू मानने से इनकार कर दिया. उन्‍होंने कहा क‍ि हितेश की अभी शादी नहीं हुई थी, जबकि महिला का कहना था कि हितेश ने शादी करने के बाद उसे दिल्ली में रखा था. उसकी नौ साल की बेटी भी है.

मूलरूप से हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले के निवासी हितेश कुमार बैंक ऑफ बड़ौदा की जैतीपुर शाखा में फील्ड ऑफि‍सर के पद पर नवंबर 2022 में देहरादून से ट्रांसफर होकर आए थे. वह कस्बे में एक मकान में किराए पर रहते थे. शाम उनका शव मकान में पड़ा मिला था. आसपास खून फैला था. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा था. दिल्ली से नौ साल की बेटी के साथ माया देवी के अलावा हितेश के परिजन शाहजहांपुर पहुंचे. माया ने खुद को हितेश की पत्नी बताया, जबकि परिजन उसे अपनी बहू मानने को तैयार नहीं हैं. इसे लेकर दोनों के बीच तीखी नोकझोंक भी हुई. सूचना मिलने पर कोतवाली पुलिस ने दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर शांत किया.

माया देवी ने बताया कि फील्ड ऑफिसर हितेश से उसकी हरिद्वार में मुलाकात हुई थी. प्रेम संबंध होने पर देहरादून में तैनाती के बाद हितेश उनके संपर्क में रहे. इसके बाद दोनों ने शादी कर ली. माया ने बताया कि हितेश शनिवार और रविवार को उनके पास आकर रहते थे. छुट्टियां भी उनके साथ ही बिताते थे, लेकिन उन्हें कभी अपने परिजनों के सामने नहीं आने दिया.

हिमाचल प्रदेश से आईं हितेश की मौसी गंगा देवी ने हितेश को अविवाहित बताया. हितेश ने माया से शादी के संबंध में कभी परिजनों से कोई बात नहीं की. उसकी मौत की सूचना पर पोस्टमार्टम हाउस आने पर ही माया के बारे में पता चला. यदि माया के पास शादी से संबंधित कोई प्रमाण है तो वह उपलब्ध कराएं. बच्ची पहले पति की है, बाद में उन्होंने पुलिस को बताया कि बच्ची हितेश की है. वहीं गंगा देवी ने बताया कि वह बच्ची का डीएनए टेस्ट कराने पर यदि हितेश के डीएनए से मैच करेगी तो वह बेटी को अपना लेगी.

पोस्टमार्टम हाउस पर फील्ड ऑफिसर की मौत के बाद दोनों पक्षों में जमकर नोकझोंक हुई जिसके चलते मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले को शांत कराया. अब पुलिस ने पोस्टमार्टम के दौरान हितेश का डीएनए सैंपल लिया है, ताकि विवाद कोर्ट में पहुंचने पर मामले की जांच कराई जा सके. फिलहाल शादी के बाद लिविंग रिलेशन में रहने के बाद कोई प्रूफ ना होने से माया और उसकी बेटी की जिंदगी मझधार में अटक गई है.