राजस्थान: शिक्षा अधिकारी का अजीब फरमान, स्कूलों में मजार और मस्जिदों की मांगी जानकारी, जानें वजह

राजस्थान: शिक्षा अधिकारी का अजीब फरमान, स्कूलों में मजार और मस्जिदों की मांगी जानकारी, जानें वजह
...
width="120px" width="175px" alt= alt=

राजस्थान: शिक्षा अधिकारी का अजीब फरमान, स्कूलों में मजार और मस्जिदों की मांगी जानकारी, जानें वजह

राजस्थान में इन दिनों अजीब-अजीब घटनाक्रम और विवाद सामने आ रहे हैं. ताजा विवाद सूबे के टोंक जिले से सामने आया है. यहां के जिला शिक्षा अधिकारी ने मंगलवार को एक अजीब आदेश जारी किया. आदेश के जारी होते ही वह विवादों में आ गया. जिला शिक्षा अधिकारी ने डेढ़ लाइन के इस आदेश में जिले की सभी मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को आदेश दिया है कि वे बताएं कि सभी स्कूल में मजार या मस्जिद है या नहीं? इसकी सूचना तत्काल देवें. इस मसले को लेकर जब जिला शिक्षा अधिकारी से सवाल-जवाब किए गए तो उनको कहना था कि इसके लिए सीबीआई से फोन आया था.

दरअसल टोंक के जिला शिक्षा अधिकारी केसी कोली ने जिले के सभी मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों से यह सूचना मांगी कि उनके स्कूल में मस्जिद और मजार है या नहीं? इतना ही नहीं आदेशों में जिला शिक्षा अधिकारी ने लिखा कि आज के दिन ही दफ्तर बंद होने से पहले यह सूचना उन्हें तत्काल भेजी जाए. जैसे ही यह आदेश जारी हुआ उसके बाद शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों में हड़कंप मच गया. उसके बाद जिले के सरकारी स्कूलों के प्रभारियों और अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारियों ने तत्काल जिला शिक्षा अधिकारी को यह सूचना भेजने का काम भी किया.

शिक्षा अधिकारी बोले सीबीआई से आया फोन तो निकाले आदेश
जिला शिक्षा अधिकारी केसी कोली ने बताया कि उनके पास दफ्तर में काम करते वक्त दोपहर में एक फोन कॉल आया था. उसमें सामने वाले व्यक्ति ने अपने आप को सीबीआई का बड़ा अधिकारी बताया और कहा कि तुम्हारे जिले में स्कूलों में मस्जिद और मजार कितनी है. इसकी सूचना मुझे तत्काल चाहिए. आज शाम तक यह सूचना मुझे किसी भी सूरत में दो.

अधिकारी ने फोन आते ही सभी काम छोड़कर आदेश निकाल डाले
बकौल कोली उसके बाद उन्होंने सभी कामकाज छोड़कर आदेश जारी कर सभी स्कूलों के प्रभारियों से यह जानकारी मांगी. आदेश जारी होने के बाद विवाद की स्थिति बनते देखकर जिला शिक्षा अधिकारी बैकफुट पर आ गए. बाद में शिक्षा विभाग के आलाधिकारियों ने उनको फटकार भी लगाई है. उल्लेखनीय है कि राजस्थान में हाल ही में मंत्रियों और ब्यूरोक्रेसी में भी टकराव जोरों पर चल रहा है. उस पर भी सियासत गरमा हुई है. मंत्रियों और ब्यूरोक्रेट्स के टकराव को लेकर बीजेपी गहलोत सरकार पर हमलावर हो रखी है.

...........................................

Rajasthan: Education officer's strange order, sought information about tombs and mosques in schools, know the reason
 
Strange incidents and controversies are coming to the fore these days in Rajasthan. The latest controversy has emerged from Tonk district of the state. The District Education Officer here issued a strange order on Tuesday. As soon as the order was issued, he got into controversies. In this order of one and a half line, the District Education Officer has ordered all the main Block Education Officers of the district to tell whether all the schools have tombs or mosques or not? Give this information immediately. When questions and answers were asked to the District Education Officer regarding this issue, he had to say that a call was received from the CBI for this.
 
In fact, District Education Officer of Tonk KC Koli sought information from all the main block education officers of the district whether their school has a mosque and a shrine or not? Not only this, the District Education Officer wrote in the orders that this information should be sent to him immediately before the office is closed on this day itself. As soon as this order was issued, there was a stir among the top officials of the education department. After that, the in-charges of the government schools of the district and the additional district education officers immediately did the work of sending this information to the district education officer.
 
 
 
 
Education officer said that the call should be taken out from the CBI
District Education Officer KC Koli told that he had received a phone call in the afternoon while working in the office. In it, the person in front called himself a senior CBI officer and said how many mosques and tombs are there in the schools in your district. I need this information immediately. In any case give me this information by this evening.
 
As soon as the officer received the call, leaving all the work, he issued orders.
According to Koli, after that he left all the work and issued an order and sought this information from the in-charge of all the schools. Seeing the situation of dispute after the order was issued, the District Education Officer came on the backfoot. Later, the high officials of the education department have also reprimanded him. It is worth mentioning that recently in Rajasthan, the conflict between the ministers and the bureaucracy is going on in full swing. Politics has heated up on that too. The BJP has been attacking the Gehlot government for the clash between ministers and bureaucrats.