Mustard Oil के सेवन से व्यक्ति की मौत, बाजार से खरीदी सरसों में थे आर्जीमोन सीड

Mustard Oil के सेवन से व्यक्ति की मौत, बाजार से खरीदी सरसों में थे आर्जीमोन सीड
...
width="120px" width="175px" alt= alt=

कांगड़ा जिले के ज्वालामुखी के खुंडियां क्षेत्र में आर्जीमोन प्वाइजनिंग से एक व्यक्ति की मौत का मामला सामने आया है. यूं तो व्यक्ति की मौत 4 नवंबर को हुई थी, लेकिन प्रशासनिक तौर पर इसकी पुष्टि 18 नवंबर को हुई है. प्रशासन के मुताबिक व्यक्ति ने आर्जीमोन सीड मिले हुए सरसों के तेल का सेवन किया था, जिस वजह से उसकी मौत हुई है. वहीं, व्यक्ति की मृत्यु होने के बाद उपायुक्त कांगड़ा निपुण जिंदल (DC Kangra Nipun Jindal) ने लोगों से खुली सरसों तथा उससे निकलवाए तेल का उपयोग करने से परहेज की अपील की है. उन्होंने आग्रह किया कि पिछले दिनों जिस किसी ने भी खुले बाजार से सरसों खरीदी हो वे उसका या उससे निकलवाए तेल का उपयोग न करें.

से हुआ मामले का खुलासा: इस मामले का खुलासा तब हुआ जब परिवार के अन्य सदस्यों को भी इस बीमारी के लक्षण दिखाई दिए. सीएमओ कांगड़ा डॉ. गुरदर्शन गुप्ता ने बताया कि परिवार ने बजार से सरसों के खुले बीजों को खरीदकर उसका तेल निकलवाया था. परिवार काफी समय से इस तेल का इस्तेमाल कर रहा था. तभी एक दिन परिवार के 59 वर्षीय सदस्य विजय कुमार की तबीयत बिगड़ गई. जिसके बाद परिजनों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया. जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. 

वहीं, विजय कुमार की मौत के बाद परिजनों में भी आर्जीमोन प्वाइजनिंग के कुछ लक्षण दिखाई दिए. जिसके बाद मृतक व्यक्ति की बहू और बेटा अपना इलाज करवाने के लिए एक निजी अस्पताल में गए. जहां उन्हें आर्जीमोन प्वाइजनिंग का पता चला. इस दौरान सारी घटना की सूचना स्वास्थ्य विभाग को भी प्राप्त हुई. जब परिवार की शिकायत पर तेल टेस्ट करवाया गया तो उसमें आर्जीमोन पाया गया. ऐसे जाकर इस पूरे मामले का खुलासा हुआ. सीएमओ ने बताया कि जब मामला स्वास्थ्य विभाग के ध्यान में आया तो उन्होंने जिला प्रशासन की मदद से एक टीम का गठन किया. जिसने अपनी जांच शुरू कर दी है तथा उस तेल के सैंपल को शिमला स्थित कंडाघाट प्रयोगशाला में जांच के लिए भेज दिया गया है.

क्या है आर्जीमोन प्वाइजनिंग: सीएमओ कांगड़ा डॉ. गुरदर्शन गुप्ता ने बताया कि आर्जीमोन प्वाइजनिंग एक प्रकार की फूड पॉइजनिंग है, जो मिलावटी सरसों के तेल से हो सकती है. प्रारंभिक जांच में यह पाया गया है कि परिवार ने अगस्त माह में स्थानीय दुकानदार से सरसों के बीज खरीदी थे, जिसका तेल निकलवाकर वे इस्तेमाल कर रहे थे. इस तेल के इस्तेमाल के बाद उनको दस्त, उल्टियां और शरीर के अंगों में सूजन तथा टांगों में लालगी जैसे लक्षण दिखाई दिए.

मानव शरीर के लिए घातक है आर्जीमोन: सीएमओ ने बताया कि आर्जीमोन एक तरह की खरपतवार है जो खेतों में सरसों के साथ पाई जाती है. उन्होंने कहा कि जहां सरसों का कलर ब्राउन होता है, वही आर्जीमोन ब्लैक कलर का होता है. जिससे इसके बारे में आसानी से पता नहीं चल पाता है. उन्होंने कहा कि यह खरपतवार मानव शरीर के लिए घातक होता है और इसके सेवन से डायरिया, घुटनों में सूजन, उल्टी, लालपन, सांस लेने में दिक्कत, आंखों की रोशनी और यहां तक कि दिल का दौरा पड़ने की संभावना भी बढ़ जाती है. उन्होंने कहा कि यदि किसी को भी इस प्रकार के लक्षण दिखाई दें तो वह तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य संस्थान में संपर्क करें. उन्होंने कहा कि इसमें डरने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन सावधानी अति आवश्यक है.

विषैले सरसों तेल से होती है ड्रॉप्सी नामक बीमारी: उपायुक्त कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल ने बताया कि इस विषैले सरसों के बीज या उससे निकले तेल के सेवन से ड्रॉप्सी नामक बीमारी भी होती (Dropsy in Humans) है. उन्होंने कहा कि शरीर में विशेषकर पैरों, एड़ियों और टांगों में सूजन आना इसके लक्षण हैं. उन्होंने कहा कि संबंधित क्षेत्रों में यदि किसी भी व्यक्ति ने खुली सरसों या उससे निकलवाये तेल का पिछले दिनों सेवन किया है और उनके शरीर में ऐसे लक्षण दिख रहे हैं, तो वह तुरंत अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जाकर अपना उपचार करवाएं. उन्होंने कहा कि स्वास्थ विभाग और अधिकारियों को इसके उपचार संबंधित निर्देश दे दिए गए हैं.

.........................................................

A case of death of a person has come to light due to argemone poisoning in Khundian area of ​​Jwalamukhi in Kangra district. Although the person died on 4th November, but it has been confirmed administratively on 18th November. According to the administration, the person had consumed mustard oil mixed with Argemone seed, due to which he died. At the same time, after the death of the person, Deputy Commissioner Kangra Nipun Jindal (DC Kangra Nipun Jindal) has appealed to the people to refrain from using open mustard and the oil extracted from it. He urged that anyone who has bought mustard from the open market in the past, should not use it or the oil extracted from it.


The matter came to light: The matter came to light when other members of the family also showed symptoms of the disease. CMO Kangra Dr. Gurdarshan Gupta told that the family had bought open mustard seeds from the market and got its oil extracted. The family had been using this oil for a long time. Then one day the health of 59-year-old family member Vijay Kumar deteriorated. After which the relatives got him admitted to the hospital. Where he died during treatment.


At the same time, after the death of Vijay Kumar, some symptoms of Argemone poisoning were also seen in the family members. After which the daughter-in-law and son of the deceased went to a private hospital to get their treatment done. Where he came to know of Argemone poisoning. During this, the health department also received the information about the entire incident. When the oil test was done on the complaint of the family, Argemone was found in it. This is how this whole matter was revealed. The CMO said that when the matter came to the notice of the health department, they formed a team with the help of the district administration. Which has started its investigation and the sample of that oil has been sent to the Kandaghat laboratory in Shimla for examination.


What is argemone poisoning: CMO Kangra Dr. Gurdarshan Gupta told that argemone poisoning is a type of food poisoning, which can be caused by adulterated mustard oil. In preliminary investigation, it has been found that the family had bought mustard seeds from a local shopkeeper in the month of August, which they were using after extracting the oil. After using this oil, he saw symptoms like diarrhoea, vomiting and swelling in the body parts and redness in the legs.

Argemone is fatal for human body: CMO said that Argemone is a kind of weed which is found in the fields along with mustard. He said that where mustard is brown in colour, Argemone is black in colour. Due to which it is not easily known about it. He said that this weed is fatal to the human body and its consumption increases the chances of diarrhoea, swelling of knees, vomiting, redness, difficulty in breathing, eyesight and even heart attack. He said that if anyone sees such symptoms, he should immediately contact the nearest health institution. He said that there is no need to be afraid in this, but caution is very important.


Poisonous mustard oil causes a disease called dropsy: Deputy Commissioner Kangra Dr. Nipun Jindal told that the consumption of this poisonous mustard seed or the oil extracted from it also causes a disease called dropsy (Dropsy in Humans). He said that swelling in the body especially in the feet, ankles and legs are its symptoms. He said that in the concerned areas, if any person has consumed open mustard or the oil extracted from it in the past and such symptoms are visible in his body, he should immediately go to the nearest health center and get his treatment done. He said that instructions have been given to the health department and officials regarding its treatment.